ENG | HINDI

धोनी से छीनने वाली है कप्तानी – सबसे पहले यंगिस्थान ने 23 दिसंबर को बता दिया था

धोनी की कप्तानी

बीसीसीआई के हवाले से खबर आ रही है कि भारतीय क्रिकेट टीम के सफल कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने वनडे और ट्वेंटी-20 से कप्तानी छोड़ दी है.

वैसे धोनी की कप्तानी  जाने की इस खबर की पुष्टि तो जनवरी 2017 में बोर्ड ने की है लेकिन यंगिस्थान के ख़ास सूत्रों ने 23 दिसंबर को ही बता दिया था कि धोनी को अब जल्द ही विराट कोहली की कप्तानी में खेलते हुए देखा जाएगा.

इससे पहले अधिकतर मीडिया घरानों ने धोनी की कप्तानी  छोड़ने की खबर की कोई ठोस पुष्टि नहीं की थी.

23 दिसम्बर को हमारे ख़ास बीसीसीआई सूत्रों और कुछ सीनियर खिलाड़ियों ने धोनी की कप्तानी  छोड़ने की बात की पूरी तरह से पुष्टि कर दी थी कि अब धोनी के हाथों से कप्तानी ली जाने वाली है.

यंगिस्थान ने 23 दिसंबर को इस शीर्षक से स्पेशल खबर चलाई थी- ‘महेन्द्र सिंह धोनी की कप्तानी पर हो गया फैसला!’. इस खबर में हमारे खेल संवाददाता ने लिखा था कि- ‘भारत को इंग्लैंड टेस्ट सीरीज में जीत दिलाकर कोहली ने इतिहास रच दिया है. अब उसके बाद बीसीसीआई ने जल्द ही कोहली को वनडे और ट्वेन्टी का कप्तान बनाने का आंतरिक मन बना लिया है. कोहली की कप्तानी में टीम इस समय मिलकर खेल रही है और उसका नतीजा यह हुआ है कि भारत टेस्ट में अब नंबर वन बन गया है.’

धोनी की कप्तानी – अब खत्म होने वाला है धोनी का करियर

इसके साथ ही आज हमारे कुछ खास बीसीसीआई सूत्रों ने यह भी बताया है कि धोनी का अभी कप्तानी छोड़ने का कोई मन नहीं था. धोनी आगामी चैम्पियन ट्राफी तक कप्तान बने रहना चाहते थे. किन्तु बोर्ड ने इस बार धोनी को साफ़ शब्दों में बोल दिया था कि आपको अब कप्तानी छोड़कर, अपने क्रिकेट करियर पर ध्यान देना चाहिए.

वैसे इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरिज से पहले, भारतीय टीम के अंदर कलह की बातें भी सामने आने लगी थीं. कई खिलाड़ी धोनी की कप्तानी में खेलना ही नहीं चाहते थे और यही कारण है कि बोर्ड अभी तक वनडे और ट्वेंटी की टीम का चयन नहीं कर पाया है.

कुंबले ने आखिर धोनी को मना ही लिया है

कुछ सीनियर खिलाड़ी ने नाम ना छापने कि शर्त पर हमको यह भी बताया है कि धोनी को कप्तानी छोड़ने के लिए मनाने का काम कोच अनिल कुंबले को दिया गया था. अनिल कुंबले ने जिस तरह से धोनी को विराट कोहली की कप्तानी में खेलने को मनाया है उसकी तारीफ की जा रही है.

कुंबले ने धोनी को अब अपने करियर के कुछ अच्छे मैच खेलने के लिए तैयार किया है.

तो इस तरह से अब साफ़ हो गया है कि भारत का अब तक का सबसे सफल कप्तान, अब बस एक खिलाड़ी की हैसियत से ही टीम का हिस्सा होगा. खेल के मैदान से अब धोनी के संन्यास के ऊपर भी बातें की जा रही हैं. धोनी की अग्नि परीक्षा वैसे इंग्लैंड के खिलाफ वनडे और ट्वेंटी-20 से शुरू होने वाली है.

Don't Miss! random posts ..