ENG | HINDI

फिल्मों में हीरो-हिरोइन के पहने हुए कपड़ों का बाद में क्या होता है?

फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे

फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे – भारतीय फिल्म उद्योग 100 साल से भी ज्यादा पुराना हो चूका है लेकिन फिर भी हमें फ़िल्मी परदे पर कोई फिल्म देखना किसी जादू की तरह ही लगता है.

जब हवा में उछलकर कोई हीरो पच्चीस-तीस गुंडों को मारता है तो ये जादू ही होता है क्योंकि असल जिंदगी में ये मुमकिन ही नहीं है.

भारतीय दर्शक हर तरह की फ़िल्में पसंद करता है फिर चाहे वो देसी हो या विदेशी. वैसे आपको बता दें कि भारत दुनिया के सबसे बड़े फिल्म मार्केट में से एक है यहाँ पर हर साल दुनिया में सबसे ज्यादा फ़िल्में बनती है और सबसे ज्यादा फ़िल्में रिलीज़ भी होती है. फिल्म को लेकर हमारी दीवानगी दुनिया के बाकि लोगों से कुछ ज्यादा ही है, इसलिए फिल्म और फिल्म से जुड़ी हर चीज़ को जानने के लिए हम उतावले रहते है.

आज हम आपको फिल्मों में प्रयोग किये जाने वाले फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे या कॉस्ट्यूम के बारे में बताने जा रहे है.

दरअसल मेरे मन में हमेशा एक सवाल उठता है कि फ़िल्में बन जाने के बाद फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे या कोस्च्युम का क्या होता है? शायद आपके मन में भी ऐसा ही सवाल उठता होगा, तो आज हम आपको बताने जा रहे है कि फिल्मों में पहने हुए फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे का बाद में क्या होता है.

तो आइये जानते है फिल्मों में पहले गए फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे का बाद में क्या होता है.

 फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे –

१ – बेच दिया जाता है नीलामी में-

आपको बता दें कि बहुचर्चित और हिट फिल्मों में पहने जाने वाले कपड़ों को शुरुआत से ही नीलामी में बेचे जाने का चलन रहा है. बताया जाता है कि फिल्म ‘जंगली’ में शम्मी कपूर द्वारा इस्तेमाल किये गए स्कार्फ को 1 लाख 56 हजार रूपये में नीलाम किया गया था उस समय ये बहुत बड़ी रकम हुआ करती थी.

फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे

वहीं आज के भारतीय सिनेमा की बात करें तो फिल्म ‘देवदास’ में माधुरी दीक्षित ने ‘मार डाला…’ गाने में जिस लहंगे को पहना था उसकी कीमत 15 लाख रूपये थी जो कि बाद में 3 करोड़ रूपये में नीलाम हुआ था.

फिल्म ‘मुझसे शादी करोगी’ में सलमान खान ने ‘जीने के है चार दिन…’ गाने में जिस तौलिये का इस्तेमाल किया था बाद में इस तौलिये को नीलामी में 1 लाख 42 हज़ार रूपये में ख़रीदा गया था.

फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे

लगान फिल्म में आमिर खान ने जिस ‘बैट’ का इस्तेमाल किया था और फिल्म ‘बेटा’ में माधुरी दीक्षित ने ‘धक् धक्…’ गाने में जो कपड़े पहने थे उन्हें भी नीलामी में बेचा जा चूका है.

फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे

२ – और जो नीलामी में नहीं बिकते उनका क्या होता-

अधिकतर कपड़ों को तो नीलामी में बेच ही दिया जाता है.लेकिन जो कपड़े नीलामी में नहीं बिकते है उन्हें एक बक्से में बंद करके रख दिया जाता है और उसके ऊपर फिल्म और एक्टर के नाम का टैग लगा दिया जाता है.

३ – नीलामी से मिले पैसों का क्या होता है?

नीलामी में लाखों-करोड़ों में बिकने वाले इन कपड़ो के पैसों को अधिकतर किसी चैरिटी में दान कर दिया जाता है जिससे जरूरतमंद लोगों की मदद की जाती है. इनमें अनाथाश्रम, अस्पताल, स्कूल जैसी जगहों में इन पैसों को नेक काम में लगाया जाता है.

फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे

इस तरह से फिल्म हीरो हीरोइन के कपडे चैरिटी के लिए बेच दिए जाते है.  कितनी अच्छी बात है कि नीलामी में बीके हुए इन कपड़ों के पैसों को किसी नेक काम में लगाया जाता है. फिल्म और फिल्मों से जुड़ी ऐसी ही रोचक जानकारी को जानने के लिए आप हमसे जुड़े रहिये.

Don't Miss! random posts ..