ENG | HINDI

हर कॉलेज की इस जगह पर सबसे ज्‍यादा मिलते हैं मजनू

कॉलेज की कैंटीन

कॉलेज की कैंटीन – स्‍कूल की पाबंदियों के बाद कॉलेज की आजादी मन को खुश कर देती है।

कॉलेज जाने से पहले ही उसका नाम सुनते ही मन में गुब्‍बारे फूटने लगते हैं। कॉलेज में युवाओं को सबसे ज्‍यादा जो चीज़ खुशी देती है वो है आजादी, कुछ भी करने की, किसी से भी बात करने की और यहां पढ़ाई करना या क्‍लास अटेंड करना भी कोई ज्‍यादा जरूरी नहीं होता है।

कॉलेज में प्‍यार के बारे में तो आपने सुना ही होगा। अमूमन कई लड़के कॉलेज अपनी मजनूगिरी दिखाने जाते हैं। कुछ लड़के तो बदमाश होते हैं जो लड़कियों को परेशान करते हैं या उन्‍हें छेड़ते हैं लेकिन कुछ तो बस लड़कियों को देखकर आंहें भरते रहते हैं।

हर कॉलेज में एक ऐसी जगह होती है जहां पर सभी मजनुओं का जमावड़ा रहता है।

जी हां, आज हम आपको कॉलेज की उसी खास जगह के बारे में बताने जा रहे हैं जहां पर कॉलेज के सभी मजनू एकसाथ बैठकर मीटिंग करते हैं।

कॉलेज की कैंटीन है सबसे खास

हर कॉलेज में कैंटीन तो होती ही है और यही वो सबसे खास जगह है जहां पर मजनुओं का जमावड़ा लगता है।

यहां पर बैठकर हर लड़का अपने दोस्‍तों के साथ अपनी गर्लफ्रेंड या क्रश के बारे में बातें करता है और उनका इंतजार करता है। कॉलेज में प्‍यार के कई किस्‍से यहीं पर परवान चढ़ते हैं और कई डूब जाते हैं। इसीलिए कॉलेज की कैंटीन स्‍टूडेंट्स के लिए सबसे खास होती है।

कॉलेज में प्‍यार

भले ही कॉलेज की कैंटीन में बैठकर आप प्‍यार की फुलझडियां जला लें लेकिन सच बात तो ये है कि कॉलेज में हुआ प्‍यार कभी अपनी मंजिल तक नहीं पहुंच पाता है।

कॉलेज में अपने रिलेशनशिप को लेकर लड़के-लड़कियां ज्‍यादा सीरियस नहीं होते हैं और इस लड़कपन की उम्र में वो कई बार गलत रिश्‍ते भी बना बैठते हैं तो बहुत जल्‍दी दम भी तोड़ देते हैं। चलो कॉलेज में तो आप फिर भी थोड़े मैच्‍योर और बड़े हो जाते हैं लेकिन अब तो बच्‍चेअब स्‍कूल में ही प्‍यार का पाठ पढ़ने लगे हैं। अब छठी क्‍लास के स्‍टूडेंट का भी ब्‍वॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड होती है।

कॉलेज लाइफ पढ़ाई के लिए कम और आशिकी के लिए ज्‍यादा जानी जाती है। कॉलेज में आने से पहले ही लोग प्‍लान बना लेते हैं कि उन्‍हें कैसी गर्लफ्रेंड या ब्‍वॉयफ्रेंड देखना है और चाहे कुछ भी हो जाए वो अब कॉलेज में तो सिंगल नहीं रहेंगें।

स्‍कूल के बाद कॉलेज जाने का ख्‍याल ही मन को रोमांचित कर देता है। स्‍कूल में जहां पाबंदियां होती हैं वहीं कॉलेज लाइफ में कोई रोक-टोक नहीं होती और यही बात मन को सबसे ज्‍यादा खुश करती है।

आपको भी स्‍कूल में कॉलेज लाइफ के बारे में सोचकर बहुत खुशी महसूस होती होगी लेकिन आपको सोचना चाहिए कि ये वो समय है जब आपको प्‍यार और आशिकी के बारे में नहीं बल्कि पढाई के बारे में सोचना है। अगर आपने ये कर लिया तो लड़कियां और प्‍यार दोनों झक मारके आपके पीछे आएंगें और आपकी लाइफ सैटल हो जाएगी।

Article Categories:
मज़ेदार

Don't Miss! random posts ..