ENG | HINDI

आपकी हर गतिविधि पर है गूगल की नज़र

गूगल की नज़र

गूगल की नज़र – आपके बारे में हर छोटी जानकारी रखने के लिए गूगल आतुर रहता है।

आप कहां जा रहे हैं, आप पर गूगल की नज़र है, इस बारे में गूगल जानकारी रखना चाहता है। ये आपकी उन गतिविधियों को भी जान लेता है जिनके बारे में आप स्‍पष्‍ट रूप से बताना नहीं चाहते हैं। मतलब कि जो चीज़ें आप पूरी दुनिया से छिपाना चाहते हैं, गूगल उनका भी पता लगा लेता है।

सूत्रों की मानें तो एंड्रॉयड डिवाइसेज़ और आईफोन पर मौजूद गूगल की कई सर्विसेज़ आपकी लोकेशन को ट्रैक करती रहती हैं और आपकी लोकेशन के डाटा को भी स्‍टोर कर लेती हैं। भले ही आपने प्राइवेसी सेंटिंग पर डिवाइस सैट कर रखा हो लेकिन फिर भी गूगल आपकी हर लोकेशन का पता लगा ही लेता है।

प्रिंसटन के कंप्‍यूटर विज्ञान शोधकर्ताओं ने भी इस बात की पुष्टि की है कि गूगल यूज़र्स की ज्‍यादातर लोकेशन को ट्रैक करता है और ये ही उसका काम है।

आपके मोबाइल में इंस्‍टॉल गूगल मैप जैसे ऐप आपको नेविगेशन के इस्‍तेमाल के लिए उस लोकेशन को एक्‍सेस करने की याद दिलाएंगें। अगर आप आपी लोकेशन को रिकॉर्ड करने के लिए गूगल को हामी भर देते हैं तो गूगल मैप एक टाइमलाइन में आपकी दैनिक गतिविधियों के हर पल का खाका डिस्‍पेल कर देगा।

मैप सर्च के लिए गूगल के एंड्रॉएड और आईफोन यूज़र्स गूगल मैप पर भरोसा करते हैं लेकिन आपको बता दें कि इससे आपकी निजता हमेशा खतरे में रहती है। आप पूरा दिन में कहां -कहां गए, इस सबकी खबर गूगल अपने पास रखता है और इस तरह आपकी निजता हनन का खतरा रहता है और इसका इस्‍तेमाल पुलिस संदिग्‍धों की लोकेशन जानने में भी करती है। गूगल की नज़र आप पर हमेशा रहती है.

हत्‍या का मामला सुलझाया

नॉर्थ कैरोलिना के रेले में पुलिस ने पिछले साल गूगल को एक वॉरंट जारी कर हत्‍या वाली एक जगह के पास डिवाइस का पता लगाने के लिए कहा था। इस तरह अगर आप किसी ऐसी संदिग्‍ध गतिविधि में लिप्‍त रहते हैं तो गूगल की वजह से आपकी चोरी पकड़ी जा सकती है।

कंपनी आपको लोकेशन हिस्‍ट्री नामक सेटिंग पर पॉज़ करने को कहेगी। इस बारे में गूगल सफाई देता है कि कंपनी आपके इतिहास को याद नहीं रख पाएगी कि आप कब कहां गए थे और पहले कहां थे। इस बारे में गूगल के सपोर्ट पेज पर भी लिखा रहता है कि आप किसी भी समय अपनी लोकेशन हिस्‍ट्री बंद कर सकते हैं।

फिर भी खतरें हैं हम

लोकेशन हिस्‍ट्री के ऑफ होने का मतलब है कि जिन जगहों पर भी आप जाएंगें उन्‍हें स्‍टोर नहीं किया जाएगा लेकिन आपको बता दें कि ये पूरा सच नहीं है।

लोकेशन हिस्‍ट्री पॉज़ करने के बाद भी कुछ गूगल ऐप्‍स आपसे पूछे बिना खुद ही आपकी लोकेशन का डाटा स्‍टोर कर लेती हैं। अगर आप किसी जगह पर गूगल के मैप्‍स ऐप नहीं भी खोलते हैं तो भी गूगल उस जगह की एक तस्‍वीर स्‍टोर कर लेती है।

गूगल की नज़र – कई बार गूगल पर कुछ ऐसे सर्च भी हैं जिनका लोकेशन से कोई लेना-देना नहीं होता है। एंड्रॉएड फोन में मोबाइल की जानकारी देने वाली एप्‍स भी आपकी लोकेशन की चुगली कर देती हैं।

Don't Miss! random posts ..