ENG | HINDI

आखिर क्यों रेस्टोरेंट में लड़के लड़कियों के सामने नहीं बल्कि बगल में बैठते हैं?

लड़के लडकियों के बगल में बैठते है

लड़के लडकियों के बगल में बैठते है  – अक्सर आपने देखा होगा कि बाहों में बाहें डाले दो प्रेमी जोड़े अक्सर बड़े खुश नज़र आते हैं.

चाहे ट्रेन हो, बस या फिर रिक्शा, बॉयफ्रेंड अपनी गर्लफ्रेंड को अकेला नहीं छोड़ता. वो उसे एक तरह से कवर करके रखता है. आमतौर पर जब ये दोनों पार्क में भी बैठते हैं तो बॉयफ्रेंड इस बात का ध्यान रखता है कि उसका पूरा हाथ गर्लफ्रेंड के कंधे पर हो.

लड़कियां ऐसा कुछ नहीं करतीं, लेकिन लड़के इस तरह की हरकत किये बिना नहीं रह पाते.

होटल में जब भी कपल खाने के लिए जाते हैं तो वो सबसे पहले कोने वाली सीट देखते हैं.

अगर वो सीट खाली है तो वो उस होटल में जाते हैं, वरना दूसरे होटल में चले जाते हैं. ये बात लड़कियों से ज्यादा लड़के देखते हैं. असल में उन्हें अपनी गर्लफ्रेंड के साथ किसी और को देखना पसंद नहीं.

वो सोचते हैं कि उनकी गर्लफ्रेंड को सिर्फ वो ही देखें. और कोई उसे देख न पाए, इतना ही नहीं वो इस बात का भी ध्यान रखते हैं कि उनके आसपास कोई हसीन कुड़ी हो तो उनकी नज़र उसपर ज़रूर जाए, लेकिन उनकी प्रेमिका को कोई और न देख पाए.

होटल में बैठते वक्त लड़की चाहती है कि लड़का उसके सामने वाली सीट पर बैठे, लेकिन लड़का ऐसा नहीं करता. लड़के लडकियों के बगल में बैठते है. वो उसी सीट पर बैठता है. वो अपनी गर्लफ्रेंड के पास चिपक कर बैठता है. वो एक भी पल बर्बाद नहीं करना चाहता. इसी सिलसिले में हमने एक कॉलेज गोइंग कपल से पूछा, तो उनका जवाब सुनकर हंसी आ गई.

लड़के लडकियों के बगल में बैठते है  – लड़के ने कहा कि बड़ी मुश्किल से लड़की पटती है.

ऐसे में जहाँ होटल में इतने लोग रहते हैं, तो हम लड़के यही सोचते हैं कि सारी लोग ये सोचें कि ये लड़की बहुत पहले से मेरी गर्लफ्रेंड है. हम दोनों कमिटेड हैं. एक लड़के ने तो कहा कि जब हम लड़कियों पर इतना खर्च करते हैं तो हमें एक एक पल का आनंद उठाना चाहिए.

होटल में खर्च करें हम और देखे कोई और ये कैसे हो सकता है.

एक कपल ने कहा कि ऐसा वो इसलिए करते हैं क्योंकि उन्हें साथ बिताने का समय नहीं मिलता.

दोनों कॉलेज में भी इस तरह से नहीं बैठ सकते. पार्क में इस तरह से बैठने पर बाक़ी लोग कमेन्ट करते हैं तो अच्छा नहीं लगता. ऐसे में एक यही जगह मिलती है जब हम दोनों एक दूसरे को महसूस कर सकते हैं. उसकी बगल में बैठकर उसके बालों की खुशबू, उसके हाथों का एहसास और सांसों को महसूस करने के लिए बगल में बैठना पड़ता है.

लड़के लडकियों के बगल में बैठते है  क्योंकि सामने बैठकर हम ये सब महसूस नहीं कर सकते.

होटल की टेबल पर हमें कोई नहीं जानता.

जब हम एक-दूसरे के इतने करीब होते हैं तो बाकी लोगों का ध्यान भी नहीं रखते. तब हम भूल जाते हैं कि भला हमें कोई देख रहा है या घूर रहा है. वहां के वेटर को ये सब की आदत होती है, इसलिए वो परेशान नहीं करते. समय समय पर सिर्फ हमसे खाने का पूछ लेते हैं.

लड़के लडकियों के बगल में बैठते है  – तो अब आई बात समझ में कि कपल होटल में इस तरह से क्यों बैठते हैं? ये उनका बेहद हसीन प्यार है, जो उन्हें ऐसा करने के लिए कहता है.

 

Don't Miss! random posts ..