ENG | HINDI

भारत का वो शहर जहाँ सुकून के लिए आते हैं दुनियाभर के लोग

बनारस

बनारस – भारत को मंदिरों का देश कहा जाता है.

यहाँ पर विदेशों से घूमने वालों की भीड़ हर महीने रहती है. भारत के ऐसे बहुत से शहर है, जहाँ विदेशी भारी संख्या में आते हैं, लेकिन एक शहर ऐसा है जहाँ न सिर्फ घूमने बल्कि विदेशी पढ़ने और रहने भी आते हैं.

इस शहर का नाम है बनारस. जी हाँ वही काशी नगरी , जो सबको सुकून देती है.

जीवित रहते यहाँ जो सुख है वो कहीं और नहीं. मरने के बाद भी बनारस में ही गंगा जी में अस्थियाँ प्रवाहित की जाती हैं ताकि इन्सान को मुक्ति मिल सके. इस बनारस में ऐसा सुकून है, जिसे पाने के लिए लोग दूर दूर से आते हैं. बनारसी पान से लेकर बनारसी साड़ियां तक, हर चीज़ सबको इतना सम्मोहित करती है कि लोग बनारस घूमने चले ही आते हैं.

बनारस में जो सुकून है, वो कहीं नहीं और अगर आपको रोज़मर्रा की ज़िन्दगी में थोड़ा सुकून चाहिए तो समय निकाल कर एक बार काशी नगरी ज़रूर जाएं. बनारस शहर सौंदर्य की दृष्टि से भी बहुत ख़ूबसूरत है. भारतीयों के लिए बनारस,आज का वाराणसी के रूप में सभी चीजों का पर्याय बन गया है. इस शहर के करिश्माई स्वरूप से आपको पक्का प्यार हो जाएगा, और एक बार वहां जाकर आपका वहां से आने का मन ही नहीं करेगा.

वाराणसी भारत के सबसे पवित्र शहरों में से एक,अपने धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व की वजह से सबसे अद्वितीय स्थल है. जहाँ भक्तगण पूरी श्रद्धा भक्ति के साथ गंगा नदी में डुबकी लगा अपने पापों का अंत करने आते हैं, वहीं सैलानी इस क्षेत्र की समृद्ध संस्कृति का पूर्ण अनुभव करने आते हैं. माता गंगा की आरती का आनंद ही कुछ और होता है. जीवन में सुकून चाहते हैं तो यहाँ शाम की आरती ज़रूर देखें. वाराणसी में सूर्यास्त के समय गंगा नदी पर नौका विहार के मज़े लेना वाराणसी में सबसे दिलचस्प और आकर्षक क्रियाओं में से एक है. सबसे अच्छा अनुभव होगा दशाश्वमेध घाट पर नौका की सवारी का मज़ा लेना. विदेशी भी इसका आनंद लेना नहीं भूलते.

अगर बहुत ज्यादा पाप कर चुके हैं तो गंगा में दुबकी ज़रूर लगाएं. ऐसा माना जाता है कि गंगा नदी के पवित्र जल में डुबकी लगाने से हमारे सारे पाप धुल जाते हैं। वाराणसी की यात्रा पर वहां के घाटों में गंगा नदी में नहाकर तरोताज़ा, नया और शुद्ध महसूस करिये. ऐसा करके आपको सुकून मिलेगा.

इसे मंदिरों का शहर भी कहते हैं. विदेशियों की भरमार यहाँ रहती है. बनारस की तंग गलियों में भी आपका मन स्वतंत्र विचरण करता है. यहाँ कई सारे घाट हैं जो उच्च आध्यात्मिक मूल्य लिए सदियों से कई परम्पराओं को अपने में समेटे हुए हैं। यहाँ के इन घाटों की सैर करिये और यहाँ के शुद्ध भक्ति और विश्वास के चारों ओर घूमने वाले जीवन का दिव्य अनुभव लीजिये. बनारस में शॉपिंग भी जमकर कीजिए.

बनारसी साड़ी यहाँ से ज़रूर खरीदें. अगर आपको इंडियन ड्रेस पसंद हैं तो ये शहर आपके लिए बेहतर है. तो क्या सोच रहे हैं. जल्दी से टिकट करवाइए और घूमने निकल पड़िए बनारस की गलियां.

 

Don't Miss! random posts ..