ENG | HINDI

आपके उन पलों को और इंटिमेट बना देंगे ये ये 4 सिंपल योगासन

योगासन

योगासन – सफल होने की इस दौड़ में महिला-पुरुष दोनों काम कर रहे हैं और वे अपना शत प्रतिशत फिलहाल अपना करियर बनाने में दे रहे हैं।

जिसके कारण उनकी पर्सनल और लव लाइफ पीछे छूट रही है। और वे इसके तरफ करियर बनाने के दौरान ध्यान भी नहीं देते हैं। जिसका परिणाम ब्रेकअप या तलाक के रुप में मिलता है। दरअसल काम के तनाव के कारण लोग इतने थक जाते हैं कि वे एक-दूसरे पर ध्यान नहीं देते हैं जिसके बाद उनके बीच में कुछ भी एक्साइटेड नहीं होता। जब ये एक्साइटमेंट नहीं होता है तो लोगों का अलग होना भी लाज़िमी है। इस लाज़िमी को कैसे गैर लाज़िमी बनाया जाए?

इसका जवाब छुपा है इन 5 सिंपल योगासन में।

योगासन ही क्यों?

योग आपका तनाव कम करता है और आप में चुस्ती-फूर्ती लाता है जिससे आप पर काम का प्रेशर हावी नहीं होता है और आपमें पूरी एनर्जी में रहती है। दरअसल योग आपकी बॉडी के सभी कामों को नेचुरल रिदम में करना सिखाता है। यहां तक कि यह आपके प्राइवेट मोमेंट्स को बूस्‍ट करने में भी हेल्‍प करता है। जैसे कई महिलाओं को फोकस करने में परेशानी होती है जिसके चलते वह प्राइवेट मोमेंट्स को बेहद ही उबाऊ या अनइमोशनल बना देती है जिससे उनकी शादीशुदा जिंदगी में थोड़ी परेशानी आने लगती है। इसी तरह पुरुष भी दिन भर की थकावट के कारण बिस्तर में उतने एनर्जेटिक नहीं रह पाते हैं जिससे उनकी पार्टनर खफा हो जाती हैं।

ये 4 सिंपल योगासन आपकी इस परेशानी और खफा को कम करता है और आपके स्पेशल पलों में इंटिमेसी बढ़ाने में भी हेल्‍प करता है।

इस बारे में स्‍वामी परमानंद प्राकृतिक चिकित्‍सालय योग एवं अनुसंधान केन्‍द्र की आयुर्वेदिक डॉक्‍टर दुर्गा अरुंद कहती हैं कि ”कुछ योगासन को करने से प्राइवेट मोमेंट्स को बूस्‍ट करने में हेल्‍प मिलती है क्‍योंकि यह आसन रिपोडक्टिव एरिया में ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ाने, चक्रों को प्रेरित करने और हार्मोन के स्राव को बढ़ाने में हेल्‍प करते हैं।”

1 – वशिष्ठासन यानी प्लैंक्स

इस योगासन के कारण से आपमें सेक्‍सुअल कॉफिडेंस आता है और आपकी स्‍ट्रेंथ बिल्डि़ग पोश्‍चर बनती है। इसके अलावा यह आपकी पीठ और कोर मसल्‍स पर काम करता है जिससे आपकी इंटिमेंसी के दौरान आप अपने पोश्‍चर को ज्‍यादा देर तक बनाकर रख पाते हैं और आप जल्दी थकते भी नहीं होते हैं।

इस तरह करें-

यह योगासन करने के लिए सबसे पहले जमीन पर पुशअप पॉजीशन में आ जायें। अब इस पॉजीशन में बॉडी का भार हथेलियों की बजाय अपनी बांहों पर रखें। इस पॉजीशन में आपकी बॉडी सिर से लेकर पैर तक एक सीध में होनी चाहिए। आप प्लैंक में थोड़ा बदलाव भी ला सकती हैं जैसे कि आप हिप्स को उठाकर या भुजंगासन पॉजीशन में भी इस एक्सरसाइज को कर सकती हैं।

तो देर किस बात की आप भी आज ही अपना मनपसंद योगासन करें।

2 – मार्जारी आसन यानी काउ स्ट्रेच

आपके उन पलों को और

मार्जारी आसन यानी काउ स्ट्रेच आपके कीगल मसल्‍स पर काम करता है। क्‍योंकि यह पेल्विक एरिया के मूवमेंट को कंट्रोल करने में हेल्‍प करते है। जी हां इस योग को करने से आप अपनी बॉडी की निचली मसल्‍स में ब्‍लड सर्कुलेशन बढ़ा सकती है।

