ENG | HINDI

स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी के बारे में यह 13 रोचक बातें आपको स्टैच्यू के अधिक करीब ले आएगी

स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी

न्यूयॉर्क सिटी में स्थित स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी, विश्व में प्रसिद्ध पर्यटन स्थान है। जहां आमतौर पर सैलानियों की भीड़ दिख ही जाएगी।

मगर यह जगह केवल पर्यटन स्थान ही नहीं बल्कि इसके अलावा स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से संबंधित कई महत्वपूर्ण जानकारियां है। जो स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी देखने में सैलानियों को प्रेरित करेगा।

तो आइए पढ़ते हैं स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी से संबंधित यह रोचक जानकारियां।

स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी

1 – स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी का निर्माण सन् 1886 में फ्रांस ने अमेरिका को अपनी मित्रता के रूप में दिया एक उपहार था।

2 – फ्रांसिसियों के मुताबिक, स्टैच्यू का डिज़ाइन फ्रांसीसी मूर्तिकार फ्रेडरिक अगस्त बार्थोल्दी ने तैयार किया था। हालांकि इसका निर्माण गुस्ताव एफिल ने किया था।

3 – फ्रांस से अमेरिका लाने में स्टैच्यू को 350 टुकड़ों में बांटा गया था और 214 संदूकों में भर कर अमेरिका पहुंचाया गया। जिसे मूर्ती का रूप देने में कई महीने लग गये थे।

4 – स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी, 22 मंजिला एक इमारत है। यह आधार से 22वें मंजिल तक 306 फुट व 6 इंच में बनी मूर्ती है। इसका कुल भार 226 टन अनुमानित है।

5 – मर्ती के मुकुट पर 7 किरण हैं जो दुनीया के महाद्वीपों का प्रतिनिधित्व करती है। हर किरण की लंबाई 9 फीट लंबी बतायी गयी है।

6 – ऐसा कहा गया है कि 1916 में प्रथम विश्व युद्ध के समय जर्मन सैनिकों की ओर से किए हमले में मूर्ती की मशाल क्षतिग्रस्त हो गई थी। इसके बाद मशाल की सीढ़ियों को बंद कर दिया गया। कई वर्षों के बाद सन् 1984 में तांबे की मशाल से क्षतिग्रस्त मशाल को बदल दिया गया था।

7 – स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी के शीर्ष तक पहुंचने में 355 सीढियां ही चढ़नी पडेगी। जो एकमात्र रास्ता है।

8 – इस मूर्ती को रोमन देवी लिबर्टस से प्रेरणा लेकर बनाया गया था। जो स्वतंत्रता की देवी के नाम से पहचानी गयी है।

9 – स्टैच्यू के बाएं हाथ में 23 फुट, 7 इंच लंबा एक नोटबुक है। जिस पर JULY IV MDCCLXXVI लिखा हुआ है।

स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी

10 – यह मूर्ती, लिबर्टी आइलैण्ड (LIBERTY ISLAND) टापू पर स्थित है।  जोकि पहले बेडलॉ आइसलैण्ड (BEDLOE’S ISLAND )कहा जाता था।

स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी

11 – स्टैच्यू से संबंधित एक रोचक तथ्य यह है कि तेज हवा के कारण मूर्ती 3 इंच तक और इसकी मशाल 5 इंच तक हिलने लगती है।

12 – इस स्टैच्यू के पांवों में पड़ी टूटी बेड़ीयां अत्याचार से मुक्ति को दर्शाती है।

स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी

13 –  यूनेस्को ने स्टैच्यू सन 1984 में विश्व विरासत स्थल घोषित किया था।

स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी की भव्यता के अलावा यह है वह महत्वपूर्ण जानकारियां, जिनके बारे में सैलानी आमतौर पर कम ही जानते हैं ।

Don't Miss! random posts ..