ENG | HINDI

जब दिनेश कार्तिक को रखा गया ‘टॉर्चर रूम’ में, नहाने के लिए थीं टूटी बाल्टी, सोने के लिए छोटा सा बिस्तर !

दिनेश कार्तिक

दिनेश कार्तिक द्वारा भारतीय टीम को जो यादगार जीत मिली है उसे शायद ही कोई क्रिकेट प्रेमी भुला पाएगा.

विकेटकीपर बल्लेबाज इस समय काफी ज्यादा सुर्खियों में बने हुए हैं. आखिरी गेंद पर जोरदार छक्का जड़ते हुए इंडियन क्रिकेट टीम को निदास ट्रॉफी में जीत दिलाने वाले कार्तिक को लेकर पूर्व क्रिकेटर और उनके दोस्त अभिषेक नायर ने एक बड़ा खुलासा किया है.

नायर का कहना है की दिनेश कार्तिक ने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए कुछ ऐसी चीजें कि जिनके बारे में आप कल्पना तक नहीं कर सकते.

हाउस ऑफ पेन में रखा गया था दिनेश कार्तिक को

नायर ने बताया की फ़ॉर्म में लाने के लिए कार्तिक को उनके दोस्त ने टॉर्चर रूम में रखा था. साल 2016 में आईपीएल शुरू होने से पहले घर में ही इस टॉर्चर रूम का इजात किया गया था और इसे नाम दिया था ‘हाउस ऑफ पेन’. कुछ समय से कार्तिक की परफ़ोर्मेंस काफी ज्यादा खराब हो चुकी थी. खराब प्रदर्शन के कारण कार्तिक ने खुद जा के नायर से मदद मांगी थी, जिसके बाद नायर ने कार्तिक कि मदद करने के लिए एक अनौखा रास्ता अपनाया.

दिनेश कार्तिक

टॉर्चर रूम की खास बाते

यह कमरा इतना ज्यादा छोटा था की शुरू होते ही खत्म हो जाता था. बाथरूम में कभी शावर चलता तो कभी खराब हो जाता, नहाने के लिए मग और बाल्टी दोनों ही टूटे हुए दिए गए. इस कमरे की सारी साफ सफाई का ध्यान कार्तिक को खुद रखना पड़ता था. नायर ने इस कमरे के बारे में बताते हुए कहा कि “ये कमरा कार्तिक के लिए एक जेल की तरह था. उसे आरामदायक जिंदगी जीने की आदत थी. चेन्नई में वह बंगले में रहता था, लेकिन जब वह मेरे पास मदद के लिए आया तो मैं उसकी एक अनोखे तरीके से मदद करना चाहता था, जिससे वो पूरी तरह से अंजान था.

दिनेश कार्तिक

दिन में दो-दो बार ट्रेनिंग करते थे कार्तिक

नायर ने बताया कि वे कार्तिक को एक दिन में दो-दो बार ट्रेनिंग दिया करते थे. दिन कि शुरुआत में जमकर जिम करते और फिर बैटिंग प्रेक्टिस करते. उस कड़े अभ्यास का नतीजा काफी ज्यादा अच्छा देखने को मिला उसी साल 2016 में कार्तिक ने गुजरात लायन्स कि तरफ से बेहद ही अच्छा प्रदर्शन किया.

दिनेश कार्तिक

परफॉर्मेंस में सुधार देख एक बार फिर लौटे कार्तिक नायर के पास

कार्तिक के 2016 में उस टॉर्चर रूम में किए गए अभ्यास रंग लाए और उनकी परफॉर्मेंस में बेहद सुधार आया. इसके चलते कार्तिक एक बार फिर नायर के पास टॉर्चर रूम में जाने के लिए पहुंचे, लेकिन इस बार नायर के पास कार्तिक के लिए कुछ नया ही प्लान था. नायर ने कार्तिक को सलाह दी कि उन्हें अपनी बैटिंग मजबूत करने के लिए हर वेरिएशन की बॉल खेलनी आनी चाहिए जिसके लिए नायर ने कार्तिक को 15 बॉलरहायर करने के लिए कहा. कार्तिक इन सभी बॉलर्स के साथ मुंबई से बैंगलुरू और चेन्नई पहुंचे. जब तक ये खिलाड़ी कार्तिक के साथ थे, कार्तिक ने उनकी फ़्लाइट टिकेट से लेकर रहने खाने पीने सबका का खर्चा उठाया.

तो दोस्तों ये थी दिनेश कार्तिक के पीछे की कहानी कि किस तरह कढ़ी मेहनत कर के वो इस मुकाम तक पहुंचे.

Don't Miss! random posts ..