ENG | HINDI

देश की पहली महिला जासूस क्यों हुई गिरफ्तार

महिला जासूस

महिला जासूस – कभी- कभी देश की रक्षा करने वाले ही देश के लिए आघात तक सिद्ध हो जाते हैं ।

और इस बात का जीता जागता उदाहरण बनी भारत की पहली महिला जासूस रजनी पंडित जिन्हे हाल ही में मुंबई की ठाणे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया । रजनी पंडित देश की पहली महिला जासूस है जिनके नाम 75 हजार से ज्यादा केस सॉल्व करने का रिकॉर्ड है । रजनी पंडित जासूस की भूमिका में मुजरिमों को पकडवाने के लिए नौकरानी तक बन चुकी हैं । लेकिन देश के लिए इतनी बार जान जोकिम में डालकर इतने सारे मुजरिमों को पकडवाने वाली रजनी पंडित आखिर गिरफ्तार क्यों हुई । आप भी शायद ये ही सोच रहे होंगें ।

महिला जासूस

 दरअसल मुंबई की ठाणे पुलिस कुछ वक्त पहले सीडीआर यानी गैरकानूनी तरीके से कॉल डिटेल रिकॉर्डस के मामले में एक व्यक्ति को पकड़ा था जिसमें रजनी पंडित के इस मामले में जुड़े होने की लीड मिली थी ।  जिसके बाद पुलिस ने रजनी पंडित को उसे घर से गिरफ्तार कर लिया । रजनी पंडित के साथ दो ओर लोगों को गिरफ्तार किया गया है । पुलिस के अनुसार ये दोनों भी रजनी पंडित के साथ उनके इस गैरकानूनी में सहयोगी थे । इन दोनों जासूसों का नाम संतोष पंडगले और प्रशांत सोनावाणे हैं । इनकी दोनों की उम्र 34 -35 साल हैं । रजनी पंडित सहित इन जासूसों पर पुलिस ने आरोप लगाया है कि इनका समूह देश भर में अवैध रुप से सोर्सिंग और सीडीआर बेचा करते थे .

आपको बतां दे रजनी पंडित इस वक्त 54 साल की हैं । उन्होंने 1991 में अपनी एक टीम बनाकर जासूसी का काम शुरु किया था । जिसमें कुल 20 लोग थे । रजनी पंडित एक पुलिस अधिकारी की बेटी हैं । रजनी ने अपनी टीम के साथ मिलकर अब तक 75 हजार से ज्यादा केसस सॉल्व किए है । जिनके लिए उन्हें अब तक 57 से ज्यादा आवार्डस से सम्मानित किया जा चुका हैं । और उनका यही रिकॉर्ड उनकी गिरफ्तार को सबसे ज्यादा चौंकाता है । क्योंकि किसी के लिए भी यकीनन करना काफी मुश्किल है कि एक पुलिस अधिकारी की बेटी जिसने न जाने कितने मुजरिमों को जेल की हवा खिलाई आज खुद एक मुजरिम बन गई हैं ।

महिला जासूस

रिपोर्टस के मुताबिक पुलिस ने कुछ वक्त पहले समरेश झा नाम के एक जासूस को गिरफ्तार किया था जिसने पुलिस की जांच में रजनी पंडित के इस मामले में होने की लीड दी थी । समरेश नाम के इस शख्स ने पुलिस की जांच में इस बात का खुलासा भी किया कि कैसे ये लोग गैरकानूनी तरीके से लोगों की कॉल डीडेल्स रिकॉर्ड करके उसे देश भर में बेचने का बिजनेस करते थे ।

पुलिस के अनुसार उनके पास महिला जासूस रजनी  पंडित के पास पुख्ता सबूत है कि रजनी पंडित अपने पांच साथियों के साथ मिलकर लोगों के सीडीआर खरीदने और बेचने का काम करती हैं । मुंबई के ठाणे थाने के पुलिस अधिकारी का कहना है कि रजनी पंडित की इस रैकेट में भूमिका साफ हैं । जो लोग इस घोटले में मिले है वो देश में कहीं भी क्यों न छिपे हो उन्हें बख्सा नहीं जाएगा । खैर इन बातों से एक बात जरुर साबित हो गई कि इंसान कब बदल जाए कोई नहीं बता सकता

Don't Miss! random posts ..