ENG | HINDI

चना जोर गर्म है सेहत का जैकपॉट

भीगे चने – सस्ता बादाम कहूँ या सेहत की मुठ्ठी ये छोटे छोटे दाने है सेहत का लाजवाब खज़ाना।

चना जोर गर्म बाबू ये है मतवाला है अपनी ही चाल में चलने वाला जिसका असर बादाम से भी कई मायनो में बेहतर है । हर भारतीय रसोई में आसानी से मिलने वाला चना सेहत की अनोखी पूड़ियां है जिसका अपने खाने में इस्तेमाल करके आप बादाम से भी ज़्यादा फायदा उठा सकता है ।

चने की सब्जी आप जितने आनंद से खाते है उतना ही आनंद अगर आप भीगे चने का लेगे तो आपकी सेहत भी मुस्कुरा उठेगी । भीगे चने में कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फैट, फाइबर, कैल्शियम, आयरन और विटामिन्स पाए जाते हैं। भारत में चने के कई रुप प्रचलित है, सफेद चना या काबूली चना, हरे चने, हल्के बादामी रंग के काले चने आदि । वैसे भारत में चाव से खाए जाने वाला चने के उत्पादन की अगर बात की जाए तो इस मामले में भारत सबसे आगे है,पूरे विश्व में चने का सबसे ज़्यादा उत्पादन भारत में ही किया जाता है । चने खाने से आपका दिमाग घोड़े की तरह तेजतर्रार हो जाएगा, साथ ही खून साफ करके ये आपकी सुंदरता भी बढ़ता है तो चने का सेवन करे और बढ़ाए अपनी सेहत को ।अब आइए जानते है चना क्या क्या खुबियां छुपाए बैठा है ;-

बादाम से भी बेहतर है भीगे चने

भीगे चने

भीगे चने को अगर अपनी डाइट में शामिल करते है तो इसमें मौजूद कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फैट, फाइबर, कैल्शियम, आयरन व विटामिन्स कई गुणा बढ़ जाते है । अंकुरित चने से आपकी पाचन क्षमता बढ़ती है, इसके साथ ही ये ताकत का भी अच्छा सोर्स है । मोटापा की समस्या से परेशान इंसान भी नाश्ते में इसका सेवन करे ।

पेट और पाचन से जुड़ी समस्याओं का निदान

भीगे चने

चनों को रातभर पानी में भिगो दें। फिर सुबह चनों से पानी को अलग कर उसमें अदरक,जीरा और नमक को मिक्स करके खाये। चनों को इस तरह से खाने से कब्ज और पेट दर्द से राहत मिलती है।

रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है

भीगे चने

दो मुठ्ठी चने आपको ना केवल दिमागी ताकत देते है इन चनो में मौजूद विटामिन्स क्लोरोफिल और फॉस्फोरस आदि मिनरल्स शरीर को बीमारियों से बचाने का काम भी करते है इसे खाने से रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है ।

एनर्जी का बेहतरीन स्रोत

भीगे चने

चने का सेवन करने से आपको दिनभर पेट के भरे होने का आभास होता है ।चने कार्बोहाइड्रेट,प्रोटीन,फैट,फाइबर,कैल्शियम,आयरन व विटामिन्स का अच्छा स्रोत है जो आपको पूरे दिन के लिए जरूरी शारीरिक काम करने की ताकत देता है ।

मैंगनीज़का खज़ाना

भीगे चने

शरीर को सही तापमान देने में चना बहुत लाभकारी है , चना मैंगनीज़ का बहुत अच्छा स्रोत है जिसकी वज़ह से खून का बहाव बेहतर रहता है । खून के अच्छे बहाव के लिए कॉपर और मैंगनीज़ जैसे तत्वो का होना बहुत जरूरी है ।

अनीमिया से सुरक्षा

भीगे चने

दैनिक आहार में चने को शामिल कर आप अनीमिया की समस्या से बच सकते है।आयरन तत्व चने में उचित मात्रा में पाया जाता है जिसकी वज़ह से गर्भवती महिलाओं, स्तनपान कराने वाली माँ को, बच्चो को और हर उम्र के महिला पुरूष को इसे अपने दैनिक भोजन में शामिल करना चाहिए ।

मोटापे का खात्मा

भीगे चने

चने शाकाहारियों के लिए एक बहुत ही अच्छा प्रोटीन का स्रोत माना जाता है. इसे खाने के बाद आपको लम्बे समय तक भूख नही लगेगी, जिस वज़ह से आप अपने वज़न पर नियंत्रण रख पाएगें साथ ही फाइबर की भरपूर मात्रा होने के कारण वज़न कम करने में भी चने काफी प्रभावी भूमिका निभाते है। तो आज ही अपनी डाइट में चने को शामिल करे और अपने बढ़ते वज़न पर काबू पाए ।

हीमोग्‍लोबिन की कमी को दूर करे

भीगे चने

किडनी को सेहतमंद बनाए रखने में चना आपकी मदद कर सकता है हमारे किचन में आसानी से मिलने वाला ये खाद्य पदार्थ 28 प्रतिशत फॉस्फोरस और आयरन से बना है ।जो रक्त कोशिकाओं का निर्माण कर हीमोग्लोबिन को बढ़ा कर किडनी से नमक की अधिकता को कम करने का काम करता है ।

कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप नियंत्रक

भीगे चने

कोलेस्ट्रॉल के स्तर से अगर आप परेशान है तो चने को अपने भोजन में शामिल करें । ये शरीर के पित्त रस से मिलकर खून में कोलेस्ट्रॉल को कम करता है । इसके साथ ही चने में पोटेशियम और मैग्नीशियम भी उचित मात्रा में होने से ये आपके रक्तचाप की समस्या को काबू करने का काम करता है ।

चने में मौजूद कई तत्व महिलाओं और पुरूषो की शारीरिक क्षमता को बढ़ाने का काम बेहतरीन तरीके से करते है तो चने को अपने दैनिक आहार में अंकुरित रूप में या उबाल कर शामिल करें और इससे मिलने वाले फायदो का लाभ लें ।

Don't Miss! random posts ..