ENG | HINDI

क्या भगवान सबरीमाला के कहर में डूब रहा है केरल ?

भगवान सबरीमाला मंदिर

भगवान सबरीमाला मंदिर – इन दिनों भारत के कई राज्य भारी बाढ़ का सामना कर रहें , लेकिन सभी राज्यों में केरल की हालत सबसे ज्यादा खराब है ।

पूरा केरल जलमग्न हो चुका है । जिसकी वजह से केरल में रहने वाले लाखों लोग इस बाढ के कारण प्रभावित हुए है । केरल में आई भारी बाढ़ के कारण केरल में रहने वाले लोग अपना घर, समान सबकुछ गवा चुके है और राहत शिविरों में रहने को मजबूर है । वहीं कई लोग इस बाढ़ में अभी भी फंसे हुए है जिन्हें सरकार दारा बचाना का काम जारी है ।

रिपोर्टस के मुताबिक केरल में इस तरह की बाढ़ 100 साल के बाद आई है । मौसम विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक मानसून लाने वाली हवाएं आगे न बढ़ने के कारण तेज बारिश हुई जो इस तबाही को अपने साथ लेकर आई । लेकिन जहां विज्ञान इस तबाही के लिए हवाओं के फेर बदल को जिम्मेदार ठहरा रहा है वहीं देश में कई ऐसे बुद्धजीवी भी है जो इसे भगवान का कहर बता रहे है । और इसके लिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले को जिम्मेदार मान रहे है ।

आपको सुनकर थोड़ी हैरानी हुई होगी लेकिन इन दिनों केरल के भगवान सबरीमाला मंदिर और केरल में आई बाढ़ को एक साथ जोड़कर देखा जा रहा है और इस तरह की बातें सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रही है ।

क्या है भगवान सबरीमाला मंदिर और केरल में आई बाढ़ का कनेक्शन

दरअसल केरल इन दिनों बुरी तरह बाढ़ से प्रभावित है भगवान का स्थान माने जाने वाले केरल में कुरदत का ऐसा कहर इसे पहले कभी नहीं देखने को मिला । जिस वजह से लोग इसे भगवान सबरीमाला अय्यपन की नाराजगी जाहिर करने का तरीका बता रहे है । सोशल मीडिया पर वायरल हो रही बातों में कहा जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में सबको जाने का आदेश दिया , लेकिन भगवान ने सबके आने पर रोक लगा दी । कई लोग का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने भगवान के फैसले के खिलाफ अपना आदेश सुनाया इसलिए ये बाढ़ आई है । अब आप सोच रहे होंगे कि सुप्रीम कोर्ट के किस फैसले के कारण भगवान अय्यपन इतने नाराज हो गए जो केरल पर इतना कहर टूट पड़ा.

भगवान सबरीमाला मंदिर

भगवान सबरीमाला मंदिर विवाद

दरअसल इसी महीने सुप्रीम कोर्ट ने केरल के सबरीमाला मंदिर विवाद पर फैसला सुनाया था । ये विवाद 10 से 50 साल की महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में न जाने को लेकर था । दरअसल केरल की इस मान्यता के अनुसार इस मंदिर में 10 से 50 साल की महिलाओं का जाना मना है । ऐसा इसलिए क्यों कि इस उम्र की महिलाओं को मासिक धर्म होता है । यहां के लोग के अनुसार ये एक प्रथा है जिसे तोड़ना नहीं चाहिए । लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने महिलाओं के हक में फैसला सुनाते हुए सभी उम्र की महिलाओं को यहां जाने की अनुमति दे दी । जिस वजह से लोग केरल में हुई तबाही को भगवान सबरीमाला अय्यपन का कहर मानने लगे । लेकिन यहां सोचने वाली बात ये है कि क्या बाढ़ सिर्फ केरल में आई है ? तमिलनाडु , कर्नाटक , मध्य प्रदेश , छत्तीसगढ़ , यूपी , उत्तराखंड जैसे राज्य भी भारी बाढ़ का सामना कर रहे है । फिर इन राज्यों में किन देवताओं के नाराज होने से बाढ़ आई है ।

भगवान सबरीमाला मंदिर

ट्विटर पर भगवान सबरीमाला मंदिर को लेकर बहस

भगवान सबरीमाला मंदिर को लेकर ट्विटर पर भी काफी जोरों की बहस देखने को मिल रही है । और हैरानी की बात ये है कि इनमें पढ़े लिखे बुद्धजीवी शामिल है । जिनके अँधविश्वास को देखकर हैरानी होती है । सबरीमाला मंदिर को केरल की बाढ़ से जोड़ने वालों में आरबीआई के निदेशक गुरुमूर्ति भी शामिल है । जिन्होनें ट्विटर पर ट्वीट करते हुए लिखा कि – “ कोर्ट के जजों यह देखना चाहिए कि इस मामले और सबरीमाला में जो भी हो रहा है उसके बीच में क्या कोई संबंध है. अगर इन दोनों के बीच संबंध होने का चांस लाख में एक हो तो भी लोग अयप्पन के खिलाफ किसी भी तरह के फैसले को स्वीकार नहीं करेंगे. “  गुरुमूर्ति के इस ट्वीट के बाद कई लोगों ने उनके समर्थन में ट्वीट किया तो कई लोगों ने उन्हें जमकर ट्रोल भी किया जिसके बाद उन्हें सफाई देने के लिए रिट्वीट कर अपनी बात भी समझानी पड़ी ।

लेकिन एक आरबीआई अधिकारी दारा इस तरह के अँधविश्वास में थोड़ा सा भी विश्वास दिखाना क्या सही है  ?

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading...

Don't Miss! random posts ..