ENG | HINDI

वो अलफ़ाज़ जिन्हें पढ़कर इश्क़ को भी इश्क़ हो जाये

9

देखना जज़्बे मोहब्बत का असर आज की रात

मेरे शाने पे है उस शोख़ का सर आज की रात

और क्या चाहिय अब ये दिले मजरूह तुझे

उसने देखा तो बन्दाज़े दीगर आज की रात

-मज़ाज़ लखनवी

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10

Article Tags:
· · · ·
Article Categories:
प्रेम

Don't Miss! random posts ..