ENG | HINDI

पहली बार एम्स की तीन टॉपर रहीं लड़कियां

टॉपर लड़कियां

टॉपर लड़कियां –  ‘म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के’ …

आमिर खान की फिल्म ‘दंगल‘ की यह टैगलाइन ना जाने कब पूरे देश की टैगलाइन बन गई किसी को मालूम ही नहीं चला। अब लड़कियां जहां भी कुछ अच्छा काम करती है या किसी परीक्षा में टॉप करती है तो यही टैगलाइन चिपकाई जाती है। खुद आमिर खान ने भी नहीं सोचा होगा कि उनकी फिल्म का ये टैगलाइन इतना फेमस होगा।

खैर इस फिल्म पर बात कभी और करेंगे। क्योंकि आज की बात कुछ खास है। आज हम बात करने वाले हैं इस साल के एम्स के रिजल्ट के बारे में जो कुछ ही दिन पहले घोषित हुए हैं। इस परीक्षा का परिणाम बार-बार देश के हर परिवार को यह टैगलाइन बोलने पर मजबूर कर रहा है कि ‘म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के’ …।

बिल्कुल भी नहीं। म्हारी देश की छोरियां, छोरों से बिल्कुल भी कम नहीं है। इनफेक्ट यह कहें कि वे छोरों से आगे निकल रही हैं तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी।

टॉपर लड़कियां –

टॉपर लड़कियां

एम्स एमबीबीएस प्रवेश परीक्षा के परिणाम

हर परीक्षा की तरह एम्स के भी टॉपर की लिस्ट अनाउंस हुई और जब यह लिस्ट अनाउंस हुई तो सबके होश उड़ गए। क्योंकि इस बार की परीक्षा के तीनों टॉपर लड़कियां रही हैं। देश में कुल नौ एम्स हैं जिनमें हर साल दाखिले के लिए के एम्स एमबीबीएस नाम से प्रवेश परीक्षा होती है। सामान्य तौर पर अब तक इस परीक्षा में लड़कों का दबदबा रहा है। लेकिन इस दबदबे को तोड़ते हुए इस साल लड़कियों ने नया रिकार्ड बनाया है। इस बार की तीनों टॉपर्स लड़कियां हैं।

नई दिल्ली एम्स ने परिणाम घोषित किए हैं। इस परिणाम में 800 सीटों पर दाखिले के लिए 7617 अभ्यर्थी सफल हुए हैं, जिनमें से लड़कों की संख्या 4912 है।

एलिजा बनी टॉपर

टॉपर लड़कियां

इस परीक्षा में 100 पर्सेंटाइल स्कोर के साथ टॉप करने वाली एलिजा पंजाब के संगरूर की रहने वाली हैं। पंजाब की ही रमनीक कौर महल ने दूसरा स्थान हासिल किया है। तीसरी टॉपर महक अरोड़ा हरियाणा की है। चौथे नम्बर से लड़कों का खाता खुलता है और पंजाब के रहने वाले मनराज सरा चौथे नम्बर पर रहते हैं। इन चारों स्टूडेंट्स ने 100 पर्सेंटाइल अंक हासिल किए, लेकिन बायोलॉजी में 100 पर्सेंटाइल स्कोर करने पर एलिजा को टॉपर घोषित किया गया है।

बिहार की कल्पना रहीं 72वें स्थान पर

टॉपर लड़कियां

इस परीक्षा परिणाम में बिहार की कल्पना ने अपने लिए 72वां स्थान सेफ किया है। गौरतलब है कि कल्पना नीट में देश भर में पहले स्थान पर रही थीं। इस बार बिहार के कुछ और छात्रों ने भी अपने लिए एम्स में जगह पक्की की है। पटना के अनीश कुमार ने 146वें और अरवल के आशीष वैभव 193वें स्थान पर रहे। बिहार के अक्षर कांत को एससी कैटेगरी में 50वां और आस्था प्रिया को ओबीसी में 270वां रैंक मिला है।

टॉपर एलिजा को बनना है कार्डियोलॉजिस्ट

टॉपर लड़कियां

परीक्षा में टॉप करने वाली एलिजा को कार्डियोलॉजिस्ट बनना है। उन्होंने इसके लिए नौवीं कक्षा से ही तैयारी शुरू कर दी थी। इन्होंने नीट परीक्षा में 196वीं रैंक हासिल की है। वह कोचिंग के लिए सप्ताह में 5 से 6 दिन रोजाना डेढ़ घंटे का सफर कर गांव कला से पटियाला जाती थीं। इसके अलावा वे घर पर रोज 8 घंटे पढ़ाई करती थीं। एंट्रेस एक्जाम की तैयारी के दौरान उन्होंने इंटरनेट यूज़ तक करना बंद कर दिया था। वे कहती हैं कि “मैंने काफी कठिन तैयारी की। लेकिन मुझे टॉप करने का विश्वास नहीं हो रहा है। मैं खुश हूं।”

एलिजा जी, आपके साथ देश भी खुश है। आप ऐसे ही मेहनत करते रहें और देश का नाम रोशन करते रहें।

ये है एम्स की तीन टॉपर लड़कियां –

Don't Miss! random posts ..