ENG | HINDI

इतिहास के पन्नों में अमर हैं ये 8 प्रेम कहानियाँ !

इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ

इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ – प्यार तो हर इंसान करता है.

आज के समय में भी लोग सच्चा प्यार करते हैं. दुनियाभर में कई प्यार के किस्से हैं जिसने काफी सुर्खियां बटोरने का काम किया लेकिन इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ ऐसी हैं जो सदा के लिए अमर हो गई. जब प्यार की बात होती है तो इन प्रेमियों और इनकी प्रेम कहानियों की मिसालें दी जाती है.

आइए जानते हैं इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ – इतिहास के पन्नों में अमर हो चुकी 8 प्रेम कहानियों के बारे में

इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ –

१ – मोहम्मद कुली और भागमती

16वीं सदी की इनकी प्रेम कहानी ऐसी है जिसके बारे में आपको ज्यादा कुछ पढ़ने को नहीं मिलेंगे क्योंकि कुछ लोग इस प्रेम कहानी के वजूद पर सवाल भी उठाते हैं. लेकिन किस्से कहानियों की बात मानें तो मोहम्मद कुली और भागमती की प्रेम कहानी कभी निश्चित रुप से हुआ करती थी. बात 1580-1612 की है जब सुल्तान मुहम्मद कुली कुतुब शाह को भागमती से पहली ही नजर में प्यार हो गया था. अपनी सच्ची मोहब्बत के सम्मान में मोहम्मद कुली ने भावनगर नाम के एक शहर की स्थापना भी की थी. वर्तमान में उसी भावनगर को हम हैदराबाद के नाम से जानते हैं.

इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ

२ – बाज बहादुर और रानी रूपमती

रानी रूपमती दिखने में बेहद खूबसूरत थीं. उनकी खूबसूरती के साथ-साथ उनकी आवाज भी बहुत खूबसूरत और मनमोहक थी. उनकी इसी बात पर बाज बहादुर अपनी जान छिड़कते थे. वे एक दूसरे से बेपनाह मोहब्बत करते थे. दोनों ने शादी कर ली इसी समय की बात है जब अकबर ने मालवा पर आक्रमण किया था. अकबर के साथ युद्ध के दौरान बाज बहादुर हार गए इधर उनकी पत्नी रूपमती आत्महत्या कर ली. बाज बहादुर कुछ सालों तक तो युद्ध लड़े लेकिन आखिरकार उन्होंने ने हार मान ली और अकबर की सेना में शामिल हो गए.

इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ

३ – जमालुद्दीन याकुत और रजिया सुल्तान

एक अफ्रीकी गुलाम था जमालुद्दीन याकुत. उसने रजिया सुल्तान को अपना दिल दे दिया. रजिया सुल्तान दिल्ली की पहली महिला शासक थीं. इन दोनों की प्रेम कहानी की वजह से विद्रोह हुए और उसी विद्रोह के दौरान जमालुद्दीन याकुत की मृत्यु भी हो गई. उसके बाद जबरदस्ती मलिक अल्तुनिया से रजिया सुल्तान का निकाह हो गया और कुछ समय के बाद ही एक विद्रोह के दौरान अल्तुनिया और सुल्तान दोनों की ही मृत्यु हो गई.

इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ

४ – बाजीराव और मस्तानी

मस्तानी और बाजीराव की प्रेम कहानी पर फिल्म भी बनाई जा चुकी है जिसे लोगों ने काफी पसंद किया. 18वीं सदी की ये प्रेम कहानी इतिहास के पन्नों में अमर है. बाजीराव एक ऐसा योद्धा था जो कोई भी युद्ध नहीं हारता था. इधर मुस्लिम महिला और हिंदू राजा की बेटी थी मस्तानी. बाजीराव-मस्तानी से बेपनाह मोहब्बत करते थे. जबकि बाजीराव की पहले भी शादी हो चुकी थी. अपनी पहली पत्नी के विरोध करने के बावजूद साथ ही बाजीराव के बच्चों ने भी मस्तानी को छोड़ने के लिए काफी कहा लेकिन इन सबके बावजूद बाजीराव ने किसी की बात नहीं मानी. वो मस्तानी को किसी भी सूरत में नहीं छोड़ना चाहते थे. आखिरकार बाजीराव की मृत्यु हो गई. जिसके कुछ ही समय बाद मस्तानी ने भी इस दुनिया को अलविदा कह दिया.

