ENG | HINDI

क्यों हो जाती है हमारी आंखें कमजोर, जानिए मुख्य कारण

आंखें कमजोर

आंखें कमजोर – दुनियाभर की खूबसूरती को देखने और निहारने के लिए ईश्‍वर हमें आंखों के रूप में एक अनमोल उपहार दिया है।

अपनी खराब जीवनशैली के चलते हम इस अनमोल उपहार को स्‍वस्‍थ नहीं रख पाते हैं जिसकी वजह से आंखें कमजोर होने लगती हैं।

अगर आप आंखों के कमज़ोर होने की आदतों और कारणों के बारे में जान लें तो आप अपनी आंखों को इस दिक्‍कत से बचा सकते हैं। आज हम आपको आंखें कमजोर करने वाली आदतों के बारे में ही बताने जा रहे हैं

लेटकर टीवी देखना

 

घंटों तक लेटकर टीवी देखने की वजह से भी आंखें कमजोर हे सकती हैं। टीवी से निकलने वाली हानिकारक किरणें आंखों की रोशनी को कम कर देती हैं इसलिए लेटकर टीवी देखने की अपनी आदत को अभी बदल दें।

ज्‍याद देर तक धूप में रहने से

ऐसा माना जाता है कि सूर्य की हानिकारक किरणें आंखों की कोर्निया को जला सकती हैं और इसकी वजह से आंखों की रोशनी तक जा सकती है। सूरज की किरणों के सीधे संपर्क में नहीं आना चाहिए। धूप में निकलते समय आंखों पर सनग्‍लासेस जरूर लगाएं।

मोबाइल का ज्‍यादा इस्‍तेमाल

टेक्‍नोलॉजी का सबसे बुरा असर आंखों पर पड़ा है। दिनभर मोबाइल में व्‍यस्‍त रहना सिरदर्द और आंखों में दर्द का कारण बन रहा है। लगातार मोबाइल यूज़ करने से उसकी स्‍क्रीन से निकलने वाली इलेक्‍ट्रेसमैग्‍नेटिक किरणें आंखों के रेटिना और कोर्निया को नुकसान पहुंचाती हैं।

कम रोशनी में पढ़ाई करना

कम रोशनी में पढ़ाई करने पर आंखों पर ज्‍यादा जोर पड़ता है। ऐसे में आंखों की पुतलियां फैल जाती हैं और इससे आंखों के फोकस में दूर और पास की चीज़ों के बीच फर्क कम हो जाता है। इसके अलावा घंटों तक कंप्‍यूटर के आगे बैठने की वजह से भी आंखें कमजोर हो जाती हैं। कंप्‍यूटर और आंखों के बीच की दूरी कम होती है और इस वजह से कंप्‍यूटर से निकलने वाली नीली रोशनी आंखों पर बुरा असर डालती है। इससे आंखों की नमी कम हो सकती है और आंखों में ड्राई आई सिंड्रोम की दिक्‍कत हो सकती है। इस बीमारी की वजह से आंखो में दर्द रहता है।

धूम्रपान और शराब का सेवन

धूम्रपान शरीर के बाकी अंगों के साथ-साथ आंखों को भी नुकसान पहुंचाता है। ज्‍यादा धूम्रपान करने की वजह से आंखों में लाल रंग के धब्‍बे पड़ जाते हैं। इससे आंखों की रोशनी कम हो जाती है और अन्‍य नेत्र रोगों का खतरा भी बढ़ जाता है। वहीं शराब का असर भी आंखों की सेहत पर पड़ता है। इससे आंखों की रोशनी कम होने साथ-साथ उनमें लालिमा कम होने लगती है। रंगों के प्रति संवेदनशीलता कम होने लगती है। अगर आप प्रकृति के इस अनमोल उपहार को सुरक्षित रखना चाहते हैं तो शराब और सिगरेट आदि छोड़ दें।

ये वजहें हो सकती है आंखें कमजोर होने की – ज़रो सोचकर देखिए अगर एक मिनट के लिए भी आपकी आंखों की रोशनी चली जाए तो आप क्‍या करेंगें। सोचकर ही डर लगता है कि आंखों के बिना तो इस जीवन की कल्‍पना ही नहीं की जा सकती है। तो फिर आज से ही अपनी आंखों का ख्‍याल रखना शुरु कर दीजिए ताकि आप किसी भी रोग से बच सकें।

Don't Miss! random posts ..