ENG | HINDI

बस मौत तो छोड़कर हर मर्ज की दवा है ये औषधि

हर मर्ज की दवा

आपके और हमारे घर में कलौंजी तो होता ही होगा ही… है ना, लेकिन क्या आप जानते है ये कलौंजी हर मर्ज की दवा है।

कलौंजी मसाला तो है ही लोकिन साथ ही साथ ये एक गुणकारी औषधि भी है। ये मौत को छोड़कर बाकी सभी बीमारी को मात दे सकता है…कलौंजी के इसी गुण के वजह से सालों से इसका उपयोग आयुर्वेदिक औऱ यूनानी दवाओं को बानाने में किया जा रहा है।

कलौंजी में आयरन, पोटेशियम, सोडियम, फाइबर, कैल्शियम, प्रोटीन जैसे कई प्रमुख गुण है जिसमें एमिनो एसिड इत्यादि भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। अनगिनत बिमारियों को ठिक करने वाले इस गुणकारी कलौंजी को मंगरैला के नाम से भी जाना जाता है।

तो आईए जान लेते है कि कलौंजी, हर मर्ज की दवा, से होने वाले चमत्कारी फायदें के बारे में-

हर मर्ज की दवा – कलौंजी

हर मर्ज की दवा

१ – कलौंजी करें खून की कमी को खत्म

कलौंजी में आयरन औऱ फोलिक एसिड दोनों ही भरपूर मात्रा में होता हैं, जिसके कारण इसके उपयोग से शरीर में खून की कमी की समस्या खत्म हो जाती है।

इसके लिए, एक कप पानी में 50 ग्राम हार पुदीना को उबाल लें और इसमें कलौंजी के तेल का आधा चम्मच मिलाकर रोज सुबह खाली पेट औऱ रात को सोने से पहले पियें। इसका उपयोग रोज लगभग 15 से 20 दिनों तक करें।

२ – कलौंजी से होती है पेट की समस्या दूर

पेट की सभी समसयाओं में भी कलौंजी का कोई मुकाबला नहीं कर सकता। कलौंजी, अजवाइन, जीरा को बराबर मात्रा में पीसकर इस चूर्ण का एक चम्मच खाना खाने के बाद सादे पानी के साथ लेने से पेट का गैस खत्म होता है। इसके अलावा, आधा चम्मच कलौंजी के तेल को एक गिलास हल्का गर्म दूध में चीनी 5 ग्राम औऱ सोनामुखी 4 ग्राम के साथ मिलाकर पीने से कब्ज की समस्या दूर हो जाएगी। पेट में हो रहें दर्द में भी एक गिलास नींबू पानी में 2 चम्मच शहद और आधा चम्मच कलौंजी का तेल मिलाकर सुबह शाम पीने से दर्द की शिकायत दूर होगी।

३ – कलौंजी रक्तचाप निसंत्रित रखने में भी मदद करती है

रक्तचाप को सामान्य बनाए रखने में भी कलौंजी बहुत ही मददगार है। रोज सुबह शाम एक कप पानी में आधा चम्मच कलौंजी क तेल मिलाकर पीने से रक्तचाप सामान्य बना रहता है। कलौंजी को एक कप बकरी के दूध में मिलाकर लगातार 7 दिनों तक पीने से ह्रदय मजबूत बनता है औऱ हार्ट अटैक का खतरा बहुत ही कम हो जाता है।

४ – कलौंजी से दमा सरदर्द और सर्दी होती है छू मंतर

दमा के रोग में आधा चम्मच कलौंजी के तेल को दो चम्मच शहद मिलाकर पीने से आराम मिलता है। साथ ही आधा चम्मच कलौंजी के तेल को एक चम्मच घी औऱ चुटकी भर नमक मिलाकर छाती औऱ गले पर मालिश करने से भी दमा में राहत मिलती है। साथ ही कलौंजी को गर्म करके कपड़े में बांध कर सूंघने से सरदर्द दूर होता है, सर्दी जुखाम से राहत मिलती है।

५ – कलौंजी से पीलिया, अनिद्रा, बवासीर भी होता है ठिक

आधा चम्मच कलौंजी के तेल को एक कप दूध में मिलाकर रोज सुबह खाली पेट और रात को सोने से पहले एक सप्ताह तक पीने से पीलिया ठीक होता है। रोज रात को सोने से पहले आधा चम्मचल कलौंजी के तेल को एक चम्मच शहद में मिलाकर पीने से नींद अच्छी आती है और अनिद्रा की समस्या दूर जाती है।

६ – कलौंजी से बालों औऱ चेहरो की हर समस्या से मुक्ती मिलती है

कलौंजी के तेल से रोजाना सिर की मालिश करने से बालों की सभी समस्याएं खत्म हो जाती है। कलौंजी को हेयर ऑयल में मिलाकर नियमिल रुप से सर की मालिश करने से गंजापन दूर होगा। बाल फिर से उगेंगे। कलौंजी के तेल को नारियल तेल में मिलाकर लगाने से त्वचा के विकार फोड़े फूंसी मुहांसे शुष्क त्वाचा से छुटकारा मिलता है।

ये है हर मर्ज की दवा – बस ध्यान रखें की कलौंजी का उपयोग बहुत अधिक मात्रा में ना करें और गर्भवती महिलाएं इन सभी उपयोगों को नजर अंदाज करें।

Don't Miss! random posts ..