ENG | HINDI

रेपिस्ट और रंगीले बाबाओं की लिस्ट में जुड़ा एक नया नाम, जानिए कौन है वो

दाती महाराज

दाती महाराज – हमारे देश में बाबाओं यानी साधु संतों की बड़ी अहमियत है लोग उनकी पूजा तक करते हैं और उनकी कही हर बात को फॉलो करते हैं चाहे वो सही हो या गलत.

हद तो ये है कि दर्जनों बाबा आपराधिक मामलों में गिरफ्तार हो चुके हैं, मगर लोगों का उनपर से विश्वास कम ही नहीं हो रहा. हाल ही में रंगीले बाबाओं की लिस्ट में एक और नाम जुड़ गया है और वो नाम है दाती महाराज का.

कौन दाती महाराज ?

दिल्ली में शनिधाम का संस्थापक और दुष्कर्म का आरोपी दाती महाराज कई टीवी चैनल्स पर नियमित रूप से राशिफल सुनाता हुआ दिख चुका है.आपको बता दें कि वो दिल्ली के एक आलीशान फार्म हाउस का मालिक भी है. दाती महाराज पर राजस्थान की रहने वाली एक शिष्या ने आरोप लगाया है कि उसने और उसके शिष्यों ने मंदिर के अंदर उसका कई बार बलात्कार किया है. इस आरोप के बाद बाबा पर आईपीसी की धारा 376,377, 354 और 34 के तहत केस दर्ज हुआ है. हालांकि दाती महाराज अपने ऊपर लगे आरोपों को गलत बता रहे हैं, वैसे भी क्या कोई चोर कहता है कि मैंने चोरी की है.

आपको बता दें कि दाती महाराज़ ऐसे करने वाले कोई पहले बाबा नहीं है. धर्म के नाम पर पहले भी कई बाबा अपनी रंगिलियों को छुपाते आए हैं, मगर कुछ समय बाद उनका परदा फाश हो गया.

दाती महाराज

आसाराम बापू

आसाराम पर कई बालिग और नाबालिग लड़कियों से रेप का आरोप लग चुका है. 5 साल से जेल की सजा काट रहे आसाराम को हाल ही में विशेष अदालत भी दोषी ठहरा चुकी है.

राम रहीम

खुद को भगवान बताने और ‘मैसेंजर ऑफ गॉड’ जैसी फिल्में बनाने वाला डेरा प्रमुख राम रहीम जितना रंग-बिरंगा अपनी फिल्मों में नजर आता है उतना ही रंगीन वो रियल लाइफ में भी है. उसे सीबीआई की विशेष अदालत ने रेप के दो मामलों में दोषी ठहराया था. राम रहीम को दोनों मामलों में 10-10 साल की सजा सुनाई गई है.

स्वामी परमानन्द

बाबा राम शंकर तिवारी उर्फ स्वामी परमानंद का एक बार कथित सेक्स वीडियो वायरल हो गया था. उसपर 13 से ज्यादा महिलाओं के साथ यौन शोषण का आरोप और श्रीलंका के एक युवक की हत्या का भी आरोप लगाया गया था. परमानन्द तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली जेल में सजा काट रहा है. उसके बारे में कहा जाता था कि वो अश्लील साहित्य पढ़ने के साथ-साथ यौनशक्ति बढ़ाने वाली दवाओं का भी इस्तेमाल करता था.

दाती महाराज

ये तो बस चंद नाम है ढोंगी और रेपिस्ट बाबाओं की फेहरिस्त बहुत लंबी है और सच्चाई तो यह भी है कि सारे रंगीले बाबाओं की सच्चाई मीडिया के सामने आती भी नहीं है. इतना सब होने के बाद भी लोगों का बाबाओं पर विश्वास वाकई चिंता की बात है, क्योंकि धर्म के नाम पर भिखारी से करोड़पति बनने वाले बाबा जनता के विश्वास के बल पर ही इतने शक्तिशाली बन जाते हैं कि खुद को भगवान मान बैठते हैं.

ये ही दाती महाराज – अगर लोग इनपर विश्वास ही न करें, तो ऐसे बाबा पनप ही नहीं पाएंगे. बेहतर होगा कम से कम अब लोगों की आंखों पर पड़ी अंधविश्वास की पट्टी हट जाए.

Don't Miss! random posts ..