ENG | HINDI

पिज़्ज़ा डिलीवरी गैंग का भंडा फोड़, 3 गिरफ्तार

पिज्जा डिलीवरी गैंग

दिल्ली के लूट गैंग यानि पिज्जा डिलीवरी गैंग को बीते मंगलवार दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

पकड़े गए सभी आरोपियों को पिज्जा खाने का काफी शौक था। पकड़े गए तीनों अपराधी दिल्ली शहर में  फूड डिलीवरी ब्वॉय से कीमती सामान लूटते थे।

इस पिज्जा डिलीवरी गैंग की पुलिस को काफी लंबे समय से तालाश थी।

मंगलवार को गिरफ्तार किये गए इस गैंग का खुलासा करते हुए दिल्ली पुलिस ने कहा कि इस पिज्जा डिलीवरी गैंग के तीनों सदस्यों में से दो सदस्य पहले डिलीवरी मैन के रूप में काम किया करते थे।

दिल्ली पुलिस ने पिज्जा और फूड डिलवरी ब्वॉय से कीमती सामान लूटने वाले गिरोह का भांडाफोड़ किया है। खबरों के मुताबिक इस गिरोह के सदस्य पहले फोन पर पिज्जा ऑर्डर करते है और फिर अलग-अलग स्थानों पर डिलवरी शेड्यूल करके… डिलीवरी ब्वॉय से पिज्जा, फोन, नकदी के साथ साथ उनके दो पहिया वाहन भी लूट लेते थे। पुलिस ने तीनों आरोपियों पर खुलासा करते हुए बताया कि इन तीनों आरोपियों में से दो आरोपी पहले डिलीवरी ब्वॉय का ही काम किया करते थे और अपने इसी ज्ञान को वह लूट पाट के दौरान प्रयोग किया करते थे। बता दे कि आरोपियों की पहचान दीपक (23 वर्ष), चिराग शर्मा (23 वर्ष) और करण महाजन (19 वर्ष) के तौर पर हुई है।

इन तीनों शातिर आरोपियों ने एक दर्जन से ज्यादा अधिक वारदातों को अंजाम दिया था और तीनों ने ही अपने सभी गुनाह खुद पुलिस के सामने कबूल कर लिए है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से फूड डिलीवरी बैग, क्रेडिट कार्ड, क्रेडिट स्वाइप मशीन तीन मोबाइल फोन सहित मोटरसाइकिल भी बरामद की है। बरामद किए गए सभी सामानों के आधार पर पुलिस लूट के पांच मामलों को सुलझाने का दावां कर रही है।

गौरतलब है कि बीते रविवार और शनिवार के बीच लगातार तीन लुट की वारदातों को अंजाम देने के बाद यह पिज्जा डिलीवरी गैंग पुलिस की रडार पर आ गया।

पुलिस के मुताबिक इनमें से एक आरोपी करण महाजन पर कई अन्य गंभीर आरोपों में भी केस दर्ज है।

दरअसल पुलिस रिपोर्ट के मुताबिक करण काफी लम्बें समय से ड्रग्स का आदी था और उसने अपनी पढ़ाई भी स्कूल में ही छोड़ दी थी। जिसके बाद उसके पिता उसकी मां और उसे छोड़कर अमेरिका चले गए थे। पिता के अमेरिका जाने के बाद करण महाजन और ज्यादा ड्रग्स लेने लगा और अपनी मां के साथ हिंसा करने लगा, जिसके बाद उस पर घरेलू हिंसा के आरोपों में भी केस दर्ज हुआ था। इस मामले के सुनवाई में पुलिस ने करण पर अपनी मां के घर से 200मीटर की दूरी तक ना आने के निर्देश दिए थे।

तो वहीं दूसरा आरोपी दीपक जोकि 23 साल का है। उसे लेकर पुलिस ने बताया कि दीपक पहले ऑनलाइन शॉपिंग पोर्टल के लिए डिलीवरी मैन के रूप में काम किया करता था। तीन महीने पहले ही दीपक को अमर कालॉनी में कार चोरी करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद उसे जेल भी भेज दिया गया था। दीपक तीन महीनें की अपनी जेल काटने के बाद अभी हाल ही में जेल से बाहर आया था और बाहर आते ही वह इस पिज्जा डिलीवरी गैंग के मास्टर मांइड चिराग से जुड़ गया। इसके बाद इन तीनों ने मिलकर एक के बाद एक कई लूटपाट और चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया।

Don't Miss! random posts ..