ENG | HINDI

अब सरकार सिंगल लड़कों को देगी नौकरी में आरक्षण

सिंगल लड़कों को आरक्षण

सिंगल लड़कों को आरक्षण – सरकार भी देश में कुंवारों की बढ़ती जनसंख्‍या को लेकर चिंता में है और शायद इसी का नतीजा है कि सरकार ने उनके लिए भी आरक्षण निकाला है।

जी हां, चौंकिए मत… अब तक देश में बस एससी और एसटी एवं ओबीसी जाति के लोगों के लिए ही आरक्षण हुआ करता था लेकिन अब सरकार सिंगल लोगों की हालत को देखते हुए उन्‍हें भी आरक्षण के मूड में दिख रही है।

देश में बढ़ती बेरोजगारी और सिंगल लड़कों की फौज को देखते हुए सरकार ने ये फैसला लिया है। इसके साथ ही लड़कों को वर्चुअल गर्लफ्रेंड्स भी मुहैया करवाने की योजना है जो व्‍हॉट्सऐप पर लड़कों से चैट करेंगीं। गुड नाइट और गुड मॉर्निंग के मैसेज भी भेजेंगीं। हालांकि, इस स्‍कीम से कमिटेड लड़कों को दूर रखा गया है और जिनकी पहले से ही गर्लफ्रेंड हैं उन्‍हें कुछ नहीं दिया जाएगा।

सिंगल लड़कों को आरक्षण

१ – कितना प्रतिशत है आरक्षण

सरकार की मानें तो सिंगल लडकों की बिगड़ती हालत को सुधारने के लिए उनकी तरफ से नौकरियों में दस प्रतिशत आरक्षण दिया गया है और उम्‍मीद की जा रही है कि इस सांत्‍वना से सिंगल लड़कों का दुख थोड़ा कम हो जाएगा। इस स्‍कीम से तो सिंगल लड़कों की लॉटरी निकल गई है।

सिंगल लड़कों को आरक्षण

२ – राहुल गांधी हैं सबसे ज्‍यादा खुश

आपको बता दें कि इस स्‍कीम के मुखिया राहुल गांधी हैं और इस आरक्षण की खबर से सबसे ज्‍यादा खुशी उन्‍हें मिली है। आखिरकार उनके पास अपनी पीढ़ी का सबसे ज्‍यादा समय तक कुंवारे रहने का रिकॉर्ड जो है। जब से कुंवारे लड़कों के लिए ये आरक्षण की स्‍कीम शुरु करने की घोषणा हुई है तब से राहुल गांधी का चेहरा खुशी से चमक रहा है और कहा तो यहां तक जा रहा है कि विपक्षी पार्टी होने के बावजूद इस स्‍कीम का ब्रांड एंबेस्‍डर राहुल गांधी को ही बनाया जाएगा।

सिंगल लड़कों को आरक्षण

३ – क्‍या है योग्‍यता

सिंगल लड़कों को आरक्षण के अंतर्गत 18 से 28 साल की उम्र के युवक फायदा ले सकते हैं। अपनी उम्र का प्रमाण देकर कुंवारे लड़के किसी भी सरकारी नौकरी में दस फीसदी आरक्षण ले सकते हैं।

अब ये सवाल उठता है कि इस बात का पता कैसा लगाया जा सकता है कि कोई लड़का सिंगल है या उसकी कोई गर्लफ्रेंड है ?

सिंगल लड़कों को आरक्षण

दोस्‍तों, सरकार ने इस समस्‍या का भी तोड़ निकाल लिया है। उनके मुताबिक सिंगल लड़कों की शक्‍ल पर ही लिखा होता है कि वो पैदा भी सिंगल हुए थे और दम तोड़ते समय भी सिंगल ही रहेंगें। इनकी तो शक्‍ल देखकर ही इनके दिल का हाल बताया जा सकता है। इसके लिए किसी प्रमाण पत्र की जरूरत नहीं है। उन्‍हें नौकरी के फॉर्म के साथ बस अपनी फोटो लगानी होगी।

सिंगल लड़कों को आरक्षण – दोस्‍तों, इस खबर को पढ़ने में आपको भी खूब मज़ा आया होगा और आप कमिटेड हैं तो आप भी अपनी गर्लफ्रेंड को छोड़ने के बारे में सोच रहे हैं लेकिन ये करने से पहले ज़रा खबर पूरी पढ़ लीजिए। असल में सरकार की ओर से ऐसी कोई भी स्‍कीम नहीं निकाली गई है। ये खबर तो बस आपके मनोरंजन के लिए गढ़ी गई थी। उम्‍मीद है कि आपको ये खबर और स्‍कीम दोनों ही पसंद आई होंगीं।

Don't Miss! random posts ..