ENG | HINDI

घमंड और पेट किसी से गले नहीं मिलने देते, जानिए क्‍या है खास बात

घमंड और सेहत

घमंड और सेहत – कहते हैं कि आप चाहे कितनी भी ऊंचाई पर क्‍यों ना पहुंच जाएं आपको कभी घमंड नहीं करना चाहिए।

घमंड दूसरों का नहीं बल्कि अपना खुद का ही दुश्‍मन होता है जो आपको अपनों से ही दूर कर देता है।

कहते हैं कि जब घमंड और पेट बढ़ जाते हैं तो इंसान चाह कर भी किसी को गले नहीं लगा सकता है। जब ये दोनों बढ़ रहे होते हैं तो इंसान यह सोचता है कि ये सेहत और सफलता की निशानी है लेकिन ऐसा नहीं है। ये घमंड और सेहत पतन की निशानी होती हैं। जिस तरह बीमारी मुश्किल से ही ठीक हो पाती है वैसे ही एक बार पतन होना शुरु हो जाता है तो व्‍यक्‍ति का गर्त में जाना तय है।

घमंड और सेहत –

क्‍या है कारण

किसी भी चीज़ की अति होना बुरी बात है। वह चाहे खाना हो, सुख हो, प्‍यार हो, प्रसिद्धि हो या फिर पैसा हो। कोई भी चीज़ जरूरत से ज्‍यादा आ जाए तो इंसान को उस पर घमंड होने लग जाता है। वह उस पर अपना एकाधिकार मानने लगता है। उसे ही अपना भाग्‍य समझकर गलती कर बैठता है।

ऐसे हालात में इंसान भाग्‍य के चक्‍कर में अपने कर्म को भूल जाता है। जब कर्म नहीं होता तो धर्म की भी कोई जगह नहीं होती है। वहीं धर्म के ना होने पर अधर्म ही फैलता है। इसी बीमारी से घमंड और पेट बढ़ता है।

इंसान को इस बात को नहीं भूलना चाहिए कि हर चीज़ का एक समय होता है और समय वह दौर है जो हमेशा नहीं आता बल्कि एक बार हाथ से निकल गया तो दोबारा नहीं आता। फिर चाहे सुख हो या दुख, समय निकलने पर इंसान बस देखता रह जाता है। हर चीज़ तय सीमा के बाद नया जन्‍म लेती है जबकि इंसान उसे अमर मान बैठता है। इस धरती पर कोई भी चीज़ अजर-अमर नहीं है। जो आया है उसे जाना ही होगा। हर चीज़ का अंत निश्चित है इसलिए जीवन में हर चीज़ को जरूरत और हिसाब से बरतें। अतिरेक में ना जाएं। इससे ना तो पेट बढ़ेगा और ना ही आपके अंदर की विनम्रता जाएगी।

कहीं ना कहीं आप भी इन बातों से सहमत होंगें और इस बात को तो आप नकार ही नहीं सकते कि घमंड करना हमारे लिये ही नुकसानकारी होता है। जब आप सफलता पा रहे होते हैं तो उसे देखकर आपको घमंड आने लगता है जबकि आप ये भूल जाते हैं कि समय कभी भी एक जैसा नहीं रहता है। आज सफलता मिली है तो अगले पल वो असफलता में भी बदल सकती है।

आपको इस बात पर गौर करना चाहिए कि दूसरों के प्रति व्‍यवहार करना ही आपके कर्म में शामिल है। अगर आप दूसरों के साथ बुरा व्‍यवहार करेंगें तो दुराचारी कहलाएंगें, अगर अच्‍छा व्‍यवहार करेंगें तो लोग आपसे प्रेम करेंगें और आपको इज्‍जत देंगें।

घमंड और सेहत – इंसान को इंसान के प्रति इंसानियत दिखानी चाहिए क्‍योंकि इसमें आपकी ही भलाई है। अब कभी भी बढ़े हुए पेट को सेहत और अपनी तरक्‍की को घमंड ना बनने दें। इसके पीछे छिपे इस गहरे रहस्‍य को जान लें।

Don't Miss! random posts ..