ENG | HINDI

आजादी के दौर में अपनी लव लाइफ को दुनिया से कैसे छिपाते थे राजनेता

राजनेता की लव लाइफ

राजनेता की लव लाइफ – भारत ही नहीं बल्कि दूसरे देशों में भी राजनीतिक गलियारों की लव स्‍टोरीज़ को स्‍पेशल कवरेज मिलती है। आज बात राहुल गांधी की हो या फिर यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव की, उनकी लव स्‍टोरी ने अखबारों और सोशल मीडिया पर खूब सुर्खियां बटोरी हैं।

ये तो बात रही है आज के दौर की लेकिन प्रेम कहानियां को पुराने राजनीतिक दौर में भी रही होंगीं तो फिर उस समय राजनेताओं की लव स्‍टोरीज़ कैसे छिप जाया करती थीं ?

आज हम दोस्‍तों इसी बात पर चर्चा करने वाले हैं राजनेता की लव लाइफ – पुराने दौर यानि नेहरू जी और अटल बिहारी सिंह जैसे दिग्‍गज नेताओं के दौर में उनकी प्रेम कहानियां और प्‍यार के किस्‍से कैसे छिप जाया करते थे।

राजनेता की लव लाइफ –

तो चलिए शुरुआत करते थे नेहरू जी से …

खबरों की मानें तो नेहरू जी बड़े आशिकमिजाज किस्‍म के नेता थे। नेहरू की पत्‍नी का देहांत 1936 में हो गया था और इसके बाद नेहरू का नाम कई महिलाओं से जोड़ा गया। इनमें देश के आखिरी वायसराय की पत्‍नी एडविना माउंटबेटन भी थीं। वो दोनों करीबी दोस्‍त थे लेकिन उनके बीच दोस्‍ती से ज्‍यादा कुछ था। जिन्‍ना भी एडविना पर जान देते थे और तीनों के बीच लव ट्राएंगल चल रहा था। हालांकि, इस बात की भनक जनता को नहीं लग पाई थी।

अटल जी की कहानी

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री और राजकुमारी कौल के बीच ऐसा रिश्‍ता था जिसका कोई नाम नहीं था। 40 में जब अटल जी ग्‍वालियर में पढ़ाई करते थे तो उनके ही कॉलेज में राजकुमारी कौल पढ़ती थी। अटल जी और राजकुमारी कौल की उस समय प्रेम कहानी बहुत खूबसूरत थी। अटल जी उस राजकुमारी से सच्‍चा प्रेम करते थे और हर प्रेमी की तरह वो भी अपने प्‍यार को अपनी मंजिल तक पहुंचाना चाहते थे। अटल जी ने एक प्रेम पत्र लिखा और उसे लाइब्रेरी की एक किताब में रख दिया लेकिन इस खत का कोई जवाब नहीं आया। जब राजकुमारी कौल के पति की मौत हो गई थी तो अटल जी ने बेटियों समेत उनके पूरे परिवार को अपना लिया था। साल 2014 में मिसेज कौल की भी मृत्‍यु हो गई और अपने अंतिम समय में वो अटल जी के साथ ही रही थीं।

इसी तरह जिन्‍ना भी अपनी से काफी उम्र की लड़की के प्‍यार में पड़ गए थे और उन्‍होंने उस लड़की से शादी भी रचाई थी। इंदिरा गांधी की लव स्‍टोरी भी कुछ कम नहीं है। उस दौर में जब हिंदू-मुस्लिम का पार्टिशन हुआ था तब इंदिरा ने एक मुस्लिम शख्‍स से शादी की थी।

हालांकि, इन खबरों को उस दौर में ज्‍यादा तूल नहीं मिल पाया क्‍योंकि तब सोशल मीडिया, इंटरनेट और मीडिया का ज़माना नहीं था। तब लोगों को अपने रिश्‍तेदारों तक बात पहुंचाने में ही कई दिन लग जाते थे तो फिर ऐसी खबरों को निकालना तो बहुत मुश्किल था।

ये थी राजनेता की लव लाइफ – अब आज अगर किसी नेता या सिलेब्रिटी का अफेयर होता या वो किसी लड़की के साथ फोटो भी खिंचवा ले तो वो राष्‍ट्रीय मुद्दा बन जाता है। अब आप कह सकते हैं कि पुराने जमाने में नेता लोग बड़ी आसानी से अपनी पर्सनल लाइफ को छिपा लेते थे जबकि आज ये कर पाना मुश्किल है।

Don't Miss! random posts ..