ENG | HINDI

कहीं आपका बेटा भी अंदर से लड़की तो नहीं ?

अंदर से लड़की

अंदर से लड़की – ज़माना कुछ इस तरह बदल रहा है कि अब लड़का और लड़की में कोई भेद नहीं.

अब इसे फिल्मों का दोष कहें या प्रकृति का कि कुछ मामले ऐसे सामने आ रहे हैं जो सोच से परे हैं. आजकल के लड़की और लड़कों का शौक बदल रहा है. एक बार देखने पर आप समझ नहीं पाएंगे कि ये लड़का है या लड़की.

इसी लड़के लड़की के फर्क ने अब लोगों के साथ मज़ाक करना भी शुरू कर दिया है. असल में ऐसी कई लड़कियां हैं जो खुद को लड़का बनाने में सफल हैं और कई ऐसे लड़के हैं जो अंदर से लड़की होते हैं. ये मामला बड़े ही पेचीदा होता जा रहा है.

आमतौर पर शहरों के लोगों में ये बातें ज्यादा सामने देखने को मिलती हैं.

कुछ को भगवान ही बनाते हैं, लेकिन कुछ पैसे की लालच में अपने रूप को बदल लेते हैं. एक ऐसा ही मामला कुछ दिनों पहले नेपाल का था. नैनीताल जिले में स्थित नगर हल्द्वानी में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां पर एक लड़की ने लड़का बनकर दो लड़कियों से शादी की.

हर कोई इस लड़की बने लड़के को देखकर हैरान है. हैरानी की बात ये है कि पांच साल तक उसके इस राज के बारे में किसी को पता नहीं चला. आखिरकार पांच साल बाद दहेज उत्पीड़न के मामले में उसकी गिरफ्तारी हुई, जिसके बाद फर्जी दूल्हे के बारे में सच्चाई सामने आ गई. पहले तो पुलिस को भी इस खुलासे पर यकीन नहीं हुआ, लेकिन मेडिकल जांच में दो लड़कियों से शादी रचाने वाले लड़के के असलियत में एक लड़की होने की बात पर मुहर लग गई.

आरोपी यूपी के धामपुर जिला बिजनौर निवासी युवती कृष्णा सेन उर्फ स्वीटी सेन ने सोशल मीडिया पर लड़के के नाम से फर्जी आईडी बनाई थी.

साल 2013 में उसने फेसबुक के जरिए ही काठगोदाम क्षेत्र निवासी एक युवती से संपर्क किया और फिर उसे अपने जाल में फंसाते हुए फरवरी 2014 में शादी कर ली. कृष्णा ने बिजनेस करने के नाम पर लड़की के परिवार से 8.50 लाख रुपये ले लिए. इसके बाद उसने पत्नी के जेवर भी बेच दिए. वो अपनी पत्नी से दूर रहती थी. इस वजह से दोनों के बीच कई बार झगड़ा हुआ जिसमें मारपीट भी हुई.

इसके बाद लड़की अपने मायके वापस चली गई. इस लड़की ने पैसों की लालच में लड़का बनकर दो लड़कियों को ठगा, लेकिन हर किसी के साथ ऐसा नहीं होता.

ये मामले धोखा धड़ी का होते हैं. पैसे की लालच में कुछ लोग ऐसा करते हैं. लेकिन इससे भी बड़ी समस्या ये है कि कितने माँ-बाप ऐसे हैं जिन्हें कुछ सालों के बाद पता चलता है कि उनका बेटा बेटी है. असल में लड़के शुरुआत में शर्म के मारे अपनी  फीलिंग्स को नहीं बताते. बाद में उम्र बढ़ने के साथ ही उनका भेद भी खुल जाता है.

लड़का अंदर से लड़की – शहरों में किसी गे को समझा जा सकता है, लेकिन जब गाँव में यही होता है, तो लड़के के माँ-बाप की दुनिया ही उजड़ जाती है. आप भी अपने बच्चे का ध्यान दें और चेक करते रहें की कहीं उसका स्वभाव तो नहीं बदल रहा.

Don't Miss! random posts ..