ENG | HINDI

ढाई रूपए के लिए द ग्रेट खली ने छोड़ा था स्‍कूल, आज हैं करोड़पति

द ग्रेट खली

द ग्रेट खली – कहते हैं वक्त बदलते देर नहीं लगती, और कई बार वक्त कुछ इस तरह बदलता है कि किस्मत को ही पलट देता है।

कुछ वक्त पहले हो सकता है कि एक इंसान किसी चीज़ को लेकर परेशान हो या फिर उसके पास वो नहीं हो और अगले ही पल वो उसके पास उस चीज़ का भंडार हो।

ज़रूरी नहीं है कि अगर आज कोई गरीब है तो वो कल गरीब ही रहेगा, इंसान अपनी मेहनत, लगन और हौंसले की बदौलत अपने वक्त को बदलते हैं। ऐसे कई उदाहरण हैं जहां लोगों ने अपने जोश और जुनून से ना केवल अपनी आर्थिक स्थिति को बदला है बल्कि लोगों के बीच अपनी एक अलग पहचान बनाई है।

ऐसे ही एक शख्स के बारे में आज मैं आपको बताने जा रही हूं, यूं तो आप उन्हें जानते हैं और उन पर फक्र भी करते हैं लेकिन उनसे जुड़ी जो बातें मैं आपको बताने जा रही हूं, वो आप बिल्कुल नहीं जानते होंगे।

जी हां, मैं बात कर रही हूं द ग्रेट खली यानि की दलीप सिंह राणा की, जिन्होंने भारत को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलवाई। खली WWE में पहुंचने वाले पहले भारतीय रेसलर बनें।

द ग्रेट खली जो आज करोड़ों की सम्पत्ति के मालिक हैं, आपको जानकर हैरानी होगी कि एक वक्त पर स्कूल से उन्हें इसलिए निकाल दिया गया था क्योंकि उनके परिवार के पास उनकी फीस भरने के लिए ढ़ाई रूपये भी नहीं थे। उन्होंने अपनी किताब में इस बात का ज़िक्र किया है कि गर्मियों के मौसम में उन्हें स्कूल से बाहर निकाल दिया गया था क्योंकि बारिश नहीं होने की वजह से उनके घर की फसल खराब हो गई थी और उनके घरवाले स्कूल की फीस नहीं भर पाए थे।

सिर्फ यही नहीं, जब उन्हें फीस के लिए स्कूल में बाकी सभी बच्चों के आगे डांटा गया तो उन्हें बेहद शर्म महसूस हुई और इसलिए उसके बाद से वो कभी स्कूल ही नहीं गए।

इस घटना के बाद स्कूल से अपना नाता तोड़कर खली मजदूरी में लग गए और उन्होंने 5 रूपये प्रतिदिन के लिए अपने पिता के साथ मजदूरी की। द ग्रेट खली को उस वक्त ये पांच रूपये बहुत कीमती लगा करते थे क्योंकि उन्हे ढ़ाई रूपये के लिए स्कूल से निकाला गया था।

एक वक्त पर पाई पाई के लिए मोहताज द ग्रेट खली आज करोड़ों के मालिक हैं, उनके पास खुद का घर है और वो सब कुछ है जिसका सपना कोई भी इंसान देखता है। खली ने जो नाम, मुकाम और शोहरत हासिल की है उसके लिए लोग ज़िदंगी भर तरसते रहते हैं।

खली की कुछ कमाई एक मैग्जीन के अनुसार 96 करोड़ आंकी गई थी। आप शायद इस बात से अनजान होंगे कि खली को पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम ने राष्ट्रपति भवन बुलाकर उनसे मुलाकात की थी।

द ग्रेट खली की ये कहानी बेहद प्रेरणादायक है और इस बात का उदाहरण है कि अगर हम ठान लें तो कुछ भी कर सकते हैं और जिंदगी में मेहनत और हौंसले से कुछ भी पाया जा सकता है। जिंदगी में कुछ भी मुश्किल नहीं है। खली वाकई में सभी के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं।

Don't Miss! random posts ..