५ – पृथ्वीराज चौहान और संयुक्ता

कन्नौज की राजकुमारी और दिल्ली के राजा पृथ्वीराज चौहान की ये प्रेम कहानी इतिहास के पन्नों में सुनहरे अक्षरों से लिखी जा चुकी है जो कभी मिटने वाली नहीं. इस दिलचस्प प्रेम कहानी के किस्से जितनी भी बार सुनें ऐसा लगता है पहली बार सुन रहे हैं. बिना देखे ही दोनों ने एक दूसरे को दिल दे दिया था. राजकुमारी संयोगिता के पिता पृथ्वीराज चौहान के दुश्मन बने बैठे थे किसी भी सूरत में अपने बेटी का हाथ पृथ्वीराज चौहान के हाथ में नहीं देते. आखिरकार प्रेमी पृथ्वीराज ने संयुक्ता की मर्जी से उनका अपहरण कर लिया और उनसे शादी कर ली. इसके बाद मोहम्मद गोरी से युद्ध के दौरान पृथ्वीराज चौहान की हार हो गई. फिर राजा पृथ्वीराज चौहान की हत्या कर दी गई. इधर संयुक्ता ने भी आत्महत्या कर ली.

इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ

६ – शाहजहां और मुमताज महल

आगरा में बने ताजमहल उनके प्रेम कहानी की मिसाल दे रही है. शाहजहां अपनी बेगम मुमताज से बेपनाह मोहब्बत करते थे. अपने 14वें बच्चे देने को जन्म देने के दौरान मुक्षताज की मृत्यु हो गई थी. जिनकी याद में शाहजहां ने खूबसूरत ताजमहल का निर्माण करवाया था.

इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ

७ – महेंद्र और मूमल

इन दोनों को आप राजस्थान के लैला मजनू के नाम से जानते हैं. महेंद्र शादीशुदा थे ये जानते हुए भी खूबसूरत राजकुमारी मूमल ने अपना दिल महेंद्र को दे दिया. दोनों एक-दूसरे से बेपनाह मोहब्बत करने लगे. सब के मना करने के बावजूद ये दोनों एक-दूसरे से छुप-छुप कर मिला करते थे. उनकी मोहब्बत का अंजाम ये हुआ की महेंद्र को सजा दी गई. इस सजा के रूप में उसे कुएं में फेंकवा दिया गया. और मूमल अपनी मोहब्बत यानी महेंद्र का इंतजार करती रह गई.

८ – अशोक और कौरवकी

तीसरी सदी की ये प्रेम कहानी भी इतिहास के पन्नों में अमर है. जब अशोक को उनके पिता ने अपने राज्य से निर्वासित कर दिया तो उसके बाद अशोक एक मछुआरे परिवार से संबंध रखने वाली कौरवकी से मिले. दोनों की शादी भी हो गई. अशोक ने जब कलिंग पर जीत हासिल की तो उसके बाद उनकी सोच पूरी तरह बदल गई. उनका झुकाव बौद्ध धर्म की तरफ होने लगा. हलांंकि अशोक ने दूसरी शादी भी की लेकिन कौरवकी उनकी पहली और सच्ची मोहब्बत बनी रही. हमेशा कौरवकी अशोक की प्रेरणाश्रोत रहीं.

इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ

ये इतिहास की अमर प्रेम कहानियाँ ऐसी है जो हमेशा के लिए अमर हो गई है. इन प्रेम कहानियों से जुड़े कई किस्से और कहानियां आपको सुनने को मिलते रहे हैं और आगे भी मिलते रहेंगे. इन प्रेम कहानियों के ऊपर कई फिल्में भी बनाई जा चुकी है जिसे लोगों ने खूब पसंद किया.

Don't Miss! random posts ..