ENG | HINDI

147 साल तक जिंदा रहे ये सऊदी अरब के व्यक्ति की डाइट सुन हैरान रह जायेंगे आप!

शेख अली अल-अलकमी

शेख अली अल-अलकमी – एक वक्त था जब मनुष्य की आइडल उम्र 100 वर्ष मानी जाती थी लेकिन अब बदलते खान-पाव औऱ प्रदूषित वातावरण के चलते व्यक्ति की उम्र कम होती जा रही है औऱ विरला ही ऐसे व्यक्ति होते हैं जो 100 साल तक जीते हैं। आज के वक्त में शायद ही कोई ऐसा इंसान होगा जो कि इससे ज्यादा उम्र की कल्पना करता होगा।

हां, एक वक्त था जब 100 साल की उम्र बहुत ही साधारण सी बात मानी जाती थी लेकिन अब बदलते वक्त ने उम्र के इस मानक को भी बदल दिया है।

आजकल के वक्त में तो लोग इसे चमत्कार ही मानने लगे हैं लेकिन आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी उम्र जानकर आप चौंक ही जाएंगे। जी हां, इनकी उम्र का आंकड़ा किसी के लिए भी होश उड़ा देने वाला हो सकता है क्योकि शायद ही आज के भागते-दौड़ते वक्त में और प्रदूषण से भरी आबोहवा में कोई इस उम्र के बारे में सोच भी सकता है। अब आप खुद ही सोचिए कि अगर मै आपसे कहूं कि आज के वक्त में कोई इंसान 147 साल की उम्र को पार कर गया तो क्या आप इस बात को मानेंगे, मै समझ सकती हूं कि आपके लिए इस बात पर यकीन करना मुश्किल है।

शेख अली अल-अलकमी

जी हां, इऩ्होने जीवन के 147 बसंत देखे औऱ उसके बाद ये परलोक सिधारे। इनकी उम्र का आंकड़ा तो चौंका देने वाला है ही लेकिन साथ ही इनकी खुराक भी आपको चौंका कर रख देगी।

सउदी के रहने वाले शेख अली अल-अलकमी का 147 साल की उम्र में अभा में निधन हो गया। वो एक खास किस्म का आहार लिया करते थे और उनके बारे में सबसे खास बात ये थी कि उन्हे कार में सवारी करने से बेहद चिढ़ था, वो कोशिश करते थे कि अधिक से अधिक पैदल चले। इस उम्र में भी वो अभा से मक्का तक पैदल यात्रा किया करते थे।

शेख अली अल-अलकमी

अगर शेख अली अल-अलकमी के खाने की बात की जाएं तो वो  हमेशा अपने खेत के अनाज, गेहूं, मक्का, जौ और शहद से खाया करते थे। साथ ही उन्हे ताज़ा गोशत खाना भी बेहत पसंद था। इसके अलावा उनके बारे में मिली जानकारी के अनुसार, शेख अली हमेशा अपने पास कुरान-ए-पाक रखते थे और रोज़ क़ुरान-ए-पाक पढते थे। उन्हे पैदल चलना भी बहुत भाता था।

अगर बात उनके परिवार की करें तो शेख अली अल-अलकमी का एक बेटा था जिसकी मौत हो गई थी। उनके एक बेटी भी है। उन्होंने अपनी मौत से पहले कहा था कि, “अब औऱ पहले के ज़माने में चीज़ों औऱ लोगों के बीच काफी अंतर है। पहले लोग और चीज़े दोनों ही बेदह खूबसूरत हुआ करती थी, मेरी पीढ़ी के ज्यादातर लोग इस दुनिया से विदा ले चुके हैं इसलिए मै अब अकेला महसूस करता हूं”

शेख अली अल-अलकमी की ब्रेन स्ट्रोक से मौत हो गई। उनके आस-पास के लोगों का कहना है कि वो इस उम्र में भी जोश और जज्बे से लबरेज़ थे जबकि आजकल तो जवान लड़के भी जल्‍दी थक जाते हैं।

Don't Miss! random posts ..