ENG | HINDI

विराट कोहली को मिला डॉन ब्रैडमैन का 82 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ने का शानदार मौका

डॉन ब्रैडमैन का रिकॉर्ड

डॉन ब्रैडमैन का रिकॉर्ड – इंग्लैंड से दो टेस्ट मैच हारने के बाद टीम इंडिया ने जिस तरह से तीसरा टेस्ट जीतकर इतिहास रचा है, उससे न सिर्फ टीम इंडिया से दर्शकों की उम्मीदें बढ़ गई है, बल्कि विराट कोहली के पास भी इतिहास रचने और डॉन ब्रैडमैन का रिकॉर्ड तोड़ने का एक शानदार मौका है.

विराट की कप्तानी में टीम इंडिया ने इंग्लैंड को ट्रेंट ब्रिज में 203 रनों से पीटने के बाद धमाकेदार वापसी करते हुए अपनी सीरीज जीत की उम्मीदों को कायम रखा है. इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में टीम इंडिया ने इंग्लैंड की बढ़त को 1-2 से कम कर दिया है.

कोहली की टीम इंडिया के पास अब एक ऐसा बड़ा कारनामा करने का मौका है, जो क्रिकेट के इतिहास में पिछले 82 सालों में किसी भी टीम ने नहीं किया है. वह है सीरीज में 0-2 से पिछड़ने के बावजूद पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में 3-2 से जीत हासिल करना. लेकिन, नॉटिंघम में जीत के बाद टीम इंडिया इस उपलब्धि को हासिल करने की ओर आगे बढ़ गई है. 82 सालों से आज तक कोई भी टीम किसी टेस्ट सीरीज में 0-2 से पिछड़ने के बाद सीरीज जीतने में कामयाब नहीं हुई है.

साल 1936-37 में ऑस्ट्रेलिया ही एकमात्र ऐसी टीम रही है, जिसने सर डॉन ब्रैडमैन की कप्तानी में इंग्लैंड के खिलाफ एशेज में 0-2 से पिछड़ने के बाद सीरीज 3-2 से जीती है. ऐसे में यदि टी इंडिया साउथेम्प्टन और द ओवल में इंग्लैंड की टीम को मात दे देती है, तो ऐसा करके वो नया इतिहास रच देगी.

साल 1936-37 एशेज में 0-2 से पिछड़ने के बाद ऑस्ट्रेलिया के कैप्टन ब्रैडमैन ने मेलबर्न में 270 रनों की पारी खेली और ऑस्ट्रेलिया के लिए 365 रनों की जीत में अहम किरदार निभाया. अगले दो मैचों में ऑस्ट्रेलिया ने एडिलेड में 148 रनों से इंग्लैंड को हराया. ब्रैडमैन की ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड को एक पारी और 200 रन से हराते हुए सीरीज 3-2 से अपने नाम कर ली. ब्रैडमैन ने एडीलेड में 212 और मेलबर्न में 169 रन बनाए थे.

विराट की कप्तानी में टीम ने कई मैच जीते हैं और टीम का प्रदर्शन भी अच्छा रहा है. ऑस्ट्रेलिया की जीत में जिस तरह से ब्रैडमैन न अहम भूमिका निभाई थी, उसी तरह विराट टीम इंडिया की जीत में अहम भूमिका निभा सकते हैं. विराट अभी फॉर्म में हैं. 2018 इंग्लैंड दौरे पर कोहली ने एजबेस्टन टेस्ट में कुल 200 रन बनाए और फिर लॉर्ड्स में नाकामी के बाद जोरदार वापसी करते हुए नॉटिंघम में 200 रन बनाए. विराट कोहली पहले ऐसे कप्तान बने हैं, जिन्होंने सातवीं बार एक टेस्ट में 200 या उससे ज़्यादा रन बनाकर टीम को जीत दिलाई. कोहली ने डॉन ब्रैडमैन और रिकी पोंटिंग के छह बार 200 या उससे अधिक रन बनाकर टीम को जीत दिलाने के रिकॉर्ड को तोड़ा है.

ऐसे में यदि कोहली अपने फॉर्म में बने रहे तो इस बात में कोई शक नहीं की वो डॉन ब्रैडमैन का रिकॉर्ड भी तोड़ देंगे.

Article Categories:
खेल

Don't Miss! random posts ..