ENG | HINDI

भारत के इस राज्य में तेजी से फैल रही है एड्स की बिमारी !

एड्स की बिमारी

एड्स की बिमारी – अक्सर कई मुद्दे ऐसे होते है जिन पर हम खुलकर बात नहीं करते ।

लेकिन इसके बावजूद वो हमारे जीवन पर गहरा असर डालते हैं । ऐसे ही टॉपिक्स में से एक एड़स की बिमारी है । जिसके बारे में लोग जानते हो या न जानते हो लेकिन कोई भी इस बारे में पब्लिकलि बताने से कतराता है । जबकि ये एक ऐसी बिमारी है जिसका पूर्ण इलाज आज तक मेडिकल सांइस ढ़ूढ नहीं पाई है ।और यही कारण है कि हमें ऐसे टॉपिक्स पर खुलकर बोलने की जरुरत है ।

भारतीय संस्कृति के अनुरुप हमें समाज में यौन संबंध और उसे जुड़ी बिमारियों के बारे में समाज में खुलकर बोलने की इजाजत नहीं है और शायद यही वजह है कि आज हजारों लोग एड्स जैसी खतरनाक बिमारी की चपेट में आ रहे है ।और बिमारी होने के बाद लोग एड्स से पीड़ित व्यक्ति को  एड्स की बिमारी को छूआ छूत की बिमारी का हवाला देकर समाज से निष्कासित भी कर देते है ।

एड्स की बिमारी

एड्स का भारत में पैदा हुई बिमारी नहीं है लेकिन आज के वक्त में इस बिमारी का प्रभाव भारत को भी अपनी चपेट में लेता जा रहा है । भारत का मणिपुर राज्य  में ये बिमारी बहुत तेजी से फैल रही है ।जिसका मुख्य कारण यौन संबंध माना जा रहा है ।

मणिपुर की एड्स निंयत्रण सोसायटी के मुताबिक 2016 -17 में आए एचआईवी के मामलों में 80 प्रतिशत मामलों में एचआईवी का संक्रमण यौन संबंधों के कारण हुआ था । और केवल एक प्रतिशत में मामलों में एचआईवी सुइयों के कारण एचआईवी फैला था ।

एड्स की बिमारी

रिपोर्टस के मुताबिक भारत में इस बिमारी का संक्रमण पहले सुइयों दारा हुआ करता था लेकिन पिछले दस सालों में एचआईवी के लिए यौन संबंधो मुख्य रुप से जिम्मेदार रहे हैं । मणिपुर में पिछले साल अगस्त 2017 में एचआईवी के 24,547 मामले सामने आए थे । हालांकि मणिपुर में एचआईवी पहले भी एक बार तेजी से फैल चुका है । और अब दोबारा ये बिमारी यहां अपना घर बना रही है । 90 के दशक में मणिपुर में एचआईवी रोग बहुत तेजी से फैला था ।

जिसके चलते मणिपुर के आधे से ज्यादा युवक और बच्चे इसकी चपेट में आ गए थे ।

एड्स की बिमारी

90 के दशक में पैदा हुए बच्चे अब वयस्क बन चुके है और यौन रुप से सक्रिय है जिस वजह से ये बिमारी दोबार तेजी से फैल रही है । ऐसा इसलिए क्योंकि एचआईवी से पीड़ित लोग समाज से ठुकराई जाने के डर से और विषाणु फैलने के चलते साथी न मिल पाने के डर से किसी को अपनी बीमारी के बारे में नहीं बताते ।और अपने साथी के साथ यौन संबंध बना लेते है ।जिस कारण ये बिमारी एक के बाद एक लगातार लोगों में फैलती जा रही है ।

एचआईवी पीड़ित लोग को समाज से ठुकाराए जाने का डर होता है ।जिसके लिए वो अपने साथी से अपनी बिमारी के बारे में छुपाते है । लेकिन कहीं न कहीं इसके लिए हम ही जिम्मेदार है । क्योंकि आज भी भारत के कई राज्य ,गांव , शहर ऐसे है जहां के लोग इस बिमारी को लेकर उतने जागरुक नहीं है जिनमें से एक मणिपुर भी है ।

एड्स की बिमारी बढ़ रही है – इस बिमारी को रोकने का एक मात्र उपाय ये है कि एड्स जैसी बिमारी को लेकर लोगों को पूर्ण जानकारी दी जाए । क्योंकि रोग की रोकथाम इलाज से बेहतर होती है ।

Don't Miss! random posts ..