ENG | HINDI

रामेश्वरम: रावण ने पुरोहित बनकर यज्ञ करवाया और राम को विजयी होने का आशीर्वाद दिया

feature

रामेश्वरम के मंदिर में आस पास नौ शिवलिंग और है जिनके बारे में कहा जाता है कि इनकी स्थापना विभीषण ने की थी.

जब लंका नरेश पराक्रमबाहू ने इसका निर्माण कार्य करवाया तो इस मंदिर में केवल शिवलिंग की स्थापना की गयी, देवी स्वरुप की नहीं इसीलिए इस मंदिर को निसंगेश्वर मंदिर कहा जाता है.

रामेश्वरम मंदिर के भिन्न भिन्न भागों का निर्माण भिन्न भिन्न लोगो द्वारा किया गया है जिसमे राजा, मदुरै के धनिक शामिल है.

temple

रामेश्वरम ना सिर्फ धार्मिक दृष्टि से अपितु कला और पर्यटन की दृष्टि से भी काफी महत्वपूर्ण है.

रामेश्वरम मंदिर का गलियारा विश्व का सबसे बड़ा गलियारा है. इस मंदिर में अनगिनत खम्बे है जो दिखने में एक जैसे लगते है पर अगर करीब से देखा जाये तो हर खम्बे पर की गयी कलाकृति अलग है. रामेश्वरम मंदिर में अलग अलग तरह के पत्थरों का उपयोग किया गया है. कमाल की बात ये है कि यहाँ आस पास कोई पर्वत नहीं जहाँ से ये पत्थर लाये जा सके.

कहा जाता है ये विशालकाय पत्थर श्रीलंका से लाये गए थे.

1 2 3

Don't Miss! random posts ..