ENG | HINDI

वो अलफ़ाज़ जिन्हें पढ़कर इश्क़ को भी इश्क़ हो जाये

2

चौदहवीं रात के इस चाँद तले सुरमई रात में साहिल के क़रीब

दूधिया जोड़े में आ जाए जो तू ईसा के हाथ से गिर जाए सलीब

बुद्ध का ध्यान चटख जाए ,कसम से तुझ को बर्दाश्त न कर पाए खुदा भी

दूधिया जोड़े में आ जाए जो तू चौदहवीं रात के इस चाँद तले !

-गुलज़ार

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10

Article Tags:
· · · ·
Article Categories:
प्रेम

Don't Miss! random posts ..