ENG | HINDI

जैसे ही आईपीएल ग्राउंड पर पहुंची क्रिकेट छोड़ लोग देखने लगे इस लड़की को !

श्लोका मेहता

श्लोका मेहता – अगर आपको लगता होगा कि बॉलीवुड स्टार की चमक ज्यादा होती हिया उर लोग उन्हें ही देखना पसंद करते हैं, तो आप गलत हैं.

असल में देश के अमीर बिज़नेस मैन की बेटियों और बेटों को भी लोग देखना पसंद करते हैं.

परदे पर हमेशा ही बॉलीवुड सितारे दिखते रहते हैं, लेकिन इनके बेटे बेटियां बहुत कम ही दिखते हैं.

ऐसे में जब भी ये पब्लिक में आते हैं तो इन्हें देखने के लिए भीड़ उमड़ पड़ती है. ऐसी ही भीड़ एक बार फिर हुई. वो भी मुकेश अम्बानी की बहु को देखने के लिए. लोग पहुंचे थे मैच देखने लेकिन जैसे ही मुकेश अंबानी की होने वाली बहु स्टेडियम में दिखीं कैमरा और लोगों की आँखें उनकी  ओर मुड़ गईं.

अपने मंगेतर के हाथों में हाथ डाले श्लोका मैच देखने पहुंची.

IPL  11 के 9वें मैच में मुंबई में आकाश अंबानी अपनी मंगेतर श्लोका मेहता के साथ देखे गए. दोनों साथ मिलकर अपनी टीम को चीयर करते नजर दिखे, लेकिन इस दौरान आकाश कुछ टेंशन में जरूर दिखाई दिए. इस मैच में दिल्ली ने मुंबई को हराकर जीत लिया. आपको बता दें कि दोनों ही परिवार एक-दूसरे को वर्षों से जानते हैं.

आकाश और श्लोका ने धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल स्कूल से साथ में अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी की है. बचपन की दोस्ती धीरे शिरे प्यार में बदली और अब शादी में.

धीरूभाई अंबानी इंटरनेशनल पढ़ाई के बाद 2009 में न्यूजर्सी के प्रिंसटन यूनिवर्सिटी में आगे की पढ़ाई के लिए चली गईं थी.

इसके बाद उन्होंने द लंदन स्कूल ऑफ इक्नोमिक्स एंड पॉलिटिकल साइंस से लॉ में मास्टर्स किया. श्लोका मेहता रोज ब्लू डायमंड कंपनी के मालिक रसैल मेहता की छोटी बेटी हैं। श्लोका मेहता और आकाश अंबानी दोनों एक-दूसरे को बचपन से जानते हैं.

श्लोका का जन्म 11 जुलाई 1990 को मुंबई में हुआ. बचपन से ही पढ़ाई में काफी अव्वल रहने वाली श्लोका मेहता ने 12वीं तक लगातार 90 प्रतिशत से ज्यादा स्कोर किया है.

उन्होंने अपनी ग्रेज्युएशन ‘न्यू जर्सी’ से की है। फिलहाल श्लोका रोज ब्लू डायमंड की डायरेक्टर हैं, साथ ही वो कनेक्ट फॉर एनजीओ की सह-संस्थापक भी हैं.

आकाश और श्लोका की शादी इसी साल दिसंबर में 8 से 12 तारीख के बीच मुंबई के ओबेरॉय होटल में हो सकती है.

भले ही श्लोका के पिता हीरों के व्यापारी हों, लेकिन श्लोका का मन इसमें नहीं लगता.

उन्होंने कहा कि वो वो हीरा का कारोबार नहीं बल्कि  परोपकार  करना चाहती है. श्लोका ने कहा कि ‘हीरे का कारोबार महिलाओं के साथ दोस्ताना नही है. ये बदल रहा है यहां अधिकतर महिलाएं ज्वेलरी डिजाइनर बन जाती है या वो मानव संसाधन (HR) में चली जाती हैं…इस तरह के काम.

मैं इतनी क्रिएटिव नहीं कि डिजाइनर बन सकूं. श्लोका के पिता रसेल मेहता और भाई विराज डायमंड ट्रेडिंग कंपनी रोजी ब्लू का काम देखते हैं. उनकी मां मोना और बहन दिया ज्वेलरी डिजाइनिंग का काम करती हैं. श्लोका अपने जीवन न ऐसा काम करना चाहती हैं जिससे लोगों को फायदा हो और उन्हें संतुष्टि.

श्लोका मेहता का ये सपना ज़रूर पूरा हो सकता है, क्योंकि उनके पिता भले ही हीरो का कारोबार करते थे, लेकिन उनके होने वाले ससुर एक बिज़नस नहीं बल्कि कई तरह का व्यवसाय करते हैं. ऐसे में श्लोका को सहयोग ज़रूर मिलेगा.

Don't Miss! random posts ..