ENG | HINDI

इन 10 फिल्मों के बिना अधूरी है हॉस्टल लाइफ

rang-de-basanti

६ . हेरा फेरी –

ऐ राजू ……. , बाबु भैय्या……. उठा ले रे देवा उठा ले , मुझे नहीं इन दोनों को उठा ले …  ये संवाद किसी ना किसी कमरे में रोज़ ही गूंजते मिलेंगे , और साथ मिलेगा दोस्तों का एक हुजूम ठहाके लगता हुआ किसी तवो या थ्री सीटर रूम में . ऐसा जलवा है हेरा फेरी का . अनगिनत बार देखना भी कम है इसे. और अगर वक्त नहीं तो भी कोई बात नहीं आगे बढाकर इसके चुनिंदा सीन देखते हुए कोई न कोई मिल जायेगा , चाहे बाबु भैया का टेलेफोन हो या खडग सिंह और श्याम की लुक्का छुपी .

hera-pheri

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10

Don't Miss! random posts ..