ENG | HINDI

एक ऐप ने हजारों लोगों की जान बचाई. आपके फायदे की है खबर ज़रूर पढ़ें

मोबाइल के ऐप

मोबाइल के ऐप – आजकल के बच्चे हमेशा अपने मोबाइल पर ही लगे रहते हैं.

घर के लोग उन पर चिल्लाते हैं. आजकल की युवा पीढ़ी अपने मोबाइल पर ज्यादा और लोगों पर कम विश्वास करती है. मोबाइल में कई तरह के ऐप होते हैं जिसमें लोग घंटों व्यस्त रहते हैं. लोगों को लागता है कि मोबाइल के ऐप सिर्फ मस्ती के लिए होते हैं.

युवा अपना सारा समय इसी ऐप पर बर्बाद करते हैं, लेकिन ये सच नहीं है. हल ही में कुछ ऐसा हुआ कि जिस पर विश्वास करना भी मुश्किल है, लेकिन ये सच है. एक ऐसा ऐप भी है जो एक नहीं बल्कि हजारों लोगों की जान बचाया है.

आजकल पूरे भारत में तूफान, बारिश और बिजली की कड़क का कहर छाया हुआ है. भारत के दक्षिणी भाग में भी इसका असर है. आंध्र प्रदेश भयानक तूफान से जूझ रहा है, यहां रोजाना हजारों बार ब‍िजली गिर रही है. हालांकि एक मोबाइल ऐप की वजह से हजारों लोगों की जान बचाई जा रही है. भले ही आपको सोचकर सुनकर हैरानी हो, लेकिन ये सच है.

आंध्र प्रदेश में मंगलवार को 24 घंटे में 41,025 बार बिजली गिरी. उस दौरान भी 9 लोगों की मौत हुई थी. आंध्र प्रदेश स्‍टेट डिजास्‍टर मैनेजमेंट अथॉरिटी के कारण लोगों की जान बचाई जा सकी है. इस ऐप की मदद से लोगों को अलर्ट मैसेज भेजे गए थे. पिछले मंगलवार को भी 24 घंटे में लगभग 36 हजार बार बिजली गिरी थी. उस दौरान भी 9 लोगों की मौत हुई थी. मौत का यह आंकड़ा और ज्‍यादा हो सकता था, लेकिन एक मोबाइल ऐप की मदद से लोगों की जान बचाई जा रही है. एक ऐप से इतना बड़ा हादसा टाला गया.

लोगों की जान बचाने के लिए सबसे अध‍िक मददगार साब‍ित हो रहा है आंध्र प्रदेश स्‍टेट डिजास्‍टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (APSDMA) का लाइटनिंग ट्रैकर सिस्‍टम. इस सिस्‍टम से मिली जानकारी को और पावरफुल बनाने के लिए APSDMA ने एक और कदम उठाया है. एक खबर के मुताबिक़, APSDMA ने एक स्‍पेशल मोबाइल ऐप डिजाइन करवाया है. इसका नाम वज्रपथ रखा गया है. इसकी मदद से बिजली गिरने से जुड़ी जानकारी वाले अलर्ट 20.14 मोबाइल फोन सब्‍सक्राइबर को भेजे गए.

ये ऐप फ‍िलहाल सिर्फ  BSNL कस्‍टमर के लिए मौजूद है. हालांकि दूसरे सर्विस प्रोवाइडर्स को भी जोड़ने के लिए भी APSDMA कोश‍िश कर रही है. इस ऐप को कुप्‍पम इंजीनियरिंग कॉलेज, चित्‍तूर के छात्रों ने ISRO की मदद से तैयार किया है. इस ऐप की मदद से यूजर्स को 45 मिनट पहले बिजली गिरने की जगह से जुड़ी जानकारी मिल रही है. इस सिस्‍टम को चलाने में अमेरिका के अर्थ नेटवर्क की भी मदद ली जा रही है. अर्थ नेटवर्क इलेक्‍ट्रॉमैग्‍न‍ेटिक वेव्‍स की मदद से बिजली गिरनी की सही जगह का पता लगाती है.

इस सिस्‍टम का उद्घाटन सीएम चंद्रबाबू नायडु ने जुलाई 2017 में किया था. अब आप खुद ही सोच लीजिए की इस तरह के मोबाइल के ऐप पर समय बिताना अच्छी बात है ये बुरी. इसी के ज़रिये लोगों को अलर्ट भेजा गया और उनकी जान बचाई गई.

मोबाइल के ऐप – इसलिए कहते हैं कि अगर साधन का उपयोग सही समय और सही दिशा में किया जाए तो सफलता ही हाथ मिलती है.

Don't Miss! random posts ..