ENG | HINDI

भारत के इस मशहूर पर्यटन स्थल से जुड़े हैं महाभारत काल के कई रहस्य !

महाभारत काल के रहस्य

महाभारत काल के रहस्य – भारत में कई ऐसे पर्यटन स्थल मौजूद हैं जिनकी खूबसूरती देश-विदेश के पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है.

इनमें कुछ ऐसे पर्यटन स्थल भी हैं जो ऐतिहासिक और धार्मिक नज़रिए से काफी महत्वपूर्ण माने जाते हैं.

आज हम आपको भारत के एक ऐसे ही मशहूर पर्यटन स्थल के बारे में बताने जा रहे हैं जिससे महाभारत काल के रहस्य जुड़े हुए हैं.

यहां आनेवाले लोगों को घूमने-फिरने के अलावा महाभारत काल से जुड़े रहस्यों को करीब से जानने का मौका भी मिलता है.

मनाली से जुड़े हैं महाभारत काल के रहस्य

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू से उत्तर दिशा में सिर्फ 40 किलो मीटर की दूरी पर लेह की ओर जानेवाले राष्ट्रीय राजमार्ग पर घाटी के सिरे के पास मनाली स्थित है.

यहां के खूबसूरत और प्राकृतिक नज़ारें, एतिहासिक मंदिर, फिजाओं में फैली बर्फ की चादर और रोमांचकारी गतिविधियां पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षिक करती हैं.

हिडिम्बा मंदिर

यहां स्थित हिडिम्बा मंदिर का महाभारत काल से गहरा रिश्ता है. बताया जाता है कि अज्ञातवास के दौरान भीम ने हिडिम्बा के भाई हिडिम्ब नाम के राक्षस को मार दिया था. कहा जाता है कि हिडिम्बा अपने भाई की मृत्यु का बदला लेना चाहती थी लेकिन जब उसने भीम को देखा तो उनपर मोहित हो गई. जिसके बाद हिडिम्बा का विवाह भीम से संपन्न हुआ था. मनाली का हिडिम्बा मंदिर भीम की पत्नी को हिडिम्बा को समर्पित है.

अर्जुन गुफा

मनाली में स्थित अर्जुन गुफा का संबंध भी महाभारत काल से है. मनाली के पिरनी गांव में स्थित अर्जुन गुफा को देखने के लिए देशभर से सैलानी आते हैं. मान्यता है कि महाभारत काल में अर्जुन ने यहां ठहरकर पशुपति अस्त्र हांसिल किया था.

रोहतांग पास

महाभारत काल से संबंध रखनेवाले इस पर्यटन स्थल के केंद्र 2 से रोहतांग पास बस 16 किलोमीटर की दूरी पर  स्थित है. रोहतांग पास लाहौल-स्पिति और आसपास के कई खूबसूरत स्थलों का दीदार कराता है.

सोलांग घाटी

ब्यास कुंड और सोलांग गांव के बीच स्थित सोलांग घाटी यहां आनेवाले पर्यटकों को बेहद भाता है. यहां पर बर्फ से ढकी घाटी का दीदार करने का मज़ा ही कुछ और है. सोलांग घाटी में ग्लेशियर और बर्फ की चादर में ढकी पहाड़ियों को देखने के लिए देश-विदेश से सैलानी आते हैं.

नेहरू कुंड

मनाली में रोहतांग पास पर बना हुआ नेहरू कुंड एक प्राकृतिक और खूबसूरत झरना है. यह झरना मनाली से महज 5 किलोमीटर पर स्थित है जहां सुबह और शाम के वक्त सैलानियों का जमावड़ा लगा रहता है.

कैसे पहुंचे मनाली

मनाली का मौसम साल भर सुहाना ही बना रहता है यही वजह है कि पूरे साल यहां सैलानियों के आने जाने का सिलसिला जारी रहता है. मनाली वायु, रेल और सड़क मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है. अगर आप यहां जाना चाहते हैं तो फिर अपनी सुविधा के अनुसार रेल, सड़क और वायु में से किसी भी मार्ग को चुन सकते हैं.

बहरहाल अगर आप भी प्राकृतिक सुंदरता और बर्फ में लिपटी हुई घाटियों का दीदार करने के साथ महाभारत काल से जुड़ी प्राचीन धरोहरों के बारे में जानने की इच्छा रखते हैं तो फिर मनाली आपका इंतज़ार कर रहा है.

Don't Miss! random posts ..