ENG | HINDI

वह बंदर जिसकी वजह से मारे जा चुके हैं 2.5 करोड़ लोग

बंदर

आज हम आपको एक ऐसे बंदर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके कारण दुनिया भर में करीब २.५ करोड़ लोगों की जान चुकी है.

जी हाँ दोस्तों वैसे तो यह बंदर एक आम बंदर ही था लेकिन फिर भी इसके कारण दुनिया में एक ऐसी बीमारी फैल गई जिससे लोगों को बहुत बुरी तरह से जुझना पड़ा.

दरअसल हम जिस बीमारी की बात कर रहे हैं वे है एड्स. एडस एक ऐसी बीमारी है जो मनुष्य के शरीर में बीमारियों से लड़ने वाली क्षमता को धीरे-धीरे कमजोर कर देती है. एड्स को एक ऐसी बीमारी माना जाता है जिसका कोई इलाज नहीं है हालाँकि पिछले कुछ समय में एड्स के लिए कारगर इलाज की खोज की गई है लेकिन वह इतना महँगा है की वह गरीबों की पहुंच से बाहर है.

बंदर

तो दोस्तों आखिर एड्स इंसानो तक पहुंचा कैसे और इसके पीछे एक बंदर को जिम्मेदार क्यों माना जाता है. असल में हुआ ये की अफ्रीका में एक शिकारी ने एक बंदर का शिकार कर उसका मांस खा लिया था जिसके कारण बंदर की वह बीमारी उस इंसान में आ पहुंची और उसके बाद पूरे गांव से लेकर विश्व भर में. तो आइए अब जानते हैं एड्स से जुड़ी कुछ और दिलचस्प बाते –

१ – अब तक एड्स के कारण दुनिया में ढाई करोड़ों लोगों की जान जा चुकी है.

२ – एड्स दिवस हर साल 1 दिसंबर को मनाया जाता है इस दिन लोगों को एड्स के प्रति जागरूक करने के लिए तरह-तरह के प्रोग्राम आयोजित करवाए जाते हैं. WHO ने लाल रीबन को एड्स के सिंबल के रूप में पहचान दी है.

३ – एड्स का पहला मामला 1959 में सामने आया था जब अफ्रीका के कांगो देश में रहने वाले एक बीमार व्य्कति के खून की जांच की गई तो उसमें एक नए प्रकार का जीवाणु पाया गया, बाद में इसे एड्स नाम दिया गया.

४ – THE HUNTER THEORY, वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अध्ययन में एक नई थ्योरी सामने आई जिसे Hunter Theory नाम दिया गया. इस थ्योरी की कहानी के मुताबिक कहा जाता है की सन 1930 में अफ्रीका का एक शिकारी जंगलों में बंदर के शिकार कर रहा था इसी दौरान बंदर ने उसे काट लिया. माना जाता है कि इस घटना के बाद एड्सजीवाणु पहली बार किसी इंसानी शरीर में पहुंचा था.

५ – भारत में एड्स का पहला मामला 1986 में सामने आया था जब एक विदेशी टूरिस्ट के संपर्क में आने पर एक भारतीय महिला को एड्स हो गया. अगले एक साल में केवल भारत में ही यह बीमारी 135 लोगों को अपना शिकार बना चुकी थी.

६ – एड्स के सबसे अधिक रोगी साउथअफीर्का में पाए जाते हैं, यहाँ तक की साउथअफ्रीका के 10 प्रतिशत लोग एड्स के रोगी हैं.

७ – जहा एक तरफ दुनिया में 2.5 करोड़ लोग एड्स के कारण अपनी जान गवाह बैठे हैं वही इस समय दुनिया में कुल 3 करोड़ 36 लाख लोग एड्स से जूझ रहे है.

बंदर

बता दे की हर दिन दुनिया में 900 बच्चे एड्स के शिकार हो जाते है जिसमें से केवल कुछ ही को सही समय पर इलाज मिल पाता है. एड्स एक गंभीर बीमारी है जिसके चलते हम सभी को थोड़ा सतर्क होना पड़ेगा.

Article Categories:
विशेष

Don't Miss! random posts ..