ENG | HINDI

कौन है वह 33 करोड़ देवी-देवता जिनकी पूजा करते हैं हिन्दू

33 करोड़ देवी-देवता

33 करोड़ देवी-देवता – हिंदू धर्म बहुत विस्‍तृत है और इसमें अनेक देवी-देवताओं का पूजन किया जाता है। किसी देवता की पूजा शुभता के लिए की जाती है तो किसी देवी को धन कामना की पूर्ति के लिए पूजा जाता है।

हिंदू धर्म में प्रत्‍येक त्‍योहार एवं व्रत पर अलग-अलग देवी-देवताओं की पूजा होती है।

33 करोड़ देवी-देवता

हिंदुओं में 33 करोड़ देवी-देवता हैं जिनको पूजा जाता है। कुछ लोग इनका संबंध ऋग्‍वेद से बताते हैं तो कुछ इन्‍हें स्‍वामी विवेकानंद के एक कथित कथन से जोड़ते हैं। इस कथन में कहा गया था कि देश के सभी 33 करोड़ देशवासियों को देवता मानकर निस्‍वार्थ भाव से मानवता और देश की सेवा करनी चाहिए।

33 करोड़ देवी-देवता

कल्‍पना हैं 33 करोड़ देवी-देवता

वास्‍तव में यह मात्र एक कोरी कल्‍पना है और सत्‍य में ऐसा कुछ भी नहीं है। हिंदू धर्म में 33 करोड़ देवी-देवताओं के होने की बात कही जाती है और ऐसा माना जाता है कि प्राचीन काल से असंख्‍य देवी-देवताओं को पूजन की परंपरा चली आ रही है। इस संबंध में हर कोई यही जानना चाहता है कि क्‍या वाकई में हिंदू धर्म में 33 करोड़ देवी-देवताओं का अस्तित्‍व है या नहीं।

33 करोड़ देवी-देवता

क्‍या है सत्‍य

संस्‍कृत में कोटि शब्‍द के दो अर्थ होते हैं जिसमें एक अर्थ है प्रकार और दूसरा है करोड़। देवताओं की इन 33 कोटि में आठ वसु, ग्‍यारह रुद्र, बारह आदित्‍य, इंद्र और प्रजापति शामिल हैं। वहीं 12 आदित्‍य – अंशुमान, आर्यमन, इंद्र, त्‍वष्‍टा, धातु, पर्जन्‍य, पूषा, भग, मित्र, वरुण, वैवस्‍त और विष्‍णु हैं। 8 वसुओं में – आप, धुव्र, सोम, धर, अनिल, अनल, प्रत्‍यूष और प्रभाष शामिल हैं। इसके अलावा 11 रुद्र हैं जिनमें मनु, मन्‍यु, शिव, महत, ऋतुध्‍वज, महिनस, उम्रतेरस, काल, वामदेव, भव और धृत ध्‍वज शामिल हैं। 2 अश्विनी – अश्विनी तथा कुमार। इस प्रकार 12 आदित्‍य और 8 वसु और 11 रुद्र और 2 अश्विनी कुमारों को मिलाकर 33 करोड़ देवी-देवता कहे जाते हैं।

हिंदू धर्म में अनेक देवी-देवताओं की पूजा होती है। आपने भी देखा होगा कि यहां पर हर व्रत और त्‍योहार पर अलग देवी या देवता को पूजा जाता है और इनकी संख्‍या इतनी ज्‍यादा है कि इनका नाम और रूप ध्‍यान में रखना बहुत मुश्किल होता है। स्‍वयं मा दुर्गा के नौ रूप हैं और फिर भगवान शंकर ने भी अनेक रूप धारण किए हैं।

भगवान विष्‍णु की बात की जाए तो वो अब तक धरती पर 10 अवतार ले चुके हैं और उनकी तरह ना जाने कितने देवी-देवताओं के अवतार और रूप होंगें। शायद अगर इन सबको मिला दिया जाए तो 33 करोड़ देवी-देवता बनते हैं।

हिंदू धर्म को मानने वाला हर व्‍यक्‍ति इस बात पर विश्‍वास करता है कि 33 करोड़ देवी-देवताओं का अस्तित्‍व है और उन्‍हें पूजा जाताज है। इसकी मान्‍यता के लिए हमें किसी सबूत की जरूरत नहीं है।

ईश्‍वर की आराधना से जीवन की कई समस्‍याएं दूर हो सकती हैं और अगर आप सच्‍चे मन से उन्‍हें याद करते हैं तो निश्‍चित ही आपके सारे कष्‍ट दूर हो जाएंगें और आपका जीवन सुखी और संपन्‍न होगा।

Don't Miss! random posts ..