ENG | HINDI

शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष को मारने आया दाऊद का शूटर !

दाऊद का शूटर

दाऊद का शूटर – दाउद के नाम के छाये आतंक पर दिल्ली पुलिस ने अपनी नकल कसनी शुरू कर दी है।

हाल ही में दिल्ली पुलिस ने मोस्ट वांटेड अंडरवर्ल्ड डॉन ‘दाउद इब्राहिम’ के गिरोह के एक शार्प शूटर को गिरफ्तार किया है।

जानकारी के मुताबिक यह दाऊद का शूटर यूपी शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष ‘सयैद वसीम रिजवी’ की हत्या करने के मकसद से आया था। इसके अलावा पुलिस के मुताबिक आरोपी दाऊद का शूटर है जिसकी पहचान मुज़ीर जिलानी शेख के रूप में हुई है। फिलहाल पुलिस ने इस मामलें में और कोई बड़ा खुलासा नहीं किया है।

दाऊद का शूटर

मुज़ीर जिलानी शेख से पहले स्पेशल सेल ने वसीम रिजवी के कत्ल की साजिश करने वाले दाउद के तीन अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार किया था। यह तीनों भी वसीम रिजवी की हत्या करने के मकसद से आये थे, लेकिन पुलिस ने इन्हें गिरफ्तार कर इनके मंसूबों पर पानी फेर दिया। इन तीनों आरोपियों के पास से पुलिस ने हथियार बरामद किये थे। पुलिस ने सभी आरोपियों को उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर से गिरफ्तार किया था। इन तीनों की गिरफ्तारी के बाद ही निशानदेही होने पर पुलिस की स्पेशल सेल ने मुज़ीर जिलानी शेख को गिरफ्तार किया। पुलिस ने मुज़ीर जिलानी के पास से हथियार भी बरामद किये है।

स्पेशल सेल ने अपनी जांच में बताया कि गिरफ्तार बदमाशों में से एक संदिग्ध दाउद के सहयोगी से मिलने के लिए हाल ही में दुबई भी गया था। फिलहाल स्पेशल सेल ने मुजीर को कोर्ट में पेश कर 10 दिन की रिमांड की मांग की है। जिसके बाद वह उसे लेकर मुंबई जाएगी और शिया वक्फ बोर्ड के चैयरमैन वसीम रिजवी की हत्या की साजिश में शामिल दाऊद के अन्य तमाम शार्प शूटर्स को गिरफ्तार करने की कोशिश करेगी।

दाऊद का शूटर

पुलिस के आकड़ो के मुताबिक मुज़ीर जिलानी एक बड़ा शातिर बदमाश है, जिसके खिलाफ कई पुलिस स्टेशनों में अन्य कई बड़े मुकद्दमें भी दर्ज है। वह काफी लम्बें समय से दाऊद का शूटर है। पुलिस का मानना है कि पुलिस मुज़ीर जिलानी शेख के जरिए दाऊद के अन्य गुर्गो को पकड़ने के लिए जानकारियां इकट्ठा कर सकती है।

सुपारी की पहली पेमेंट थी 400 दिरहम

आपकों बता दे कि स्पेशल सेल ने मुज़ीर जिलानी शेख से पहले भी दाऊद के तीन गुर्गो को गिरफ्तार किया था।

जिसके बाद इन तीनों आरोपियों ने कडी पूछताछ में बताया कि दुबई में इन लोगों को वसीम रिजवी की हत्या की सुपारी दी गई थी। सुपारी की पहली पेमेंट के तौर पर इन लोगों को 400 दिरहम (करीब 72,552 रूपये) दिये गए थे और सुपारी की शेष राशी वसीम रिजवी की हत्या के बाद दी जानी थी।

आपको बता दे कि यूपी शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी वही शख़्स है, जो अयोध्या के विवादित स्थल पर मंदिर बनाने के मामले पर विवादित बयान देते रहते है। रिजवी ने कुछ समय पहले ही अपनी जान के खतरे की बात कही थी, जिसके बाद पुलिस इस मामलें की जांच पड़ताल में लग गई। गौरतलब है कि स्वामी चक्रपाणी की हत्या के लिए भी इसी तरह की साजिश की गई थी।

Don't Miss! random posts ..