इस तरह करें-

इस योगासन को करने से पहले दोनों घुटनों और दोनों हाथों को जमीन पर रखकर घुटने पर खड़े हो जाएं।
फिर हाथों को जमीन पर बिलकुल सीधा रखें। ध्यान रखें कि हाथ कंधों की सीध में हों और हथेली फर्श पर इस तरह टिकाएं कि उंगलियां आगे की तरफ फैली हों।

हाथों को घुटनों की सीध में रखें, बाजू और हिप्‍स भी फर्श से एक सीध में होने चाहिए।
इसके बाद रीढ़ को ऊपर की तरफ खींचते हुए सांस अंदर खींचें। इसे इस स्थिति तक लाएं कि पीठ अवतल अवस्था में पूरी तरह ऊपर खिंची हुई दिखे।

सांस अंदर की ओर तब तक खींचती रहें जब तक कि पेट हवा से पूरी तरह भर न जाए। इस दौरान सिर का ऊपर उठाए रखें। सांस को तीन सेकंड तक भीतर रोक कर रखें। इसके बाद पीठ को बीच से ऊपर उठाकर सिर नीचे झुकाएं। सांस धीरे-धीरे बाहर छोड़ें और पेट को पूरी तरह खाली कर दें और हिप्‍स को अंदर की तरफ खींचें। सांस को फिर तीन सेकंड तक रोकें और सामान्य दशा में वापस आ जाएं।

3 – सुप्त बद्धकोणासन यानि

योगासन

यह योगासन आपकी थाई और हिप्‍स को स्ट्रेच कर उनमें लचीलापन लाता है। इससे आपकी पीठ दर्द की समस्या भी ठीक हो जाएगी जो कि ऑफिस में नौ घंटे बैठने के बाद अमूमन हर किसी को होती है। साथ ही यह आपकी बॉडी में ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ाकर आपके एनर्जी लेवल को बढ़ाता है।

इस तरह करें-

शवासन करने के लिए सबसे पहले जमीन पर पीठ के बल लेट जाएं। बांहों को शरीर के दोनों तरफ पैर की दिशा में फैलाकर रखें। इस पॉजिशन में हथेलियां छत की दिशा में रहनी चाहिए। घुटनो को मोड़ें और तलवों को जमीन से लगाकर रखें। दोनों तलवों को नमस्कार की मुद्रा में एक दूसरे के करीब लाकर जमीन से लगाएं। जितना संभव हो एड़ियों को हिप्‍स की ओर करीब लाएं। इस पॉजिशन में 30 सेकेण्ड से 1 मिनट तक बने रहें। हाथों से दोनों हिप्‍स को दबाएं और धीर धीरे सामान्य स्थिति में लौट आएं।

4 – भुजंगासन यानि कोबरा पोज

योगासन

अगर आपको कई दिनों से पीरियड्स नहीं आ रहे हैंतो यह योगासन आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है। दरअसल कोबरा पोज सीधे आपकी ओवरी और यूटरस को हेल्‍थ बेनिफिट्स देती है। यह बॉडी के निचली मसल्‍स में लचीलापन बढ़ाने में हेल्‍प करता है और महिलाओं को पीठ दर्द में राहत देता है और निचले हिस्‍से की मसल्‍स की हेल्‍थ में सुधार लाता है, जिससे उन पलों में आपके निचले मसल्स में ज्यादा हार्मोन्स का स्राव होता है और आपमें इंटिमेंसी का एहसास बढ़ता है।

इस तरह करें-

सबसे पहले पेट के बल लेट जाएं। अब पेट के पास अपने दोनों हाथों को रखें। फिर दोनों पैरों को एकदूसरे से दूर कर लें और पंजों को ऊपर की तरफ रखें और उनसे जमीन पर प्रेशर बनाएं। हथेलियों से जमीन पर प्रेशर डालें और दोनों कोहनी को शरीर के पास रखें। अब बिना हाथ का सहारा लिए कमर से ज़ोर लगाएं। धीरे धीरे चेस्‍ट को जमीन से ऊपर उठायें, कंधों को पीछे की तरफ लेकर जाएं।
जब आपकी कमर की मसल्‍स और पैरों पर प्रेशर बने तो हाथों का सहारा लें।

इस अवस्था में दस से बीस सेकेण्ड तक रहें, धीरे धीर सांस लेते रहें और फिर इसके बाद धीरे धीरे जमीन पर आ जाएं।

तो फिर देर किस बात की है, आज से ही योगासन करना शुरू कर दें और अपने टूटते रिश्ते को बचाएं। क्योंकि एक बार को आप पैसे के बिना तो जी लेंगे लेकिन अकेले नहीं जी पाएंगे। तो आज से ही ये योगासन करना शुरू कर दें और अपनी लव लाइफ को और अधिक खुशनुमा बनाएं।

Article Tags:
·
Article Categories:
सेहत

Don't Miss! random posts ..