ENG | HINDI

पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमते कितना बिगाड़ेगी आपका बजट?

पेट्रोल डीजल की कीमतें

पेट्रोल डीजल की कीमतें – पेट्रोल डीज़ल की लगातार बढ़ती कीमतों से सिर्फ गाड़ी रखने वाले ही नहीं, बिना कार और बाइक वालों की मुसीबतें भी बढ़ने वाली है.

पेट्रोल डीजल की कीमतें आपके घर का बजट बुरी तरह से बिगाड़ देगी.

चलिए आपको बताते हैं कि इसकी वजह से कौन-कौन सी चीज़ें महंगी होने वाली हैं.

जानकारों के मुताबिक आपके रोजाना इस्तेमाल में आने वाली चीज़ों की कीमतें तीसरी तिमाही से 5 से 8 पर्सेंट बढ़ सकती है. कई बड़ी कंपनियों ने तो पहले ही दाम बढ़ा दिए हैं. कंपनियों का कहना है कि महंगाई की वजह से उन्हें कीमते बढ़ानी पड़ी. पेट्रोल डीजल की कीमतें लगातार बढ़ रही है.

शुक्रवार को भी दिल्ली-मुंबई सहित देश के चारों महानगरों में इनकी कीमत करीब 50 पैसे बढ़ गई. पेट्रोल अब 87 रुपए प्रति लीटर और डीजल 76 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया है.

पेट्रोल डीजल की कीमतें – अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों की वजह से पेट्रोल की कीमतें इस समय 87 रुपये प्रति लीटर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई हैं, जिसका एफएमसीजी कंपनियों पर सीधा असर पड़ता है.

हाल ही में ब्रोकरेज फर्म जेफरीज की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि कंज्यूमर गुड्स सेक्टर की दिग्गज कंपनी हिंदुस्तान यूनिलीवर ने डिटर्जेंट्स, स्किन केयर और कुछ चुनिंदा साबुन ब्रांड्स की कीमतों में पिछले महीने 5 से 7 पर्सेंट की बढ़ोतरी की है. पैराशूट और मैरिको ने हेयर ऑयल पोर्टफोलियो में 7 पर्सेंट की बढ़ोतरी की है, जबकि ओरल केयर फर्म कोलगेट पामोलिव ने कुछ ब्रांड्स के दाम पिछले महीने 4 पर्सेंट तक बढ़ाए थे.

स्नैक्स और कंफेक्शनरी बनाने वाली कंपनी पारले प्रॉडक्ट्स के बिस्किट वर्टिकल के सीनियर कैटेगरी हेड, बी कृष्ण राव ने बताया, ‘हम दाम में 7-8 पर्सेंट तक बढ़ोतरी करने वाले हैं. सिर्फ एमएसपी में बढ़ोतरी से हमारी लागत 10-12% बढ़ गई है.

पिछले एक महीने में कच्चे तेल की कीमते 7 पर्सेंट और एक साल में 47 पर्सेंट बढ़ी है. जानकारों का कहना है कि रुपये में कमजोरी से ज्यादातर कंपनियों की पैकेजिंग लागत भी बढ़ेगी. बॉटल्स और ट्यूब, दोनों तरह के पैकेजिंग मैटीरियल में पेट्रोलियम डेरिवेटिव का इस्तेमाल किया जाता है. कुछ फूड प्रॉडक्ट्स की पैकेजिंग में पाम ऑयल बायप्रॉडक्ट्स का भी इस्तेमाल होता है, लेकिन इस पर भी इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ने से कंपनियों की लागत पर असर पड़ा है. इस साल मार्च में क्रूड पाम ऑयल पर ड्यूटी को 30 पर्सेंट से बढ़ाकर 44 पर्सेंट और रिफाइंड पाम ऑयल पर ड्यूटी को 40 पर्सेंट से बढ़ाकर 54 पर्सेंट किया गया था.

यानी पेट्रोल डीजल की कीमतें तेल, साबुन, बिस्किट, नमकीन जैसे चीजों के दाम तो बढ़ा देगी. साथ ही दूध और सब्ज़ी पर भी जल्द ही इसका असर दिखेगा.

Don't Miss! random posts ..