ENG | HINDI

जानिए स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी के साफे के पीछे का राज

पीएम मोदी का साफा

पीएम मोदी का साफा – 15 अगस्त यानि आज भारत अपना 72वां स्वंत्रता दिवस मना रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गाड़ियों का काफिला सुबह सात बजकर 13 मिनट पर जैसे ही लालकिले पर आकर रूका, वहां पीएम की एक झलक पाने के लिये जुटे हजारों लोगों ने तालियां बजाकर उनका अभिवादन किया. भारत की स्वतंत्रता की 72वीं वर्षगांठ के अवसर पर पीएम मोदी ने ऐतिहासिक लालकिले की प्राचीर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया. यह पीएम मोदी के कार्यकाल का अंतिम स्वतंत्रता दिवस है. इस बार पीएम अपनी खास पहचान माने जाने वाले सफेद कुर्ते-पैजामे और खूबसूरत भगवा और लाल बंधेज किनारी वाली पगड़ी पहने नजर आए.

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज लालकिले की प्राचीर से देश को संबोधित किया.

पीएम मोदी का साफा

स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का साफा चर्चा में

वैसे तो पीएम मोदी अपने भाषणों को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं. इसके साथ-साथ अपनी ड्रेसिंग सेंस को लेकर भी वह चर्चा में रहते हैं. आज उन्होने सफेद पैजामा-कुर्ते के साथ केसरिया साफा पहना जिसकी किनारी लाल बंधेज की थी. इससे पहले अपने 15 अगस्त के पूर्व के 4 भाषणों के दौरान पीएम मोदी ने अलग-अलग रंग की पगड़ी पहनी थी. जिसने मीडिया और सोशल मीडिया पर काफी सुर्खियां बटोरी थी.

इस बार पहना केसरिया साफा

एक बार फिर पीएम मोदी ने साफा पहनकर इस परंपरा को बनाए रखा. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने 15 अगस्त के मौके पर आन-बान-शान का प्रतीक माने जाने वाली पगड़ी या साफे का चलन शुरू किया था. साल 2014 में बतौर प्रधानमंत्री बनने के बाद  पहली बार लालकिले पर देश को संबोधित किया था तो उस दौरान उन्होंने पहली बार साफा पहना था.

पगड़ी पहनने की वजह

प्रत्येक स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी का एक नया लुक हमेशा सामने आया है. मोदी जहां भी जाते हैं वहीं की जनता, कल्चर और हेरिटेज से कनेक्ट होने की भरपूर कोशिश करते हैं. उनकी ये कोशिश ड्रेस के कलर सिलेक्शन, एसेसरीज से लेकर बॉडी लैंग्वेज तक में झलकती है. कब क्या बोलना है और कब कैसा दिखना है मोदी बकायदे हर चीज का होमवर्क करके रखते हैं. पीएम मोदी ने अपने पहनावे से खादी उद्योग, कॉटन उद्योग और कई राज्यों की परंपरा को भी इसके जरिए प्रमोट किया है. आपको बता दें कि  पीएम मोदी का साफा खासकर गुजरात, राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश सहित देश के अन्य हिस्सों में इस शान से जोड़कर देखा जाता है.

पिछले 4 साल से हर बार पहना अलग-अलग रंग का साफा

पीएम मोदी का साफा

पीएम मोदी का साफा – 15 अगस्त 2017 आते-आते पीएम मोदी का ड्रेसिंग सेंस इंटरनेशनल पहचान बना चुका था. वह कई इंटरनेशनल कार्यक्रमों में भी कुर्ते-पायजामे में नजर आए. 15 अगस्त, 2017 को जब पीएम मोदी ने लालकिले की प्राचीर से देश को संबोधित किया तो उन्होंने हल्के पीले रंग का कुर्ता पहना था. इसके साथ उन्होंने पीले, लाल रंग की पगड़ी पहनी थी, जो काफी लंबी थी.

पीएम मोदी का साफा

15 अगस्त 2016 तक विशेष कार्यक्रमों में अलग-अलग ड्रेस पहनना पीएम मोदी की पहचान बन चुके थे. 2016 में पीएम मोदी सफेद कुर्ता और लाल, गुलाबी तथा पीले रंग की राजस्‍थानी पगड़ी में नजर आए. प्रधानमंत्री मोदी अपने पसंदीदा आधी बाजू के कुर्ते में दिखे तो उनकी राजस्थानी पगड़ी भी काफी चर्चा में रही.

पीएम मोदी का साफा

15 अगस्त 2015 तक भारत की पीएम मोदी एक स्टाइल स्टेटमेंट बन चुके थे. उनके पहनावे को अंतर्राष्ट्रीय तौर पर फॉलो किया जाता है. साल 2015 में जब मोदी दूसरी बार झंडा फहराने लालकिले पर पहुंचे तो उन्‍होंने गहरे क्रीम कलर का कुर्ता-पैजामा पहन रखा था. पूरी बाजू के बटनदार कुर्ते और नेहरू जैकेट के साथ वह लाल एवं हरे रंग की पट्टियों वाला साफा पहने नजर आए थे.

पीएम मोदी का साफा

15 अगस्त 2014 यह पहला अवसर था, जब देश के किसी प्रधानमंत्री ने साफा बांधकर लाल किले की प्राचीर पर तिरंगा फहराया हो. इस अवसर पर मोदी अपने ट्रेड मार्क आधी बाजू के कुर्ते में नजर आए. क्रीम कलर के खादी कुर्ते के साथ उन्होंने नांरगी और हरे रंग का जोधपुरी साफा बांधा था. कई दिन तक उनका साफा चर्चा में बना रहा.

Don't Miss! random posts ..