ENG | HINDI

आखिर क्‍यों इंजीनियरिंग करने वाले छात्र रह जाते हैं बेरोज़गार !

इंजीनियरिंग

इंजीनियरिंग – इंजीनियर्स की लाइफ बहुत ज्‍यादा मुश्किल होती है।

ये किसी भी इंस्‍टीट्यूट से डिग्री तो ले लेते हैं लेकिन जरूरी स्किल्‍स सीखना भूल जाते हैं।

अगर आपने भी किसी झोलाछाप इंस्‍टीट्यूट से इंजीनियरिंग की डिग्री ली है तो भूल जाइए कि आपको एक अच्‍छी नौकरी मिल पाएगी।

देश में ऐसे कई कॉलेज और इंस्‍टीट्यूट हैं जो छात्रों को कोर्स तो करवा देते हैं लेकिन फिर नौकरी मिलने में उन्हें दिक्‍कत होती है। अगर आपकी जान-पहचान में भी किसी ने ऐसे कोर्स किया है तो उसे पता होगा कि उसे नौकरी पाने में कितनी दिक्‍कतें आई होंगीं।

अब वाराणसी में गिरे पुल वाली घटना ही ले लीजिए। इस हादसे में पूरा पुल गिर गया और इसमें कई लोगों की जानें भी गईं। इसे देखकर ऐसा लगता है कि इसे बनाने वाले इंजीनियर ने कई लोगों को निगल गया।

बेकार इंस्‍टीट्यूट से पढ़ाई करने की वजह से इंजीनियरिंग के छात्रों को जॉब नहीं मिल पाती है क्‍योंकि उनके पास सिर्फ डिग्री होती है स्किल नहीं है और स्किल्‍स के बिना कोई भी कंपनी आपको हायर नहीं करेगी। इसलिए बेहतर होगा कि आप गर्लफ्रेंड बनाने से ज्‍यादा ध्‍यान किसी अच्‍छे इंस्‍टीट्यूट में एडमिशन पाने और अपने कोर्स से जुड़े स्किल्‍स सीखने में लगाएं।

वहीं इंजीनियरिंग करने वाले हर लड़के में कुछ खास बातें होती हैं जिनके बारे में भी हम इस लेख में चर्चा करना चाहते हैं।

इंजीनियरिंग करने वाले लड़कों को आप पढ़ाकू और सीधा भी कह सकते हैं और शायद यही वजह है कि इनकी गर्लफ्रेंड्स कम होती हैं। तभी तो इस बात पर पीएम की नज़र भी गई। देश में इंजीनियर्स के लिए नौकरियां बहुत कम हैं और जब लड़कों के पास नौकरी ही नहीं है तो कोई लड़की उनकी गर्लफ्रेंड कैसे बनेगी।

इंजीनियरिंग का कोर्स काफी टफ होता है और अगर आप किसी टॉप इंस्‍टीट्यूट से इसकी पढ़ाई कर रहे हैं तो सिचुएशन और भी ज्‍यादा मुश्किल हो जाती है। कई बार कोर्स के दौरान ऐसी परिस्थितियां आती हैं जब आपको धैर्य से काम लेना होता है। इसलिए जब तक स्‍टूडेंट्स का कोर्स पूरा होता है तब तक उनमें धैर्य का गुण कूट-कूट कर भर जाता है।

इंजीनियर बनने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है। एग्‍जाम देने पड़ते हैं और प्रैक्‍टिकल्‍स और प्रोजेक्‍ट्स तो जैसे जान ही ले लेते हैं। अगर कोई इंजीनियरिंग स्‍टूडेंट ये सब टॉर्चर पास कर लेता है तो इसका मतलब है कि वो बहुत मेहनती और अपने लक्ष्‍य को पाने के लिए बहुत जिद्दी है। अब भले ही इंजीनियरिंग करने वाले लड़कों का मज़ाक ज्‍यादा उड़ता हो लेकिन वो मेहनती बहुत होते हैं।

इंजीनियरिंग के स्‍टूडेंट्स की लाइफ बहुत ज्‍यादा मुश्किल होती है। आपने तो इंजीनियर्स के ऊपर बनने वाले जोक्‍स के बारे में सुना ही होगा साथ ही आपको ये भी पता होगा कि इनकी कितनी फजीहत होती है।

अब तो आप समझ ही गए होंगें कि इंजीनियर्स की लाइफ कितनी मुश्किल होती है और इसके बाद भी उन्‍हें नौकरी नही मिल पाती है बल्कि बेरोज़गारी झेलनी पड़ती है। सरकार को इस तबके के विकास और रोज़गार के लिए जरूर कुछ करना चाहिए।

Don't Miss! random posts ..