ENG | HINDI

अगर लड़की पहनती है जींस तो करेगी किन्नर बच्चे पैदा – केरल के प्रोफेसर

किन्नर बच्चे

किन्नर बच्चे – लडकियों को ना जाने रोज कितने ही ताने सुनने को मिलते हैं।

अब तो कई मौलवी फतवे भी निकालने लगे हैं जो मुस्लिम कम्युनिटी की लड़कियों के लिए परेशान करने वाला होता है। लड़कियों के लिए लाइफ कभी सही रहती नहीं है उसमें अगर कोई ऊटपटांग चीजें बोल दे तो उनकी लाइफ में गहरा असर डालती हैं।

अब जैसे की अब साउथ के एक प्रोफेसर ने कहा है कि जो लड़कियां जींस पहनती हैं वे किन्नर बच्चे पैदा करती हैं।

किन्नर बच्चे

रोज की बात है यह

आए दिन कोई ना कोई ऊटपटांग बयान देते रहता है। अब तो ऐसी बातें रोज की बात हो गई है। कोई खुद के एकस्रसाइज करने को बलात्कार से तुलना कर देता है तो कोई महिलाओं के ब्रेस्ट को तरबूज कह देते हैं। अब इस प्रोफेसर को ही ले लीजिए जिसने लड़कियों के जींस पहनने पर एक अजीब बात कह दी है। प्रोफेसर रजीथ ने कहा है कि जो लड़कियां जांस पहनती हैं उनके बच्चे ट्रांसजेंडर होते हैं। उन्होंने अपने बात का लॉजिक भी दिया है। प्रोफेसर ने कहा है कि जींस पहनने वाली लड़कियों में नारीत्व में गिरावट आती है और वे किन्नर बच्चे को जन्म देती हैं।

हद है। महिलाओं के तो छोटे कपड़े पहनने से रेप होते हैं। और जितने भी इस दुनिया में ट्रांसजेंडर बच्चे पैदा हुए हैं वह जींस पहनने वाली महिलाओं के कारण हुए हैं… शायद यही कहना चाहते हैं ये महान प्रोफेसर।

ट्रांसजेंडर अगर विरोध करें तो कुछ गलत नहीं

अब इस बाद पर ट्रासजेंडर समुदाय विरोध करे तो वे कुछ गलत नहीं करेंगे। पहली बात तो यह कि ट्रांसजेंडर होना कोई गलत बात नहीं है वह केवल हमारे देश में ही एक अपशब्द की तरह इस्तेमाल किया जाता है। पहले तो मानना था कि कम पढ़े-लिखे लोग ही महिलाओं और ट्रांसजेंडर के प्रति संकुचित सोच रखते हैं। लेकिन इस प्रोफेसर ने पढ़े-लिखे लोगों की मानसिकता का परिचय दिया है।

किन्नर बच्चे

जींस पहनने से होते हैं ट्रांसजेंडर बच्चे पैदा

प्रोफेसर रजीथ केरल में स्वास्थ्य जागरुकता से संबंधित अभियान का हिस्सा हैं। एक जागरुकता सत्र के दौरान कहा था कि “जो महिलाएं जींस पहनती हैं, उनके नारीत्व में गिरावट आती है और वे किन्नर बच्चे को जन्म देती हैं।”

उन्होंने कहा, ‘अच्छे बच्चे उन्हीं के होते हैं जहां पुरुष और औरत बतौर पुरुष और औरत के रूप में जीते हैं, लेकिन जब एक महिला अपने नारीत्व का स्तर गिराती है या फिर जब एक पुरुष अपने पुरुषत्व का स्तर नीचा करता है, तब उनके यहां पैदा होने वाला बच्चा किन्नर होता है।’ साथ उन्होंने यह भी कहा कि माता-पिता के विद्रोही स्वभाव के कारण ही बच्चे आत्मकेंद्रित होने लगते हैं।

किन्नर बच्चे

इस प्रोफेसर द्वारा ऐसे बयान देने का मामला यह पहला नहीं है। इसने 2013 में अपने सरकारी महिला कॉलेज में महिलाओं को लेकर एक विवादित बयान दिया था। उस समय उन पर केस भी किया गया था।

केरल सरकार करेगी करवाई

केरल सरकार इस प्रोफेसर के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है जिन्होंने कहा था कि जींस पहनने वाली महिलाएं किन्नरों को जन्म देती हैं। फिलहाल सरकार ने इस प्रोफेसर को सभी सरकारी विभागों और संस्थानों को पत्र जारी कर निर्देश दिया है कि उन्हें किसी कार्यक्रम में आमंत्रित न किया जाए।

राज्य सरकार में स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने कहा कि केरल सरकार कलाडी के एक कॉलेज के प्रोफेसर (डॉक्टर) रजीथ कुमार के उनके आपत्तिजनक बयान, अंधविश्वास को बढ़ाने और कामुक विचार को लेकर कार्रवाई करने की तैयारी कर रही है।

अंदविश्वास को बढ़ावा देना

इस तरह की बातें एक तरह से किन्नर बच्चे के धविश्वास को बढ़ावा देती हैं। स्वास्थ्य मंत्री शैलजा ने प्रेस रिलीज जारी कर बताया कि उनके विवादित बयान को लेकर सख्त कार्रवाई की जाएगी। इस बयांन को टीवी पर भी दिखाया गया है।

Don't Miss! random posts ..