ENG | HINDI

भारत के इस तोहफे से सुधर रही है अमेरिकी बच्चों की जिंदगी

योग से सेहत

योग से सेहत – योग को सेहत के लिए सर्वोत्तम माना जाता है और सबसे खास बात तो ये है कि इसका जन्‍म भारत से हुआ है।

प्राचीन काल से ही योग लोगों के जीवन को एक नई और स्‍वस्‍थ दिशा दे रहा है। भारत में योग को जितना महत्‍व दिया जाता रहा है उतना शायद ही किसी देश ने दिया होगा।

योग जनक पतंजलि द्वारा बताए गए योगासनों से पूरी दुनिया स्‍वस्‍थ जीवन जीना सीख रही है। ये बात अब सभी जानते हैं कि योग पूरी दुनिया में लोकप्रियता हासिल कर चुका है। भारत के प्रधानमंत्री मोदी जी की सहायता से योग पूरी दुनिया में फैल चुका है और आज सभी अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर योग दिवस मनाया जा रहा है।

हाल ही में अमेरिका में योग के ऊपर शोध चल रहा है और इस रिसर्च में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि जिस पाश्‍चात्‍य संस्‍कृति के पीछे हमारे युवा पागल हुए जा रहे हैं, दरअसल वहां के लोग अब हमारी बरसों पुरानी परंपराओं को अपना रहे हैं। अमेरिका के स्‍कूलों में आजकल बच्‍चों के लिए अन्‍य कक्षाओं की तरह ही योग की कक्षाएं भी शुरु की गई हैं। इनका परिणाम भी बहुत शानदार आ रहा है। बच्चे योग से सेहत पा रहे है.

अमेरिका में आजकल हिंसा और मानसिक अवसाद की घटनाएं बढ़ रही हैं और यहां छोटी-छोटी बात पर भी बच्‍चे बंदूक निकाल लेते हैं। कई बार तो स्‍कूलों में गोलीबारी की घटनाएं भी घटित हो चुकी हैं। इन्‍हीं बुरी आदतों से छुटकारा दिलाने के लिए अब अमेरिकी प्रशासन ने योग का सहारा लिया है।

हाल ही में हुए अध्‍ययन में ये बात सामने आई है कि स्‍कूलों में योग में भाग लेने से बच्‍चे पहले से ज्‍यादा तनावमुक्‍त रहते हैं। इतना ही नहीं योग ने उनके व्‍यवहार और स्‍वास्‍थ्‍य को भी बदलकर रख दिया है। अब बच्‍चे बात-बात पर झगड़ते हनीं हैं और इसके साथ ही उनमें सहनशीलता भी आ गई है।

अमेरिका की टुलेने यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने यह अध्‍ययन किया है। आपको बता दें कि अमेरिकी स्‍कूलों में आजकल योग करना भी एक शैक्षणिक गतिविध माना जाने लगा है।

योग से सेहत के लिए फायदेमंद कुछ योगासन

कपालभाति : सांस लेने की इस प्रक्रिया में नर्वस सिस्‍टम को एनर्जी मिलती है और मस्तिष्‍क की कोशिकाएं रेजुवनेट होती हैं। मधुमेह रोगियों के लिए ये आसन बहुत लाभकारी है। इससे पेट के अंग उत्तेजित होते हैं। इस प्राणायाम से रक्‍त संचार भी बेहतर हो पाता है।

सुप्‍त मत्‍स्‍येंद्रासन : लेटकर शरीर को ट्विस्‍ट करने से अंदरूनी अंगों की मालिश होती है और पाचन तंत्र बेहतर होता है। इस आसन में पेट के अंगों पर भी दबाव पड़ता है।

धनुरासन : इस आसन से अग्‍नाश्‍य को मजबूती मिलती है और ये आसन मधुमेह के रोगियों के लिए अत्‍यंत लाभकारी होता है। इससे पेट की मांसपेशियां मजबूत होती हैं और तनाव में भी कमी आती है।

अगर आप भी अमेरिकियों की तरह योग से सेहत का लाभ पाना चाहते हैं तो अपनी जीवनशैली में इसे जरूर शामिल करें और कोशिश करें कि इससे आपका स्‍वास्‍थ्‍य संवर सके और जीवन भी। योग से हर रोग का ईलाज किया जा सकता है।

Article Tags:
· · · · · · · ·
Article Categories:
समाचार

Don't Miss! random posts ..