ENG | HINDI

कलियुग को लेकर श्रीकृष्ण ने की थी ये भविष्यवाणियां, जानकर चौंक जाएंगे आप

श्रीमदभागवत गीता

श्रीमदभागवत गीता में जीवन से संबधित हर दर्शन का वर्णन है। धर्म, मोक्ष, कर्म और मानवता से जुड़े हर सवाल का जवाब इस ग्रंथ में उपलब्ध है। शायद यही वजह है कि श्रीमदभागवत गीता को भगवान का गीत भी कहा जाता है।

श्रीमदभागवत गीता में संसार के आखिरी युग कलियुग के बारे में काफी बातें कही गईं हैं। ये बातें आज के युग में चरितार्थ होती सिध्द हो रही हैं। श्री कृष्ण ने कहा था कि  इस युग में धर्म, सत्य, सहिष्णुता , दयाभाव, उम्र, शरीर की ताकत और याददाश्त सब कुछ घटता जाएगा जो अब सच होता प्रतीत हो रहा है।

श्रीमदभागवत गीता

इसके अलावा इस युग में इंसान की साख, उसकी शान सब कुछ पैसा ही माना जाएगा ऐसा भी श्री कृष्ण ने भविष्यवाणी कर दी थी। साथ ही श्री कृष्ण का ये भी कहना था कि इस युग में सिर्फ बाहरी आकर्षण ही लगाव और प्यार का आधार रह जाएगा। स्त्री और पुरूष सिर्फ आकर्षण के आधार पर ही एक-दूसरे के साथ रहने के लिए तैयार हो जाएंगे।

श्रीमदभागवत गीता

आध्यात्म और पवित्रता अधिकांश लोगों के अंदर मौजूद नहीं रह जाएंगे। किसी व्यक्ति के विचारों के आधार पर नहीं, बल्कि सिर्फ एक पवित्र धागा पहनने से ही कोई व्यक्ति पंडित माना जाएगा।

इस कलियुग को लेकर श्रीकृष्ण ने ये भी कहा था कि इस युग में किसी शख्स की प्रतिष्ठा का आधार सिर्फ उसकी कमाई ही होगी।

जो लोग शब्दों से खेलने का हुनर रखेंगे, बातचीत में चाटुकारिता रखेंगे वो ही इस युग में सफल हो पाएंगे। इस युग में केवल पेट भरना ही जीवन का लक्ष्य रह जाएगा। इंसान सिर्फ रोज़ी रोटी कमाने की जद्दोजहद में ही लगा रहेगा। बनावटीपन जीवन का आधार बन जाएगा और जो व्यक्ति बनावटीपन की कला में निपुण होगा उसे अच्छा समझा जाएगा। सर्दी, तूफान, गर्मी, बाढ़ और बर्फबारी इस कदर होगी कि ये लोगों की परेशानी की वजह बन जाएगी। मनुष्य के जीवन काल की अवधि भी धीरे-धीरे कम होती जाएगी। लोग अपने माता-पिता की देखभाल करना, उन्हे सहारा देना छोड़ देंगे।

श्री कृष्ण ने कहा था कि इस युग में लोग पैसों के लिए एक-दूसरे से लड़ने के लिए यहां तक कि उनकी जान लेने के लिए भी तैयार रहेंगे। अपने दोस्त, रिश्तेदार सबसे ऊपर लोगों के लिए पैसा होगा। असभ्य लोग भगवान के नाम पर, साधु का वेश धारण कर, अपनी आजीविका चलाएंगे। गायों का सम्मान भी सिर्फ तब तक ही किया जाएगा जब तक वो दूध देने के योग्य रहेगी इसके बाद या तो उनका त्याग कर दिया जाएगा या उनकी हत्या कर दी जाएगी। लोग अपने फायदे के लिए दूसरों से कटु वचन बोलने में भी नहीं हिचकिचाएंगे।

श्रीमदभागवत गीता

श्री कृष्ण की ये भविष्यवाणियां इस समय सच साबित होती दिख रही हैं। समाज में रिश्तों से ऊपर लोग पैसे को महत्व भी देने लगे हैं और बाकी भी सभी बातें अब सच होती दिखाई दे रही हैं।

श्रीमदभागवत गीता

श्री कृष्ण ने पृथ्वी का अंत होने के बारे में भी श्रीमदभागवत गीता में ज़िक्र किया था, उन्होने बताया था कि कलियुग के बाद प्रलय आएगी और उसी से इस धरती का अंत होगा।

Don't Miss! random posts ..