ENG | HINDI

तेज़ी से ये बीमारियाँ शहरी लड़के लड़कियों को हो रही है

बीमारियाँ जो शहरी लोगों को हो रही है

बीमारियाँ जो शहरी लोगों को हो रही है – मॉडर्न लाइफ स्टाइल में लोग इतने बिजी हो गए हैं कि खुद की सेहत का ध्यान रखना बहुत मुश्किल हो रहा है.

न तो लोग सही तरह से खाते हैं और न ही सुबह की एक्सरसाइज कर पाते हैं. सुबह घर से निकलकर ऑफिस में ८ घंटे की सिटींग जॉब और फिर घर पर आकर टीवी देखना. ऐसे मने शरीर पर चर्बी जमा होने लगती है.

चर्बी जमा होने से शरीर बीमार होने लगता है. कुछ ऐसी बीमारियाँ जो शहरी लोगों को हो रही है.

बीमारियाँ जो शहरी लोगों को हो रही है –

अनियमित खानपान और अनियमित दिनचर्या की वजह से आजकल के युवाओं में खतरनाक बीमारियों की संभावनाएं बढ़ रही हैं.

आज लोगों को इम्यून सिस्टम इतना कमज़ोर हो गया है कि झट से कोई भी बीमारी उन्हें पकड़ लेती है. पहले से कम शारीरिक सक्रियता और अनियमित खानपान की वजह से ये बीमारियां युवाओं को हो रही हैं.

१ – मोटापा

आपका बहुत ज्यादा एक्टिव न रहना आपके शरीर को शिथिल कर रहा है. आपकी मांसपेशियां काम करना बंद कर देती हैं. उल्टी-सीधी चीज़ें खाने से आपकी बॉडी में चर्बी बढ़ने लगती है. अप धीरे धीरे फूलने लगते हैं. आपका मोटापा कई तरह की नई बीमारियों को न्योता देता है.

२ – मधुमेह

शुगर या मधुमेह आजकल ३० साल के लोगों को भी हो रही है. पहले यह बीमारी अधेड़ होने पर होती थी, लेकिन अब ये कम उम्र में लोगों को अपना शिकार बना रही है. खासतौर पर शहरी युवाओं में इसका असर ज्यादा देखने को मिल रहा है. इसका कारण है अनियमित दिनचर्या और खानपान. कम समय के नाते कुछ भी खा लेना और घंटों कुर्सी पर बैठे रहना आपको नुकसान पहुंचा रहा है. कम उम्र में मधुमेह का होना, मतलब पूरी लाइफ का ख़राब होना होता है.

३ – हार्मोन इम बैलेंस

आजकल के युवओं में ये बीमारी भी तेज़ी से फ़ैल रही है. हर्मोन का असंतुलित होना किसी आश्चर्य से कम नहीं है. पहले के ज़माने में ऐसा नहीं होता था. लेकिन आजकल के युवाओं में ये तेज़ी से बढ़ रहा है. इसका असंतुलित होना मतलब बहुत सी बीमारियों को न्योता देना होता है. लड़कियों में ये कमी होने से उन्हें पीरियड्स सम्बंधित गंभीर समस्या होती है.

४ – इन्फर्टिलिटी

भले ही आप इसे स्वीकार करें या न करें, लेकिन आपकी लाइफस्टाइल आपके जीवन में इस कमी को ला रही है. आप अनचाहे तरीके से इसे अपने जीवन में ला रहे हैं और अपनी फैमिली को इससे आहात कर रहे हैं. इन्फर्टिलिटी के कारण बहुत से कपल पेरेंट्स बनने से रह जाते हैं. उन्हें ये सुख नसीब नहीं होता.

डॉक्टर्स की मानें तो ये सारी बीमारियाँ केवल लाइफस्टाइल के बदलने से हो रही हैं. जितना हम अपने जीवन को गलत दिशा में ले जाएंगे उतनी ही परेशानी हमें आगे होगी. आज युवा घर का खाना कम और बाहर के फ़ूड ज्यादा खाते हैं. बर्गर, पिज़्ज़ा आज युवा पीढ़ी की पहली पसंद हो गई है. यही पसंद उनके आगे के जीवन के लिए खतरनाक साबित हो रही है.

अफ़सोस उन्हें ये बात तब समझ में आती है जब वो उस उम्र को क्रॉस कर जाते हैं या फिर बीमारियाँ उनके शरीर को घेर लेती हैं. अब समय आ गया है कि अपनी दिनचर्या में शारीरिक सक्रियता बढ़ाने और अच्छा खानपान की आदतें शामिल करना अब काफी जरूरी हो गया है. सुखी जीवन चाहते हैं तो अपनी लाइफस्टाइल को हेल्दी बनाएं.

Don't Miss! random posts ..