ENG | HINDI

यहां पड़ा है अरबों का खजाना लेकिन कोई हाथ भी नहीं लगाता

कमरूनाग

कमरूनाग झील – भारत के इतिहास में एक समय ऐसा था जब इसके पास खजाने की कोई कमी नहीं थी।

देश के राजा-महाराजाओं के पास खूब अरबों-खरबों का खजाना हुआ करता था जिसका इस्‍तेमाल वो अपने राज्‍य के विकास में किया करते थे लेकिन विदेशियों और आक्रमणकारियों के चक्‍कर में आज देश कंगाल हो चुका है।

खजाना तो छोडिए उसके पास अपने नागरिकों को दो वक्‍त की रोटी मुहैया करवाने के लिए भी पैसे नहीं हैं। देश की इस हालत का जिम्‍मेदार आप इतिहास को दे सकते हैं जिसमें देश के खजाने को कई आक्रमणकारियों ने लूटा और अपने देश ले गए। इसमें ब्रिटिश भी शामिल है क्‍योंकि उसने भी गुलामी के दिनों में हमारा खूब खजाना लूटा है। इसके बाद नाम आता है हमार देश के नेताओं का। हमारा देश इतना भी गरीब नहीं है अगर होता तो यहां के नेता इतने करोड़ों का घोटाला करके जेल में ना सड़ रहे होते।

खैर, छोडिए इन सब बातों को.. हम बात करते हैं भारत के खजाने की। आज भी देश के कई हिस्‍सों में खजाने के मिलने की खबरें मिलती हैं।

आज हम आपको एक ऐसे ही खजाने के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे कोई हाथ नहीं लगा सकता।

भारत के अमीर मंदिर

भारत एक धार्मिक देश है और यहां पर कई ऐसे मंदिर हैं जिनके बार अरबों रुपयों का खजाना है। इनमें से कुछ मंदिर सैंकड़ों साल पुराने हैं और इनमें जो भी चढ़ावा आता है उसे तिजोरियों में बंद करके रखा जाता है।

एक अनोखा मंदिर

एक मंदिर ऐसा भी जहां पर आने वाला चढ़ावा सबके सामने खुले में ही पड़ा रहता है और कोई उसे हाथ नहीं लगाता। य‍ह मंदिर हिमाचल प्रदेश में कमरूनाग झील के पास स्थित है और यह मंदिर कमरूनाग देवता को समर्पित है। इस मंदिर तक पहुंचने का रास्‍ता बहुत मुश्किल है। ये ऊंचे पहाड़ों और घने जंगलों से घिरा है।

कमरूनाग

झील में है खजाना

इस मंदिर के पास ही कमरूनाग नाम की एक झील है। इस झील में हज़ारों भक्‍त सोने-चांदी के गहने और पैसे चढ़ाते हैं। वो सब अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए ऐसा करते हैं। ना जाने कितने सालों से ये परंपरा चली आ रही है और इस झील के अंदर अरबों का खजना गड़ा हुआ है। आपको दूर से ही दिख जाएगा कि झील के अंदर कितनी धन-दौलत चमक रही है।

इस झील की सबसे खास बात ये है कि कोई भी यहां पड़े खजाने को चुरान की कोशिश नहीं करता है। इसे आप आस्‍था का नाम भी दे सकते हैं जिसके वश में आकर लोग अपनी जान भी दे देते हैं और किसी की जान ले भी लेते हैं तो फिर ये तो बस एक खजाना है।

कमरूनाग

झील के खजाने पर लोगों की बुरी नज़र इसलिए भी नहीं रहती है क्‍योंकि इसकी रक्षा एक नाग करता है। कहते हैं कि ये झील पाताल लोग से जुड़ी है और इसका सारा खजाना देवताओं तक जाता है। अगर किसी ने भी इस खजाने को चोरी करने की कोशिश की तो उसे नाग डस लेगा।

इस झील को देखने के लिए आप भी कमरूनाग मंदिर के दर्शन करने आ सकते हैं।

Don't Miss! random posts ..