ENG | HINDI

नैतिकता के हवलदारों के मुहं पर करारा तमाचा, सुप्रीम कोर्ट ने कहा पोर्न देखना गुनाह नहीं

watching porn is not a crime

इसी याचिका पर सुनवाई करते हुए तत्कालीन जज ने कहा था कि इन्टरनेट पर व्यस्क सामग्री और पोर्न की रोकथाम के लिए कानून बनाया जायेगा.

उसी याचिका पर इस बार फिर से सुनवाई हुयी तो नए जज HL दत्तु ने कहा कि इस तरह की साइट्स पर रोक का मतलब है व्यक्तिगत आज़ादी के मौलिक अधिकार को छीनना.

3

1 2 3 4

Don't Miss! random posts ..