ENG | HINDI

16 वर्ष की उम्र में इंजीनियर बनने वाली कासी भट्ट ने 10 साल की उम्र में की थी 10वीं पास

कासीभट्ट सम्हिता

कासीभट्ट सम्हिता – आप 16 साल की उम्र में क्या करते थे?

ऑफकोर्स दोस्तों के साथ कॉलेज जाते होंगे… मस्ती करते होंगे… घूमते होंगे… या फिर भविष्य के सपने बुनते होंगे।

लेकिन कुछ लोग हैं जो 16 की उम्र में अपना भविष्य बना लेते हैं मतलब की करियर बना लेते हैं। और ऐसे बच्चों के मां-बाप की खुशी का फिर ठिकाना नहीं रहता होगा।

पिछले ही महीने 10वीं और 12वीं के रिजल्ट घोषित हुए हैं। जिन्होंने बहुत अच्छा रिजल्ट किया है उसके मां-बाप खुश हो रहे हैं और बच्चे आगे की तैयारी में लग गए हैं। इन सारे बच्चों की उम्र 16 और 17 के आसपास रही होगी। और इस उम्र में हर बच्चे यह करते हैं। जो इससे आगे के सपने को इस उम्र में पूरा कर लेते हैं वे इतिहास बन जाते हैं और खबरें फिर उन्हीं से जुड़ी होती हैं। आज हम ऐसी ही एक लड़की की बात करेंगे जिसने खेलने-कूदने और कॉलेज जाने की उम्र में बीटेक कर अपना करियर बना लिया।

टीनएजर इंजीनियर

कासीभट्ट सम्हिता

हम बात कर रहे हैं कासीभट्ट सम्हिता की जिन्होंने 16 साल की उम्र में यह कमाल कर के दिखाया है। इनको देख कर लगता है कि टैलेंट भगवान की देन है जो किसी किसी को ही हासिल होती है। यह तेलंगाना की रहने वाली हैं और आज की तारीख में ये अपने आसपास के लोगों के लिए मिसाल बन चुकी हैं। जो मात्र 16 साल की उम्र में बीटेक की पढ़ाई पूर कर इंजीनियर बन चुकी हैं। उनका नाम तेलंगना की सबसे युवा महिला इंजीनियर में लिया जाता है।

मां-बाप हैं खुश

कासीभट्ट सम्हिता

कासीभट्ट सम्हिता के अभिभावक काफी खुश हैं। उनके गर में मेहमानों का तांता लगा हुआ है। लोग उनके घर में शुभकामनाएं देने आ रहे हैं और उनकी खुशियों में सामिल हो रहे हैं। सम्हिता के पिताजी एल.एन. कासीभट्ट कंसल्टेंट का काम करते हैं और मां गीता चतुर्वेदुला टेक महिन्द्रा में प्रोजेक्ट मैनेजर हैं। गीता चतुर्वेदला अपनी बेटी के बारे में कहती हैं कि जब वह 3 साल की थी, तब उन्हें लगभग हर देश की राजधानी के नाम की जानकरी थी। इस बात को देखते हुए उन्होंने यह फैसला लिया कि वे अपने बेटी के इस टेलेंट को बेकार नहीं जाने देंगे। पढ़ाई में उन्होंने पूरी तरह से सम्हिता का साथ दिया।

राष्ट्रपति से मिल चुका है सम्मान

कासीभट्ट सम्हिता

कासीभट्ट सम्हिता को उनकी पढ़ाई और स्मरण शक्ति के लिए राष्ट्रपति से भी सम्मान हासिल हो चुका है। जब ये राजधानी की नाम बोलकर सुर्खियों में आईं थीं तो तत्कालीन राष्ट्रपति ए. पी. जे. अब्दुलकलाम ने भी इनसे मुलाकात की थी और इन्हें भविष्य की शुभकामनाएं दी थीं। इस फोटो में वे राष्ट्रपति कलाम से हाथ मिला रही हैं। आप देख सकते हैं कि सम्हिता बिल्कुल भी नहीं बदली हैं।

10 साल की उम्र में की थी 10वीं पास

कासीभट्ट सम्हिता

कासीभट्ट सम्हिता ने 10 साल की उम्र में 10 वीं कक्षा में ही 8.8 जीपीए हासिल किए थे। 10वीं कक्षा के बाद उन्होंने 12 वीं कलास में 89 प्रतिशत अंक प्राप्त किए। इसके बाद इन्होंने इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए अप्लाई किया।लेकिन उम्र कम होने के कारण इनका किसी कॉलेज में एडमिशन नहीं रहा था। जिसके कारण इनके पेरेंट्स ने साल 2014 में तेलंगना सरकार से अपील की, कि वह सम्हिता को इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए दाखिले की मंजूरी दें। उनकी मांग थी की कॉलेजों में इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए उम्र की शर्त हटाई जाए।

सरकार के दखल देने के बाद आगे का रास्ता निकला और उन्होंने चैतन्य भारती इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नॉलजी से इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स में दाखिला लिया और इंजीनियरिंग की डिग्री पूरी की।सम्हिता ने इलेक्ट्रिक और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में पढ़ाई की। वह पॉवर सेक्टर में जाकर देश की सेवा करना चाहती हैं ताकि देश को वह तरक्की की राह पर आगे बढा़ सके।

तो ऐसी हैं सबसे कम्र उम्र की छोटी सी इंजीनियर जो आगे जाकर देश के लिए कुछ अलग करना चाहती हैं। इसकी लिए कासीभट्ट सम्हिता को बहुत सारी शुभकामनाएं। वह ऐसी ही अपने काम में आगे बढ़ती रहें और देश का नाम रोशन करती रहें।

Don't Miss! random posts ..