ENG | HINDI

तमिलनाडु में 100 जगह पड़े इनकम टैक्स के छापे

इनकम टैक्स के छापे

इनकम टैक्स के छापे – तमिलनाडू में आयकर विभाग ने गुरूवार को खनन छापेमारी की बड़ी कार्यवाई को अंजाम दिया है।

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने खनऩ एवं खनिज निर्यात कंपनियों के खिलाफ टैक्स चोरी के जांच मामले में तमिलनाड़ु और आंघ्र प्रदेश में छापेमारी की। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने इस जांच के दौरान खनन एवं खनिज के करीब 100 ठिकानों पर छापेमारी की।

चोरी मामले में 100 जगहों पर पड़े इनकम टैक्स के छापे

इनकम टैक्स विभाग के  अधिकारियों ने वी वी मिनरल्स और उसके मालिक वैकुंदराजन के ठिकानों पर छापेमारी की।

इनकम टैक्स के छापे

खबरों के मुताबिक आईटी द्वारा यह छापेमारी अवैध खनन के आरोपी वैकुंदराजन के 100 ठिकानों पर छापेमारी की गई थी, हालांकि इस मामले में अब तक कोई बड़ा खुलासा नहीं किया गया है। बता दें कि वीवी मिनरल्स दुर्लभ खनिजों जैले गार्नेट, इल्मेनाइट और रूटाइल का देश में सबसे बड़ा खनिक और निर्यातक है।

इनकम टैक्स विभाग के आला अधिकारियों के मुताबिक तमिलनाड़ु के चैन्नई, कोयंबटूर, तिरूनेलवेली,  तूतूकोरिन एवं कराइकल और आंध्र प्रदेश के विशाखापत्नम एवं श्रीकलाकुलम में कम से कम चार ऐसे कारोबारी समूहों के ठिकानों पर अब भी छापेमारी जारी है। दरअसल ये छापेमारी खनन एवं खनिज मामलों में हुई टैक्स चोरी को लेकर की जा रही है।

इनकम टैक्स के अधिकारियों ने तमिलनाडु के वी वी मिनरल्स पर छापेमारी के बाद बताया कि इस अभियान में आयकर विभाग के करीबन 130 आला अधिकारी, सुरक्षा अधिकारी और पुलिस कर्मी शामिल है।  इसके अलावा अधिकारियों ने यह भी बताया कि इस अभियान के दौरान जिन जिन कंपनियों की तालाशी की जा रही है वे सभी खनन, समुद्री तटीय रेत खनिजों के प्रकरण के निर्यात के कामों में अवैध तौर पर हिस्सेदारी निभा रहे हैं। इसी मामले में टैक्स की चोरी के आरोप में आयकर विभाग उनके खिलाफ छापेमारी कर छानबीन कर रहा है।

इनकम टैक्स के छापे

इनकम टैक्स के छापे के दौरान पाया जाने वाला कथित सारा अवैध मुनाफा इन समूहों ने चीनी मिलों, होटलों, इंजीनियिरिंग कॉलेजों और होटलों जैसे अन्य कारोबारों में निवेश कर टैक्स चोरी की है। इतना ही नहीं इन सभी कंपनियों ने टैक्स कानूनों का उल्लंघन कर विदेशों में भी अलग-अलग तरह से लेन-देन किया है। आयकर विभाग इन कंपनियों के इस विदेशी निवेश पहलुओं पर भी जांच पड़ताल कर रहा है। साथ ही आयकर विभाग अधिकारी छापेमारी के दौरान ऐसे दस्तावेजों की तालाश भी कर रहे है, जिससे उन पर लगाये जाने वाले सभी आरोपों की पुष्टी की जा सके।

मिडियां रिपोर्टस और सूत्रों की माने तो तमिलनाड़ु की वी वी मिनरल्स कंपनी के खिलाफ पहले से काफी शिकायतें दर्ज कराई जा चुकी है। पहले भी उनपर टैक्स चोरी को लेकर कई शिकायतें दर्ज है। वी वी मिनरल्स देश की सबसे बड़ी खनन एवं खनिज निर्यात की कपंनी है। इस कंपनी पर लगे आरोपों और दर्ज केसों के मुताबिक यह कंपनी गैरकानूनी खनन के अलावा समुद्र पर मिलने वाली रेत के अवैध निर्यात में भी शामिल बताई जा रही है।

इन्ही सभी आरोपों के तहत वी वी मिनरल्स कंपनी के करीब 100  ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है।

Don't Miss! random posts ..