ENG | HINDI

भारत के इन 8 प्रसिद्ध माता लक्ष्मी के मंदिरों से कोई नहीं लौटा है खाली हाथ !

माता लक्ष्मी के प्रसिद्ध मंदिर

माता लक्ष्मी के प्रसिद्ध मंदिर – कहते है कि धन की देवी माता लक्ष्मी जब भी अपने किसी भक्त पर प्रसन्न होती हैं तो फिर उसका जीवन सुख-संपत्ति और ऐश्वर्य से भर जाता है. माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने की अभिलाषा में अधिकांश भक्त उनकी पूजा-आराधना करते हैं.

धन-धान्य की देवी माता लक्ष्मी की पूजा-अर्चना तकरीबन हर घर में होती है.

अगर आप माता लक्ष्मी के भक्त हैं और उनकी कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो फिर आपको भारत के माता लक्ष्मी के प्रसिद्ध मंदिर के दर्शन जरूर करने चाहिए.

माता लक्ष्मी के प्रसिद्ध मंदिर –

1- दिल्ली स्थित लक्ष्मीनारायण मंदिर

देश की राजधानी दिल्ली में स्थित लक्ष्मी नारायण मंदिर को बिड़ला मंदिर के नाम से भी जाना जाता है. यह मंदिर भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी को समर्पित है. इस मंदिर को मूल रूप से सन 1622 में वीर सिंह देव ने बनवाया था और 1793 में पृथ्वी सिंह ने जीर्णोद्वार कराया था. जिसके बाद साल 1938 में बिड़ला समूह ने इसका विस्तार और पुनरोद्धार कराया.

2- मुंबई स्थित महालक्ष्मी मंदिर

मुंबई के समुद्री किनारे पर स्थित महालक्ष्मी मंदिर देखने में काफी सुंदर और मनमोहक है. कहा जाता है कि स्वयं माता लक्ष्मी ने एक ठेकेदार के सपने में आकर समुद्र से तीनों मूर्तियों को निकाल कर स्थापित करने को कहा था. इस महालक्ष्मी मंदिर में वही तीनों मूर्तियां महालक्ष्मी, महाकाली और महासरस्वती के रुप में स्थापित हैं. इन तीनों देवियों के दर्शन के लिए हर रोज दूर-दराज से आनेवाले भक्तों की भीड़ लगी रहती है.

3- कोल्हापुर स्थित महालक्ष्मी मंदिर

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में माता लक्ष्मी को अम्बाजी के नाम से पुकारा जाता है. कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण चालुक्य शासक कर्णदेव ने 7वीं शताब्दी में कराया था. मंदिर के गर्भगृह में माता लक्ष्मी की लगभग 40 किलो की प्रतिमा है जिसकी लंबाई चार फ़ीट है. मान्यता है कि इस मंदिर में आनेवाले भक्तों की झोली माता धन-धान्य से भर देती हैं.

4- जयपुर स्थित लक्ष्मीनारायण मंदिर

अगर आप माता लक्ष्मी के भक्त हैं तो फिर आपको जयपुर के लक्ष्मी नारायण मंदिर में एक बार जरूर जाना चाहिए. आपको बता दें कि इस मंदिर का निर्माण साल 1988 में बिरला परिवार ने करवाया था. विशाल परिसर में बना संगमरमर का यह मंदिर देखने में बेहद खूबसूरत और आकर्षक है. इस मंदिर के गर्भगृह में भगवान लक्ष्मीनारायण की बहुत ही मनमोहक मूर्ति स्थापित की गई है.

5- हैदराबाद स्थित अष्टलक्ष्मी मंदिर

हैदराबाद में माता लक्ष्मी का अष्टलक्ष्मी मंदिर स्थित है. दक्षिण भारत की वास्तु कला के आधार से बनाए गए इस मंदिर की खूबसूरती देखते ही बनती है. इस मंदिर में देवी लक्ष्मी 8 अलग-अलग रुपों में विराजमान है जिसके चलते इसकी अहमियत और भी ज्यादा बढ़ जाती है. आपको बता दें कि इस मंदिर को साल 1996 में आम भक्तों के लिए खोल गया था.

6- चेन्नई स्थित अष्टलक्ष्मी मंदिर

चेन्नई के समुद्री तट के पास स्थित अष्टलक्ष्मी मंदिर में माता लक्ष्मी के आठ अलग-अलग रुपों के दर्शन करने के लिए यहां भक्तों का तांता लगा रहता है. यह मंदिर देवी लक्ष्मी के आठ रुप वंश, सफलता, समृद्धि, धन, साहस, वीरता, भोजन और ज्ञान को समर्पित है. मंदिर में देवी लक्ष्मी के आठ स्वरुप 4 मंजिल में बने 8 अलग-अलग कमरों में स्थापित है.

7- चेन्नई स्थित लक्ष्मी कुबेर मंदिर

चेन्नई के वडलूर में लक्ष्मी कुबेर का एक अनोखा मंदिर स्थित है. यह मंदिर अनोखा इसलिए है क्योंकि इस मंदिर में धन के देवता कुबेर और धन की देवी माता लक्ष्मी एक साथ विराजमान हैं. आपको बता दें कि यह मंदिर करीब 4000 स्क्वायर फीट में बना हुआ है और इसको बनाने में लगभग 30 लाख रुपये की लागत लगी थी.

8- वेल्लूर स्थित लक्ष्मी नारायण मंदिर

तमिलनाडु राज्य के वेल्लूर से करीब 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित थिरुमलाई कोड़ी में यह स्वर्ण मंदिर स्थित है. इस लक्ष्मी नारायण मंदिर को बनाने के लिए 7 सालों का समय लगा और इसमें करीब 15,000 किलोग्राम विशुद्ध सोने का इस्तेमाल हुआ है. इस भव्य मंदिर को साल 2007 में आम भक्तों के लिए खोला गया था.

ये है माता लक्ष्मी के प्रसिद्ध मंदिर – माता लक्ष्मी के इन मंदिरों को लेकर मान्यता है कि इन मंदिरों में माता के दर्शन करनेवाले भक्त वहां से खाली हाथ नहीं लौटते हैं क्योंकि माता अपने भक्तों के जीवन को धन-धान्य से भर देती हैं.

Don't Miss! random posts ..