ENG | HINDI

भारतीय क्रिकेट टीम के ड्राइवर ने खिलाड़ियों के बारे में सुनाए मजेदार किस्से

जेफ गुडविन

जेफ गुडविन – दर्शक तो मैदान पर सिर्फ खिलाड़ियों को खेलते हुए ही देखते हैं, इसलिए उन्हें प्लेयर्स के स्वभाव के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं होता है।

लेकिन कुछ लोग होते हैं, जिनका इन खिलाड़ियों से आमना-सामना होता रहता है और वो इनके बारे में ऐसी बातें जानते हैं, जो सब नहीं जानते हैं।

ऐसे ही एक व्यक्ति है भारतीय क्रिकेट टीम के ड्राइवर ‘जेफ गुडविन’।

इन दिनों टीम इंडिया इंग्लैंड टूर पर गई हुई है और 1 अगस्त से भारत व इंग्लैंड के बीच 5 टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला टेस्ट मैच शुरू हुआ है। इंग्लैंड में जेफ गुडविन ही भारतीय टीम के ड्राइवर है। 1999 से लेकर आज तक पिछले 20 सालों में जेफ गुडविन इंडिया सहित कई टीमों के ड्राइवर रह चुके हैं।

हाल में ही बीसीसीआई टीवी पर जेफ गुडविन का एक इंटरव्यू अपलोड किया गया। इस इंटरव्यू में गुडविन ने भारतीय टीम व इसके कुछ खिलाड़ियों के बारे में खास बातें बताई। आप भी जान लीजिए वो खास बातें –

बेस्ट है इंडियन टीम

जेफ गुडविन

अपने इंटरव्यू में जेफ़ ने भारतीय क्रिकेट टीम की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, “मैंने इंडिया जैसी प्रोफेशनल टीम पहले कभी नहीं देखी। ये खेल खत्म होने के बाद बहुत जल्दी बाहर आ जाते हैं। यह टीम बेस्ट है।”

रैना की इंसानियत

जेफ गुडविन

इंडियन ऑलराउंडर सुरेश रैना एक अच्छे क्रिकेटर होने के साथ ही बहुत अच्छे इंसान भी है। जेफ गुडविन द्वारा बताया गया रैना का यह किस्सा सुनकर आप भी इसे मानने लगेंगे। गुडविन के अनुसार, “कुछ साल पहले उन्होंने मुझे अपनी शर्ट नीलाम करने के लिए दी थी। मैं इस बात को कभी नहीं भूल सकता।” दरअसल उस समय जेफ की पत्नी बीमार थी और उन्हें इलाज की जरूरत थी। इसलिए रैना ने उनकी मदद की थी।

सचिन का सीक्रेट

जेफ गुडविन

जेफ गुडविन ने इंटरव्यू में सचिन से जुड़ा एक किस्सा भी शेयर किया। जेफ ने बताया, “मेरा बेटा टीमों के लिए ड्राइव करता है। वो टीम इंडिया के लिए भी ड्राइवर रहा। सचिन हमेशा ड्राइवर की सीट के पास ही बैठते थे। वो उससे कहते रहते थे कि तुम्हारे डैडी बहुत बड़े स्टार है। टूर खत्म होने तक मेरा बेटा भी स्टार बन गया। मुझे और उसे इंडियन गवर्नमेंट की ओर से ‘थैंक यू’ लेटर मिला था।”

खोली ऑस्ट्रेलिया की पोल

जेफ गुडविन

जेफ गुडविन ने इंडिया के साथ ही ऑस्ट्रेलिया के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा कि, “क्रिकेट में बहुत कुछ बदल गया है। पहले ऑस्ट्रेलियाई टीम किसी भी गेम के बाद ड्रिंक करती थी और रात में 2 बजे तक चेंजिंग रूम में ही रहती थी। मगर अब ऐसा नहीं होता है।”

मिला निकनेम

जेफ गुडविन

ऑस्ट्रेलिया से जुड़ा एक और किस्सा शेयर करते हुए जेफ ने बताया कि पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी डैरेन लेहमन ने उन्हें ‘पोपए’ निकनेम दिया था और इसी नाम से पुकारते थे।  इसके बाद जेफ ने अपनी बांह पर ‘पोपए कार्टून’ का टैटू बनवा लिया।

ये थे जेफ गुडविन के किस्से – देखा आपने एक ही इंटरव्यू से कितने सारे प्लेयर्स की पोल खुल गई। आपको यह स्टोरी पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर कीजिएगा।

Don't Miss! random posts ..