ENG | HINDI

वैज्ञानिकों के मुताबिक आने वाली पीढ़ी दारू की जगह ये चीज़ पीयेगी!

सिंथेटिक अल्कोहल

सिंथेटिक अल्कोहल – ऐसा कहा जाता है कि दुनिया में जब से इंसानों का अस्तित्व है तब से ही उसने नशा करने के कई तरीके भी खोज रखे है.

इतिहास में कई तरह के नशा करने की चीजों का उल्लेख मिलता है. वैसे हमारे समाज में कई तरह के नशा करने वाले मादक पदार्थों का प्रचलन है जिनमे शराब, व्हिस्की, रम, बीयर, महुआ और हंडिया आदि है इन सभी नशीली चीजों को एक तरह से सामाजिक मान्यता प्राप्त मादक पदार्थ माना गया है.

लेकिन इसके अलावा भी कई ऐसे अवैध पदार्थ है जिनका प्रचलन भी है जिसमें भांग, गांजा, चरस, हेरोइन, ब्राउन सुगर और कोकिन आदि आते है इन सभी मादक पदार्थों को सामाजिक मान्यता नहीं है.

हालाँकि आज हम आपको नशा करने की चीजों के बारे में नहीं बल्कि भविष्य में उपयोग होने वाले मादक पदार्थो के बारे में जरुरी जानकारी बताने जा रहे है.

दरअसल कई सालों से रिसर्च कर रहे वैज्ञानिकों का मानना है कि हमारी आने वाली पीढ़ी आज के जैसे डायरेक्टली अल्कोहल का सेवन नहीं करेगी बल्कि वह सिंथेटिक अल्कोहल का सेवन करेगी.

इस सिंथेटिक अल्कोहल को पीने का असर तो वैसा ही होगा लेकिन ये स्वास्थ्य के लिए बिलकुल भी हानिकारक नहीं होगी.

जी हाँ फिलहाल इंसान जिस अल्कोहल का सेवन कर रहा है उसके कई हानिकारक प्रभाव हमारे शरीर पर पड़ते है, लेकिन आने वाले समय में जिस सिंथेटिक अल्कोहल की बात की जा रही है उसके असर तो आज की मौजूदा अल्कोहल जैसे ही होंगे लेकिन इसके कोई हानिकारक प्रभाव शरीर पर नहीं पड़ेंगे.

मशहूर प्रोफेसर और वैज्ञानिक David Nutt ने अभी हाल ही में ये बताया है कि भविष्य में सिगरेट और तम्बाकू की जगह ई-सिगरेट ले लेगी, और ये बदलाव आने में दुनिया में ज्यादा समय नहीं लगेगा बस 10 से 20 सालों के बाद ही आपको लोग सिंथेटिक अल्कोहल और ई-सिगरेट का सेवन करते हुए दिखाई देने लगेंगे. आपको बता दें कि जिस तरह हर फिल्ड में इनोवेशन हुए है उसी तरह अल्कोहल को लेकर भी कई तरह के प्रयोग किये जा रहे है और इनमे से कई प्रयोग सफल भी हुए. दरअसल एक समय था जब लोग महुआ और ताड़ी का सेवन करके नशा किया करते थे लेकिन इसकी जगह धीरे व्हिस्की और रम ने ले ली उसी तरह आने वाले समय में भी अल्कोहल की जगह हमें सिंथेटिक अल्कोहल देखने को मिलेगी. इस सिंथेटिक अल्कोहल से शरीर को किसी भी तरह के नुकसान नहीं होंगे लेकिन इसका नशा वैसा ही रहेगा जैसा आज के समय में अल्कोहल का होता है.

सिंथेटिक अल्कोहल

खबरों के मुताबिक सिंथेटिक अल्कोहल का चलन सबसे पहले वेस्टर्न सोसाइटीज में देखने को मिलेगा. यहाँ पर आने वाले समय में Alcosynth ही अधिकतर लोगों द्वारा पसंद किया जायेगा. प्रोफ़ेसर Nutt इसके लिए लगातार प्रयास कर रहे है वे इसके लिए अपने वेंचर ‘Alcarelle’ के तहत 12 मिलियन डॉलर का निवेश करने जा रहे है ताकि दुनिया का इस सिंथेटिक अल्कोहल से परिचय करवा सके. बताया जा रहा है कि ये सिंथेटिक अल्कोहल सबसे पहले ब्रिटेन, अमेरिका, यूरोप और कनाडा का बाज़ारों में पहुंचेगी.

Don't Miss! random posts ..